यहाँ महिलाओं की स्थिति को जानने के बाद, शायद आप ये नहीं कहेंगे कि ‘देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है’

18 अप्रैल 2017   |  प्रियंका शर्मा   (334 बार पढ़ा जा चुका है)

यहाँ महिलाओं की स्थिति को जानने के बाद, शायद आप ये नहीं कहेंगे कि ‘देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है’

मेरा देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है' ये तो आपने देखा और सुना ही होगा. इस स्लोगन से ये प्रतीत होता कि हमारे भारत की छवि बदल रही है और देश तरक्की की राह पर है. अच्छी बात है कि देश ख़ूब तरक्की करे और आगे बढ़े, इससे बढ़कर हम देशवासियों के लिए फ़र्क की बात और क्या हो सकती है.

लेकिन इतनी तरक्की के बावजूद दिल में बार-बार एक ही बात आती है, क्या आज़ाद भारत की महिलाएं वाकई में आज़ाद हैं? कुछ ऐसी बातें, जिन्हें जानने के बाद आप भी यही कहेंगे कि वाकई हम और देशों की तुलना में अभी भी बहुत पीछे हैं.

1. कन्या भ्रूण हत्या

भारत में लिंग परीक्षण पर रोक है. ये परीक्षण करवा कर गर्भपात कराने वालों के लिए देश में सज़ा का प्रावधान भी है, लेकिन भारत के कई राज्यों में आज भी लोग लिंग परीक्षण कराते हैं और अगर जांच में लड़की होने का पता चलता है, तो गर्भपात करा दिया जाता है.

2. इस गांव में शादी से बच्चा ज़रूरी है.

भारतीय परंपरा के अनुसार, अगर शादी से पहले कोई लड़की गर्भवती हो जाए, तो उसे घर, परिवार और समाज की काफ़ी प्रताड़ना झेलनी पड़ती है. वहीं राजस्थान की आदिवासी जनजाति गरासिया के लोग एक अनोखी परम्परा को मानते हैं. परम्परा के अंतर्गत युवा पहले पसंद की लड़की के साथ लिव-इन में रहते हैं. बच्चा पैदा होने के बाद ही दोनों को शादी के बंधन में बंधने की अनुमति मिलती है. वहीं अगर बच्चा, नहीं हुआ तो वो लोग अलग हो जाते हैं. इस कड़वे सच को शायद कोई देखना या दिखाना नहीं चाहता.

Image Source : sanjeevnitoday

3. विधवाओं को अपशगुन माना जाता है.

हमारे हिंदू धर्म में शगुन और अपशगुन को लेकर वैसे तो कई मान्यताएं प्रचलित हैं, उन्हीं मान्यताओं में एक ये भी है. कई राज्यों और कसबों में आज भी ऐसा होता है कि अगर किसी शादीशुदा महिला के पति की मृत्यु हो जाए तो, उसे समाज द्वारा उत्पन्न की गईं कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जैसे उसे किसी शुभ काम शामिल नहीं किया जाता. घर से निकलते वक़्त अगर विधवा महिला किसी शख़्स के सामने आ जाए, तो उसे अपशगुन माना जाता है. एक विधवा महिला रंगीन कपड़े नहीं पहन सकती. तमाम ऐसी चीज़ें हैं जिससे उसे वंचित रखा जाता है. क्या इसे ही कहते हैं कि देश बदल रहा है और तरक्की कर रहा है.

Image Source : dailymail

4. बाल विवाह

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार, भारत बाल विवाह के मामले में दूसरे स्थान पर है. तमाम प्रयासों के बाबजूद हमारे देश में बाल विवाह जैसी कुप्रथा का अंत नही हो पा रहा है. रिपोर्ट के अनुसार देश में 47 फीसदी लड़कियों की शादी 18 वर्ष से कम उम्र में कर दी जाती है .रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि 22 फीसदी लड़कियां 18 वर्ष से पहले ही मां बन जाती हैं. यह रिपोर्ट हमारे सामाजिक जीवन के उस स्याह पहलू कि ओर इशारा करती है, जिसे अक्सर हम रीति-रिवाज़ व परम्परा के नाम पर अनदेखा करते हैं.

