व्यवस्था बदलों और देश बचाओ...

19 अप्रैल 2017   |  रोमिश ओमर   (279 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यवस्था बदलों और देश बचाओ...

कुछ बदलाव की है जरूरत

सम्पूर्ण व्यवस्था के लिए कार्यरत संगठन भारत स्वाभिमान दल द्वारा पाँच सूत्री माँगों को लेकर 11 जून 2017 को दिल्ली के जंतर मंतर से जन आंदोलन की शुरुआत सम्पूर्ण व्यवस्था परिवर्तन व राष्ट्रीय एकता के लिए आवश्यक है कि भारत स्वाभिमान दल की पाँच सूत्री माँगों को भारत सरकार तत्काल माने।


1. साम्प्रदायिक आधार पर भेदभाव करने वाले कानूनों को निरस्त कर समान नागरिक संहिता बनायी जाए। वर्तमान भारतीय संविधान जाति व धर्म के आधार पर भारतीय नागरिकों में भेदभाव करता हैं, यह संविधान धर्म के आधार पर किसी नागरिक को सामान्य, तो किसी नागरिक को विशेषाधिकार देता हैं। इस संविधानिक साम्प्रदायिक भेदभाव के चलते देश में जातीय व साम्प्रदायिक तनाव बढ़ रहा हैं, जो राष्ट्रीय एकता व अखण्डता के लिए घातक हैं, और कालांतर में गृहयुद्ध का कारण भी बन सकता हैं। अतः राष्ट्र हित में साम्प्रदायिक आधार पर भारतीय नागरिकों में भेदभाव करने वाले कानूनों को निरस्त कर समान नागरिक संहिता लागू की जाए। देश में समानता का अधिकार लागू किया जाना चाहिए।


2. जाति को अवैध घोषित किया जाए, सरकारी महत्व के अभिलेख विद्यार्थी पंजीकरण, मूल निवास, जॉब पंजीकरण आदि परिपत्रों में जाति लिखने पर प्रतिबंध लगाया जाए।


3. नौकरी हेतु किसी भी प्रकार के आरक्षण को अवैध घोषित कर उस पर प्रतिबंध लगाया जाए, केवल शिक्षा हेतु आर्थिक आधार पर गरीब विद्यार्थियों को सहायता दी जाए, नौकरी उन्हें उनकी योग्यता के आधार पर मिले। पर जब तक ऐसा करना संभव नहीं होता तो आर्थिक आधार पर आरक्षण की व्यवस्था की जा सकती है। आर्थिक आधार पर आरक्षण किसे दिया जाए और किसे न दिया जाए, इसका प्रारूप आपको निवेदित हैं : > जो बच्चे 10 2 तक सरकारी विद्यालयों व बाद में सरकारी महाविद्यालयों में ही पढ़े हों, सिर्फ उन्हें ही आरक्षण मिले, प्राइवेट स्कूलों में पढ़े हुए बच्चों को नहीं। सरकारी स्कूल में पढ़े बच्चे वास्तव में ही गरीब होते हैं, अमीर के बच्चे तो प्राइवेट विद्यालयों में पढ़ेंगे।


जिस परिवार में तीन से अधिक बच्चे हों, उस परिवार के किसी बच्चे को आर्थिक आरक्षण नहीं मिलेगा क्योंकि आरक्षण की मदद उनके लिए होती है जिन पर जिंदगी बोझ हो, उनके लिए नहीं जो देश पर बोझ हों। > अगर एक बार भी विधायक, सांसद या किसी अन्य सरकारी लाभ के पद पर रहे हो या क्लास 3 या इससे ऊपर की सरकारी नौकरी तक गए हो तो आर्थिक आरक्षण के दायरे से बाहर हो गए।


जिसके माता या पिता पहले से ही आरक्षण का लाभ पाकर सरकारी नौकरी में कार्यरत हो उनके बच्चे को भी आरक्षण का लाभ नहीं मिलेगा। > अति उपजाऊ भूमि में 5 एकड़ से कम, मध्यम उपजाऊ भूमि में 15 एकड़ से कम व रेगिस्तानी भूमि में 25 एकड़ से कम वाले छोटे व गरीब किसानों के बच्चों को ही आरक्षण मिलेगा। >


कभी खुद का चार पहिया वाहन न रहा हो और शहर में अपना मकान न हो, सिर्फ उन्हीं गरीबों के बच्चों को आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाये। अभी के लिए इतना काफी है, आर्थिक आरक्षण मिलने के बाद कहीं से गलत सेंध लगे, उसकी समीक्षा करके वो रास्ते बन्द किये जाते रहें।


