आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

उम्मीद की किरण

18 अप्रैल 2017   |  महेश बारमाटे

उम्मीद की एक किरण

हर बार

दिल के दरवाजे पर

जाने किस झरोखे से

कुछ यूँ झांकती है

के कुछ पल के लिए ही सही

चेहरे पे ख़ुशी की झलक

साफ दिखाई देती है,

मन खुश होता है,

दिल खुश होता है,

फिर जाने कैसे

चिंताओं की परछाई

उस किरण के सामने

आ जाती है

सब दूर अँधेरा छा जाता है

दिल डूब जाता है।

धीरे धीरे लड़खड़ाती सी

फिर गुम हो जाती है

वो किरण..

जो दिल के किसी कोने में

उम्मीद का दिया

जला जाती है।

बस यही सिलसिला

हर रोज

मेरे साथ घटता है

जैसे

ज़िन्दगी के समय की रेत

क्षण क्षण

शनैः शनैः

घटती जाती है।

महेश बारमाटे “ माही


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x