5. महिलाओं को शिक्षा में बढ़वा न मिलना.

बेटियों की शिक्षा के लिए सरकार कई योजनाएं तो लाती है, मगर उन पर अमल नहीं किया जाता. गांव हो, शहर हो या फिर कोई कस्बा इन जगहों पर अभी भी कई परिवार ऐसे हैं, जो अपने घर की बेटियों को शिक्षा में बढ़ावा नहीं देते, इसके पीछे उनकी सिर्फ़ एक ही मानसिकता होती है कि पढ़-लिख़ कर क्या करेंगी, जाना तो उन्हें दूसरे के घर ही है. शर्म आती है ये सोच कि ऐसी सोच वाले लोग हमारे समाज का हिस्सा हैं.

Image Source : navbharattimes

6. बेटी-बेटे में भेदभाव

हमारे समाज में कुछ संकुचित मानसिकता वाले लोग मौजूद हैं, जो आज भी लड़के के होने पर जश्न मनाते हैं और लड़की के होने पर मातम. आगे चलकर यही लोग लड़के-लड़की में भेदभाव भी करते हैं.

ये हमारे समाज की वो सच्चाई है, जिसने न जाने कितनी माताओं और बहनों की ज़िंदगी ख़राब कर दी है. कुछ महिलाएं तो रोज़ इन चीज़ों का सामना करती हैं. ये वो हकीकत है जिसे शायद टीवी पर दिखाने लायक भी समझा जाता. 'उठो, जागो और देश बदलो' शायद तभी आप गर्व से कह सकेंगे कि देश बदल रहा है और तरक्की कर रहा है.

https://www.gazabpost.com/these-things-prove-that-india-is-not-changing/

अगला लेख: SBI के ग्राहकों पर बढ़ेगा बोझ, कई सेवाओं के नियम बदले, जान लें ये 10 बड़ी बातें


Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अप्रैल 2017
भारत में सबसे शक्तिशाली इंसान कौन है?इसका जवाब देना तब तक मुश्किल है, जब तक कि ताकत का मतलब ना पता हो. क्योंकि हर कोई अपने आप में ताकतवर ही होता है. इंडिया टुडे ने 2017 की अपनी पावर लिस्ट (The High & Mighty Power List 2017) जारी की है. इसके मुताबिक ताकत का मतलब है संभावना. जैसे कि पेट्रोकेमिकल का बि
13 अप्रैल 2017
21 अप्रैल 2017
बेटी का जन्म पर चाहे आज से सदियों पुरानी बात हो या अभी हाल-फ़िलहाल की ,कोई ही चेहरा होता होगा जो ख़ुशी में सराबोर नज़र आता होगा ,लगभग जितने भी लोग बेटी के जन्म पर उपस्थित होते हैं सभी के चेहरे पर मुर्दनी सी ही छा जाती है.सबसे ज्यादा आश्
21 अप्रैल 2017
01 मई 2017
पाकिस्तान में एक व्यक्ति 25 साल से पत्ते और लकड़ियां खाकर जिंदा है। खास बात ये है कि अपनी इस आदत की वजह से वह कभी बीमार भी नहीं पड़ा। पंजाब प्रांत के गुजरांवाला जिले के रहने वाले 50 वर्षीय महमूद बट्ट ने बेरोजगारी की वजह से खाना नहीं जुटा पाने के कारण 25 वर्ष की उम्र से पत्तियां खाना शुरू किया था।गरी
01 मई 2017
14 अप्रैल 2017
आज महिलाएं हर मामले में पुरुषों को कड़ी टक्कर दे रही हैं। ऐसा शायद की कोई कार्यक्षेत्र बचा हो जहां महिलाओं ने अपनी मौजूदगी का अहसास नहीं कराया हो। भारत में भले ही पुरुष प्रधान संस्कृति रही हो, लेकिन इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि देश में महिलाओं को पूजा तक
14 अप्रैल 2017
12 अप्रैल 2017
पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट में मौत की सजा पाने वाले पूर्व भारतीय नौसैनिक कुलभूषण जाधव के केस में एक रोचक बात सामने आई है. मार्च 2016 में जिस पाकिस्तानी टीम ने कुलभूषण को अरेस्ट किया था, उसके एक सदस्य मुहम्मद हबीब जाहिर के इंडियन कस्टडी में होने का संदेह है. हबीब पाकिस्तानी सेना का रिटायर हो चुका ले
12 अप्रैल 2017
13 अप्रैल 2017
आपने भी शायद यह कई बार सुना होगा। लेकिन आज लता को जब यह सासूमाँ ने बोला तो वह भौचक रह गयी। उसकी आँखें डबडबा गई । पिछले १० साल मानो उसके नज़र के सामने से एक पल में निकल गया हो । जब नई नवेली दुल्हन बनकर उसने अपने पति के घर में पहला कदम रखा था। बस बीस साल की थी तो वह। कितनी गलतिया की थी उसने शुरू के
13 अप्रैल 2017
02 मई 2017
काला रंग, गोरा रंग ये हमारे समाज का एक कड़वा सच है. इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि बदलते समय के साथ दुनिया ने बहुत तरक्की की है, लेकिन अफ़सोस की बात ये है, कि लोगों की मानसिकता में कोई बदलाव नहीं आया है. ज़्यादातर लोगों के लिए सुंदरता का मतलब होता है गोरा होना.भारत में ब्यूटी प्रोडक्ट्स का कार
02 मई 2017
25 अप्रैल 2017
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब भी भाषण देते हैं तो श्रोता उनके साथ जुड़ जाते हैं। भले ही लोग उनसे सहमति रखते हों या न रखते हों लेकिन इस बात में कोई दोराय नहीं है कि उनकी भाषण शैली कुछ खास है। मौजूदा दौर में पक्ष-विपक्ष का शायद ही कोई ऐसा नेता होगा, जो यह दावा कर सके कि लोगों को अपनी भाषण शैली से बांधे
25 अप्रैल 2017
18 अप्रैल 2017
दुष्कर्म आज ही नहीं सदियों से नारी जीवन के लिए त्रासदी रहा है .कभी इक्का-दुक्का ही सुनाई पड़ने वाली ये घटनाएँ आज सूचना-संचार क्रांति के कारण एक सुनामी की तरह नज़र आ रही हैं और नारी जीवन पर बरपाये कहर का वास्तविक परिदृश्य दिखा रही हैं . भारतीय दंड सहिंता में दुष्कर्म ये है - भारतीय दंड संहिता १
18 अप्रैल 2017
04 अप्रैल 2017
भारतीय स्टेट बैंक संबंधित छह बैंकों से विलय के बाद दुनिया के 50 सबसे बड़े बैंकों में शामिल हो गया है. हालांकि आम आदमी की जेब पर इससे बोझ बढ़ने जा रहा है. विलय के बाद एसबीआई ने कई सुविधाओं के लिए लगने वाले शुल्क में वृद्धि कर दी है. विलय के बाद छह बैंकों के ग्राहकों को भी ये बढ़ी हुई कीमत चुकानी होगी.जा
04 अप्रैल 2017
25 अप्रैल 2017
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब भी भाषण देते हैं तो श्रोता उनके साथ जुड़ जाते हैं। भले ही लोग उनसे सहमति रखते हों या न रखते हों लेकिन इस बात में कोई दोराय नहीं है कि उनकी भाषण शैली कुछ खास है। मौजूदा दौर में पक्ष-विपक्ष का शायद ही कोई ऐसा नेता होगा, जो यह दावा कर सके कि लोगों को अपनी भाषण शैली से बांधे
25 अप्रैल 2017

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
09 अप्रैल 2017
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x