4. केन्द्रीय गौवंश मंत्रालय बनाकर गौवंश की हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाए, स्वदेशी गौवंश को प्रोत्साहन की नीति बनाई जाए। केन्द्रीय योजना बनाकर जिला स्तर पर एक एक लाख गौवंश की क्षमता वाली गौशालाएँ बनायी जाए, उनमें बेसहारा गाय, बैल व सांडों को रखा जाए तथा गौवंश आधारित उद्योगों की शुरुआत की जाए, गैस, बिजली, खाद, औषधि आदि गौवंश से उत्पन्न कर विदेशी मुद्रा बचाई जाए, तथा गाँवों में गौवंश आधारित संयंत्र स्थापित करने के लिए गौवंश पालक किसानों को सबसिडी दी जाए, ग्रामीण भारतीयों को आत्मनिर्भर बनाया जाए।


5. अधिकतम तीन संतान उत्पन्न करने का कठोर जनसंख्या कानून बनाया जाए। सम्पूर्ण व्यवस्था परिवर्तन के इस जन आंदोलन में स्वयं जुड़े, दूसरों को जोड़ें। इस जन आंदोलन में सहयोग देने के इच्छुक दान दाता भारत स्वाभिमान दल के राष्ट्रीय सचिव श्री धर्म सिंह जी से 8535004500 पर संपर्क करें। वन्दे मातरम् जय माँ भारती राष्ट्र हित में इस पोस्ट को अधिक से अधिक कॉपी पेस्ट व शेयर करें


https://www.facebook.com/events/275251476262865/?ti=as

#व्यवस्था_बदलों_देश_बचाओं

अगला लेख: इस्लाम को समझने मे सहायक कुछ ऐतिहासिक तथ्य!



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215


अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: कोकिलाबेन धीरूभाई अस्पताल @ gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

रवि कुमार
20 अप्रैल 2017

सहमत हूँ , सरकार को सोचना तो पड़ेगा लेकिन ये कैसे संभव हो ?

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अप्रैल 2017
कत्लखाने बन्द होने पर करोड़ो का होगा नुकसान, बोलने वाली मीडिया पढ़े #सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर...योगी #आदित्यनाथ ने यूपी के मुख्यममंत्री बनने के बाद कई कत्लखाने बन्द करवा दिए पर इस कार्य की सराहना करने की बजाय मीडिया की सुर्खियों में कुछ नया विवाद ही देखने को मिल रहा है। जैसे
23 अप्रैल 2017
19 अप्रैल 2017
पी
पीपल की पूजा का वैज्ञानिक तर्क ।-------तमाम लोग सोचते हैं कि पीपल की पूजा करने से भूत-प्रेत दूर भागते हैं। वैज्ञानिक तर्क- इसकी पूजा इसलिये की जाती है, ताकि इस पेड़ के प्रति लोगों का सम्मान बढ़े और उसे काटें नहीं। पीपल एक मात्र ऐसा पेड़ है, जो रात में भी ऑक्सीजन प्रवाहित करता है।प्रदूषण से निजात सिर
19 अप्रैल 2017
27 अप्रैल 2017
पं. दीनदयाल उपाध्याय की जन्मशती के अवसर पर एकात्म मानव दर्शन को लेकर अनेक गोष्टियों परिचर्चा ये और प्रकाशन हो रहे हैं। सामन्यतः इन सबमे दर्शन एवं सिद्धांतो की ही चर्चा अधिक होती है। थोडा अधिक चिंतन करने वाले व्यक्तियों ने एकात्म मानव दर्शन पर आधारित नीतियों का कैसे निर्मा
27 अप्रैल 2017
23 अप्रैल 2017
पृ
पृथ्वी दिवस : सिर्फ एक दिन क्यों?विश्व पृथ्वी दिवस आज- हेमंत पालआज पृथ्वी दिवस है। यदि यह खबर अखबारों में नहीं छपती तो शायद ही किसी को याद भी आता! जागरूकता जगाने से पहले याद दिलाने की जिम्मेदारी भी समाचार माध्यमों को ही उठाना प़ड़ती है। क्योंकि दुनिया भर में हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाने वाला पृथ्वी
23 अप्रैल 2017
23 अप्रैल 2017
घर में पानी बचाएं प्रयोग न करते समय नल बंद रखें: दांत ब्रश करते समय नल खुला रखने से 15 लीटर पानी बेकार हो सकता है। किसी तरह के रिसाव को ठीक कराएं: एक बूंद प्रति सेकेंड की दर पर टपकने वाले नलों से हर वर्ष 10,000 लीटर पानी व्यर्थ हो सकता है। रिसाइकिल करें, फिर से इस्तेमाल करें: सब कुछ बनाने में पानी ल
23 अप्रैल 2017
19 अप्रैल 2017
योगी आदित्यनाथ ने अपने घर जिले में एक डिग्री कॉलेज खोला था. नाम रखा महायोगी गुरू गोरखनाथ डिग्री कॉलेज. साल था 1999. यमकेश्वर ब्लॉक के बिठयानी में खुला ये कॉलेज स्टेट में बीजेपी सरकार आते ही सरकारी कॉलेज हो गया. इसमें पढ़ने वाले स्टूडेंट्स इसे वरदान मानते हैं. कॉलेज के प्रिंसिपल साब, जो कि एक मुस्लिम
19 अप्रैल 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x