जो दिल तुझे दे दिया

13 अप्रैल 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (80 बार पढ़ा जा चुका है)

जो दिल तुझे दे दिया

वो किसी और से लगाऊँ कैसे

जो पल तेरे नाम किए

उन्हें किसी और के साथ बिताऊँ कैसे

जो साँसे जुड़ी है तुझ से

उन्हें किसी और को दे दूँ कैसे

जिन आँखों में बसी हो तुम

उन्मे किसी और को बसाऊँ कैसे

जिस ज़ुबान पर हो तेरा नाम

उस पर किसी और का ज़िक्र लाऊँ कैसे

जो जीवन कर दिया नाम तेरे

वो कर दूँ किसी और के नाम कैसे

अगला लेख: बस है यही दुआ



बेहतरीन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 अप्रैल 2017
इस दुनिया से नहीं है लड़ाई मेरीख़ुद से ही एक द्वन्द है कभी भीतर के कौतुहल से तो कभी बेचैनी और घबराहट से कभी बीते हुए कल से तो कभी आज से तो कभी आने वाले कल से कभी दिल की दिमाग़ से तो कभी विचारों की भावनाओं से कभी ख़्वाबों की हक़ीक़त से बस होता रहता टकराव है कभी हार कर भी जीत हैतो कभी जीत कर भी हार है
26 अप्रैल 2017
15 अप्रैल 2017
कविता के गाँव मेंकविता के गाँव मेंकई तरह की कलम उगी थीकोई फूली थी कोई पचकी थीकोई स्याही में डूबी थीकोई लिखकर टूटी थीप्राचीन नदी के किनारेएक प्राचीन कुटी थीअबूझ भाषाओँ की चीखसमय के जंगल में गूंजी थीसूने कान में आवाजों के डोरेसूत्र बन जिह्वा पर बोलेध्वनि के चित्र खोलेकविता विचित्र होसंतप्त जीवन कीआह्ल
15 अप्रैल 2017
13 अप्रैल 2017
रि
रिश्तों की पहचान सब को हैफिर भी इनकी समझ कितनो को है रिश्तों से उम्मीद सब को है फिर भी इन्हें निभाते कितने हैं रिश्तों में मिठास की ज़रूरत सबको है फिर भी इनमे मिठास घोलते कितने हैं रिश्तों की कड़वाहट लगती बुरी सब को है फिर भी इसे ख़त्म करने की कोशिश करते कितने हैं रिश्तों से ज़िंदगी बेहतर बनाने की
13 अप्रैल 2017
18 अप्रैल 2017
उम्मीद की एक किरणहर बारदिल के दरवाजे परजाने किस झरोखे सेकुछ यूँ झांकती हैके कुछ पल के लिए ही सहीचेहरे पे ख़ुशी की झलकसाफ दिखाई देती है,मन खुश होता है,दिल खुश होता है,फिर जाने कैसेचिंताओं की परछाईउस किरण के सामनेआ जाती हैसब दूर अँधेरा छा जाता हैदिल डूब जाता है।धीरे धीरे लड़खड़ाती सीफिर गुम हो जाती हैवो
18 अप्रैल 2017
21 अप्रैल 2017
तै
चाँदनी रात में सब साथ होते हैंअंधेरे में मगर, परछाईं भी साथ छोड़ देती है इसलिए तनहा जीने को तैयार रहता हूँ कहने को हमसफ़र हैं कईकौन किस मोड़ पर मगर, साथ छोड़ देइसलिए सफ़र ज़िंदगी का अकेले ही काटने को तैयार रहता हूँ दिलों जान से चाहने वाला दिलबर भी है ना जाने मगर, किस बात पर दिल तोड़ दे इसलिए, दिल के
21 अप्रैल 2017
18 अप्रैल 2017
स्व-वित्त पोषित संस्थान में जो विराजते हैं ऊपर के पदों पर, उनको होता है हक निचले पदों पर काम करने वालों को ज़लील करने का, क्योंकि वे बाध्य नहीं है अपने किये को जस्टिफाई करने के लिए . स्व-वित्त पोषित संस्थान में आपको नियुक्त किया जाता है, इस शर्त के साथ कि खाली समय में आप सहयोग करेंगे संस्थान के अन्
18 अप्रैल 2017
25 अप्रैल 2017
बस है यही दुआ उस ख़ुदा से कितेरे आँसू बहे मेरी आँखों से तेरा दर्द महसूस हो मुझे तेरा हर ग़म मिल जाए मुझे मेरे होठों की मुस्कान हो तेरे चेहरे पर मेरी क़िस्मत में लिखी ख़ुशी पर तेरा इख़्तियार हो मेरी शोहरत पर लिखा तेरा नाम हो बस है यही दुआ उस ख़ुदा से २३ अप्रेल २०१७बॉज़ल
25 अप्रैल 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x