आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

जब भी तुम रूबरू होते हो

13 अप्रैल 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)

कोशिश बहुत की हैं

तुम्हें भुलाने की मगर

जब भी तुम रूबरू होते हो

बीते पल, सुहानी यादें

ताज़ा हो जाती हैं

कुछ ज़ख़्म हरे हो जाते हैं

कुछ नए मिल जाते हैं

मुस्कुरा कर इन्हें छुपा तो लेता हूँ

मगर, दर्द पानी बन छलक जाता है

ख़ुशी के आँसु हैं कह कर

दुनिया को बहकाता हूँ

दोस्त मगर समझ जाते हैं

जब भी तुम रूबरू होते हो


१८ फ़रबरी २०१७

पेरिस


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x