कब समझोगी तुम

17 मई 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (88 बार पढ़ा जा चुका है)

दिल की आवाज़

निगाहों के इशारों

मन की बात

कब समझोगी तुम

इन जज़्बातों को

इस बेक़रारी को

इन उमंगो को

कब समझोगी तुम

इस रिश्ते को

इन उम्मीदों को

इस प्यार को

कब समझोगी तुम


१३ मई २०१७

फ़्रैंकफ़र्ट

अगला लेख: मुफ़लिसी



रेणु
18 मई 2017

आपकी एक और हृदयस्पर्शी रचना पढ़कर अच्छा लग रहा है करण जी --

अच्छा है।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मई 2017
पसंद और साझा जरूर करें |
30 मई 2017
28 मई 2017
मं
मंज़िल पर पहुँच कर, देखा जो मुड़करसाथी कोई दिखा नहीं किस मोड़ पर छूटा साथ इल्म इस बात का था नहीं खड़ा हूँ अकेला शिखर परआसमान छूने की तमन्ना हो गयी पूरीज़मीन से नाता, मगर टूट गया है इस जीत का जश्न मनाऊँ या शोक पता नहीं २७ मई २०१७जिनेवा
28 मई 2017
08 मई 2017
मै
मैं तुम्हें, तुम मुझे, करते हो प्यार क्योंमैं तुम पर, तुम मुझ पर, करते हो ऐतबार क्योंमैं तुम पर, तुम मुझ पर, करते हो जान निसार क्योंमैं तुम्हारे बिना, तुम मेरे बिना, जी नहीं सकते क्यों क्योंकि तुम्हारे लबों पर मेरी, मेरे लबों पर तुम्हारी, मुस्कान रहती है मेरे दर्द का तुम्हें, तुम्हारे दर्द का मुझे,
08 मई 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x