आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

मुक्त काव्य

19 अप्रैल 2017   |  महातम मिश्रा

“अमीरी”

अमीरी

उन्मत्त पवन के झोंके सी

करें आंखे बंद झरोखे सी

उच्च शोर विध कानों में

नाशिका श्वसन रुध कर देती

फूलती और पचकती है

तमस अंतस में भर देती

अमीरी अभिलाषा सबकी

फिर क्यों नहीं जनजन धन देती॥


अमीरी

तख्त स्वच्छ सिंहासन की

संचय निधि सुशासन की

रचती पचती अरमानों में

हृदय को गदगद कर देती

फलती और फलाती है

अंतस में करुणा भर देती

अमीरी पथ दिलवालों की

जन जन को अपनापन देती॥


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
प्रश्नोत्तर
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x