बस है यही दुआ

25 अप्रैल 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (68 बार पढ़ा जा चुका है)

बस है यही दुआ उस ख़ुदा से कि

तेरे आँसू बहे मेरी आँखों से

तेरा दर्द महसूस हो मुझे

तेरा हर ग़म मिल जाए मुझे

मेरे होठों की मुस्कान

हो तेरे चेहरे पर

मेरी क़िस्मत में लिखी

ख़ुशी पर तेरा इख़्तियार हो

मेरी शोहरत पर लिखा तेरा नाम हो

बस है यही दुआ उस ख़ुदा से


२३ अप्रेल २०१७

बॉज़ल

अगला लेख: रिश्तों



रेणु
26 अप्रैल 2017

bahut hee. mrmsprshi. rachna hai. Karan ji bahut. shubhkamna

Karan Singh Sagar
03 मई 2017

बहुत धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अप्रैल 2017
कोशिश बहुत की हैं तुम्हें भुलाने की मगर जब भी तुम रूबरू होते हो बीते पल, सुहानी यादें ताज़ा हो जाती हैं कुछ ज़ख़्म हरे हो जाते हैंकुछ नए मिल जाते हैं मुस्कुरा कर इन्हें छुपा तो लेता हूँमगर, दर्द पानी बन छलक जाता है ख़ुशी के आँसु हैं कह कर दुनिया को बहकाता हूँदोस्त मगर समझ जाते हैं जब भी तुम रूबरू हो
13 अप्रैल 2017
13 अप्रैल 2017
रि
रिश्तों की पहचान सब को हैफिर भी इनकी समझ कितनो को है रिश्तों से उम्मीद सब को है फिर भी इन्हें निभाते कितने हैं रिश्तों में मिठास की ज़रूरत सबको है फिर भी इनमे मिठास घोलते कितने हैं रिश्तों की कड़वाहट लगती बुरी सब को है फिर भी इसे ख़त्म करने की कोशिश करते कितने हैं रिश्तों से ज़िंदगी बेहतर बनाने की
13 अप्रैल 2017
13 अप्रैल 2017
कोशिश बहुत की हैं तुम्हें भुलाने की मगर जब भी तुम रूबरू होते हो बीते पल, सुहानी यादें ताज़ा हो जाती हैं कुछ ज़ख़्म हरे हो जाते हैंकुछ नए मिल जाते हैं मुस्कुरा कर इन्हें छुपा तो लेता हूँमगर, दर्द पानी बन छलक जाता है ख़ुशी के आँसु हैं कह कर दुनिया को बहकाता हूँदोस्त मगर समझ जाते हैं जब भी तुम रूबरू हो
13 अप्रैल 2017
11 अप्रैल 2017
सु
मित्र सुधार इतना होता हैकिन्तु हम सुधरते नहीं हैऔर सुधार के धंधे भीकभी उबरते नहीं हैजब से बना है संविधानसंशोधन में ही फँसा हैबिकाऊ न्याय के बाहरहम बेचारों का हाथ कसा हैअब तो मुझे हर जगह जाने क्योंदुकान ही दुकान नज़र आती हैयह व्यवस्था क्यों नहीं शर्माती है ?लगता है संसद निजी क्षेत्र में हैसिर्फ धोख
11 अप्रैल 2017
18 अप्रैल 2017
तु
तुझ से कोई गिला नहीं नाराज़गी ख़ुद से है रहते थे जब नज़दीक तेरे तो दूरियाँ बना रखी थी अब जब दूर रहते हैं नज़दीकियों को तरसते हैं कहना चाहती थी जब कुछ अनसुना कर देते थे अब आवाज़ तुम्हारी सुनने को तरसते हैं नज़रें मिलते ही तुम से पलट जाते थे अब तुम्हें देखने को तरसते हैं तुझ से कोई गिला नाराज़गी ख़ुद
18 अप्रैल 2017
07 मई 2017
हूँ आज़ाद पर ना जाने क्यों ख़ुद को बँधा हुआ महसूस करता हूँ हूँ उन्मुक्त पर ना जाने क्यों उड़ने से डरता हूँ है अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर ज़ुबान पर ताला लगा है है आस्था की आज़ादी पर इंसानियत निभाने पर पाबंदी है है विचारों की आज़ादी पर उन्हें व्यक्त करने पर रोक है है लिखने की आज़ादी पर खुल कर लिखने
