आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

फूल.....

21 मार्च 2017   |  सौम्य स्वरूप नायक

फूल.....


कितना दर्द सहते हो तुम फूल ,

कांटों मे भी मुस्कुराते हो तुम फूल ,

महक से दिलों में खुशी लाते तुम फूल ,

प्रक्रुति को अपने रंगों से,

किसी नई दुल्हन सी सजाते तुम फूल । ॥1॥



चाहे आए गर्मी जाड़ा या तूफ़ान कोई ,

न तुम लडखड़ाते हो ,

भौंरे तितली चुसे तुमको ,

फिर भी प्यार उन पर लुटाते हो ,

बन माला -गुलदस्ता प्यार तुम बाँटते हो ,

जीवन के हर दुख में खिले रहने का पाठ ,

बिन कहे हमें पढ़ा दिए जाते हो । ॥2॥

- सौम्य स्वरूप नायक

सम्बलपुर , ओडिशा


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x