मेरी माँ

13 मई 2017   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (248 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरी माँ

वो चेहरा जो

शक्ति था मेरी ,

वो आवाज़ जो

थी भरती ऊर्जा मुझमें ,

वो ऊँगली जो

बढ़ी थी थाम आगे मैं ,

वो कदम जो

साथ रहते थे हरदम,

वो आँखें जो

दिखाती रोशनी मुझको ,

वो चेहरा ख़ुशी में

मेरी हँसता था ,

वो चेहरा दुखों में

मेरे रोता था ,

वो आवाज़

सही बातें ही बतलाती ,

वो आवाज़

गलत करने पर धमकाती ,

वो ऊँगली

बढाती कर्तव्य-पथ पर ,

वो ऊँगली

भटकने से थी बचाती ,

वो कदम

निष्कंटक राह बनाते ,

वो कदम

साथ मेरे बढ़ते जाते ,

वो आँखें

सदा थी नेह बरसाती ,

वो आँखें

सदा हित ही मेरा चाहती ,

मेरे जीवन

के हर पहलू संवारें जिसने बढ़ चढ़कर ,

चुनौती झेलने का गुर

सिखाया उससे खुद लड़कर ,

संभलना जीवन में हरदम

उन्होंने मुझको सिखलाया ,

सभी के काम तुम आना

मदद कर खुद था दिखलाया ,

वो मेरे सुख थे जो सारे

सभी से नाता गया है छूट ,

वो मेरी बगिया की माली

जननी गयी हैं मुझसे रूठ ,

गुणों की खान माँ को मैं

भला कैसे दूं श्रद्धांजली ,

ह्रदय की वेदना में बंध

कलम आगे न अब चली

शालिनी कौशिक [कौशल ]

अगला लेख: हस्ती ....जिसके कदम पर ज़माना पड़ा



ममतामयी स्नेह मूर्ति माँ

रेणु
13 मई 2017

बहुत बढ़िया शालिनी जी माँ ऐसी ही होती है -- बहुत हृदयस्पर्शी है आपकी रचना

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 मई 2017
हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक सभा में अफसरों से कहाँ की आप महिलाओं से धेर्य रखना सीख सकते हैं |लेकिन माँ का ऐसा जीवन होता है की हम भी अपनी माँ से बहुत कुछ सीख सकते हैं |जिनमें से कुछ प्रमुख बातों को आज हम इस लेख में जानेगें | सबको साथ लेकर चलना : हर कोई चाहता है की सब लोग उसे पसंद कर
19 मई 2017
23 मई 2017
दोस्तों घर पथ्तरों से बनता हैं ,लेकिन परिवार माँ-पिता से || हजारो फूल चाहिए एक माला बनाने के लिए,हजारों दीपक चाहिए एक आरती सजाने के लिए |हजारों बून्द चाहिए समुद्र बनाने के लिए,पर “माँ “अकेली ही काफी है बच्चो की जिन्दगी को स्वर्ग बनाने के लिए..!!**********************@@*********************
23 मई 2017
17 मई 2017
कांधला से कैराना और पानीपत ,एक ऐसी बस यात्रा जिसे भुला पाना शायद भारत के सबसे बड़े घुमक्कड़ व् यात्रा वृतांत लिखने वाले राहुल सांकृत्यायन जी के लिए भी संभव नहीं होता यदि वे इधर की कभी एक बार भी यात्रा करते . कोई भी बात या तो किसी अच्छे अनुभव के लिए याद की जाती है
17 मई 2017
19 मई 2017
दो पल सुकून के नहीं ,गर रख लो जायदाद ,पलकें झपक न पाओगे ,गर रख लो जायदाद ,चुभती हैं अपने हाथों पर अपनी ही रोटियांखाना भी खा न पाओगे ,गर रख लो जायदाद . ................................................................. क्या करती बड़े घर क
19 मई 2017
14 मई 2017
काश, मेरी भी माँ होती! मैं उसे अपनी माँ बुलाता।प्रेम जताता, प्यार लुटाता,चरण दबाता, हृदय लगाता,जब कहती मुझे बेटा अपना, जीवन शायद सफल हो जाता, काश, मेरी भी माँ होती! मैं उसे अपनी माँ बुलाता।मैं अनाथ बिन माँ के भटका, किसको अपनी मात् बताता,जब डर लगता इस दुनियाँ का, किस
14 मई 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x