07 मई 2017
18 अप्रैल 2017
स्व-वित्त पोषित संस्थान में जो विराजते हैं ऊपर के पदों पर, उनको होता है हक निचले पदों पर काम करने वालों को ज़लील करने का, क्योंकि वे बाध्य नहीं है अपने किये को जस्टिफाई करने के लिए . स्व-वित्त पोषित संस्थान में आपको नियुक्त किया जाता है, इस शर्त के साथ कि खाली समय में आप सहयोग करेंगे संस्थान के अन्
18 अप्रैल 2017
13 अप्रैल 2017
जो दिल तुझे दे दिया वो किसी और से लगाऊँ कैसे जो पल तेरे नाम किएउन्हें किसी और के साथ बिताऊँ कैसे जो साँसे जुड़ी है तुझ सेउन्हें किसी और को दे दूँ कैसे जिन आँखों में बसी हो तुमउन्मे किसी और को बसाऊँ कैसे जिस ज़ुबान पर हो तेरा नामउस पर किसी और का ज़िक्र लाऊँ कैसे जो जीवन कर दिया नाम तेरे वो कर दूँ किस
13 अप्रैल 2017
16 अप्रैल 2017
वो
दिल के क़रीब रहने वाले मिल जाएँगे बहुतदिल में जो रहे वो एक ही होता है कुछ पल साथ रहने वाले मिल जाएँगे बहुत ज़िंदगी भर साथ रहे, वो एक ही होता है आँसू पोंछने वाले मिल जाएँगे बहुत आँसुओं को आने ही ना दे, वो एक ही होता है ख़ुशी में साथ देने वाले मिल जाएँगे बहुत अपनी ख़ुशी तुम
16 अप्रैल 2017
24 अप्रैल 2017
रहते थे साथ साये की तरह साथ चलने से मगर, डरते थे क़रीब रहना चाहते थे नज़दीक आने से मगर, डरते थे आँखों में बसे थे तुम निगाह मिलाने से मगर, डरते थे हँसी तुम्हारी अनमोल थी साथ मुस्कुराने से मगर, डरते थे तीन लफ़्ज़ कहने थे तुम से ज़ुबान पर लाने से मगर, डरते थेदिल तो तुम्हें दे दिया थादिल लगाने से मगर,
24 अप्रैल 2017
27 अप्रैल 2017
कभी दिल से सोंचोगे तो समझ पाओगे ना कही जो बात ज़ुबान से इशारों से ही समझ जाओगे नज़रों को नज़रों से ही पढ़ पाओगे स्वर नहीं हैं गीत में मेरे मगर उसे भी तुम सुन पाओगे बिन छूए स्पर्श भी महसूस कर पाओगे इश्क़ के मेरे जज़्बातों का अहसास कर पाओगे कभी दिल से सोंचोगे तो समझ पाओगे २३ अप्रेल २०१७ बॉज़ल
27 अप्रैल 2017
29 अप्रैल 2017
ख़ता ना तेरी थी ना मेरीतू प्यार मुझ से करता नहीं मैं प्यार तुझसे जता नहीं सका तूने दिल दिया किसी और कोमैं किसी और को दिल दे ना सका लबों पर तेरे, नाम था किसी और का मैं होठों पर अपने, नाम किसी और का ला ना सका तेरे ज़हन में बसा था कोई और मेरे रोम रोम में बसा था तू ख़ता ना तेरी थी ना मेरी २३ अप्रेल २०१७
29 अप्रैल 2017
15 अप्रैल 2017
कविता के गाँव मेंकविता के गाँव मेंकई तरह की कलम उगी थीकोई फूली थी कोई पचकी थीकोई स्याही में डूबी थीकोई लिखकर टूटी थीप्राचीन नदी के किनारेएक प्राचीन कुटी थीअबूझ भाषाओँ की चीखसमय के जंगल में गूंजी थीसूने कान में आवाजों के डोरेसूत्र बन जिह्वा पर बोलेध्वनि के चित्र खोलेकविता विचित्र होसंतप्त जीवन कीआह्ल
15 अप्रैल 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x