मैंने गलत को गलत कहा

12 मई 2017   |  डॉ. शिखा कौशिक   (151 बार पढ़ा जा चुका है)

मैंने गलत को गलत कहा

ना कोई सगा रहा, जिस दिन से होकर बेधड़क मैंने गलत को गलत कहा! तोहमतें लगने लगी, धमकियां मिलने लगी, हां मेरे किरदार पर भी ऊंगलियां उठने लगी, कातिलों के सामने भी सिर नहीं मेरा झुका! मैंने गलत को गलत कहा! चापलूसों से घिरे झाड़ पर वो चढ़ गये, इतना गुरूर था उन्हें कि वो खुदा ही बन गये, झूठी तारीफें न सुन हो गये मुझसे ख़फा! मैंने गलत को गलत कहा! मेरी सब बेबाकियों की दी गई ज़ालिम सज़ा, फांसी पे लटका दिया बोले अब आया मज़ा, है गलत जिसने गलत को मौन होकर न सहा! मैंने गलत को गलत कहा! शिखा कौशिक नूतन

अगला लेख: तुम क्या हो



एकदम सही सुंदर अभिव्यक्ति

सत्य कहा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x