2017-03-22

25 मार्च 2017   |  अमितेश मिश्र   (36 बार पढ़ा जा चुका है)

यादों का जो मौसम आया लगता बड़ा सुहाना है
सांझ- सवेरे मेरे घर में उनका आना जाना है
पहली बार मिले क्या उनसे,हम उनके ही हो बैठे-
जैसे लगता मेरा उनका रिश्ता बड़ा पुराना है
कवि:- पं दिनेश्वर नाथ मिश्र

अगला लेख: इतना तो फिर भी काबिल-ए-बर्दाश्त था लेकिन एक फेसबुक प्रोफाइल ने तो कमाल कर दिया !!! आप हँस न दे तो कहिएगा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मार्च 2017
हम इन अमर शहीदों को #श्रद्धांजलि देते हुए इनके जीवन के कुछ अनसुने पहलुओं को उजागर करने जा रहे हैं जिनके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं
25 मार्च 2017
25 मार्च 2017
ये तस्वीरें बयान करती हैं इनका अलग अंदाज़ !!!
25 मार्च 2017
25 मार्च 2017
बहुत अच्छा लगता है ये सुनकर कि कोई तो है जो जरूरतमंद लोगों की मदद को अपनी जरूरत समझता है ! इसे #शेयर करें
25 मार्च 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x