आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

गुजरात: फीस नहीं भरने पर स्कूल ने सात साल के बच्चे को बनाया बंधक

16 अप्रैल 2017   |  जैन उत्तम

 गुजरात: फीस नहीं भरने पर स्कूल ने सात साल के बच्चे को बनाया बंधक

सूरत: गुजरात के सूरत शहर में एक प्राइवेट स्कूल पर एक बेहद ही सनसनीखेज आरोप लगा है, जिसमें स्कूल ने फीस बकाया होने की वजह से एक 7 साल के बच्चे को बंधक बना लिया. मामला पुलिस तक पहुंचा जिसके बाद छात्र को छुड़ाया गया. गुजरात सरकार ने प्राइवेट स्कूलों की फीस पर नियंत्रण लाने के लिए हाल ही में बड़ी-बड़ी बातें की थी, मगर सरकार की इन बातों का इस प्राइवेट स्कूल ने हवा निकाल दी है.
सात साल के दिव्येश सूरत के उमरा इलाके में पीआर खाटीवाला स्कूल की सीनीयर केजी क्लास में पढ़ते हैं. इनके माता पिता का आरोप है कि स्कूलवालों ने फीस बकाया होने की वजह से दिव्येश को बंधक बना लिया था. इनके मुताबिक स्कूल वालों का कहना था कि जब तक वो अपने बच्चे की बकाया फीस नहीं भरेंगे तब तक वो उनके बच्चे को नहीं छोड़ेंगे.

जब स्कूल ने बच्चे को नहीं छोड़ा तो दिव्येश ने पुलिस की मदद ली. पुलिस फ़ौरन हरकत में आई और स्कूल पहुंच कर दिव्येश को स्कूलवालों के चंगुल से मुक्त करवाया. स्कूल प्रबंधन ने बच्चे को बंधक बनाने के आरोपों के सिरे से खारिज किया है.

हाल ही में गुजरात में स्कूल फीस को नियंत्रण में रखने के लिए कानून पास हुआ है. ऐसे में इस तरह की खबरों के सामने आने से साफ है कि अभी भी जमीनी स्तर पर सब कुछ ठीक नहीं है.

विद्रोही आवाज समाचार : गुजरात: फीस नहीं भरने पर स्कूल ने सात साल के बच्चे को बनाया बंधक, पुलिस ने छुड़ाया

उत्तम विद्रोही .. सनसनी रिपोर्ट

https://vidrohiawaznews.blogspot.in/2017/04/blog-post_16.html

 गुजरात: फीस नहीं भरने पर स्कूल ने सात साल के बच्चे को बनाया बंधक

जैन उत्तम
26 अप्रैल 2017

जी रेणु जी बड़ी विडंबना है स्वतंत्रता प्राप्ति के इतने वर्षो के बाद आज वर्तमान की हालत देखी जाए तो शिक्षा आज उद्योग बन गया है जो बहुत निंदनीय है ।

जैन उत्तम
26 अप्रैल 2017

जी रेणु जी बड़ी विडंबना है स्वतंत्रता प्राप्ति के इतने वर्षो के बाद आज वर्तमान की हालत देखी जाए तो शिक्षा आज उद्योग बन गया है जो बहुत निंदनीय है ।

रेणु
17 अप्रैल 2017

बहुत दुखद खबर है और शिक्षा तंत्र के प्रति निराशा पैदा करने वाली है |

जी, सहमत हूँ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न