2017-03-22

25 मार्च 2017   |  अमितेश मिश्र   (41 बार पढ़ा जा चुका है)

यादों का जो मौसम आया लगता बड़ा सुहाना है
सांझ- सवेरे मेरे घर में उनका आना जाना है
पहली बार मिले क्या उनसे,हम उनके ही हो बैठे-
जैसे लगता मेरा उनका रिश्ता बड़ा पुराना है
कवि:- पं दिनेश्वर नाथ मिश्र

अगला लेख: इतना तो फिर भी काबिल-ए-बर्दाश्त था लेकिन एक फेसबुक प्रोफाइल ने तो कमाल कर दिया !!! आप हँस न दे तो कहिएगा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मार्च 2017
सादर नमन, शहीदी दिवस
25 मार्च 2017
25 मार्च 2017
Earn Talktime App से पैसे कैसे कमाएँ ? प्रतिदिन 1500 रूपए कमाएँ !
25 मार्च 2017
25 मार्च 2017
देखें विडियो
25 मार्च 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
25 मार्च 2017
25 मार्च 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x