अपनी माँ से क्या सीख सकते हैं ?

19 मई 2017   |  प्रदीप कुमार   (188 बार पढ़ा जा चुका है)

अपनी माँ से क्या सीख सकते हैं ?

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक सभा में अफसरों से कहाँ की आप महिलाओं से धेर्य रखना सीख सकते हैं |लेकिन माँ का ऐसा जीवन होता है की हम भी अपनी माँ से बहुत कुछ सीख सकते हैं |जिनमें से कुछ प्रमुख बातों को आज हम इस लेख में जानेगें |

सबको साथ लेकर चलना :

हर कोई चाहता है की सब लोग उसे पसंद करें |आप आपनी माँ से लोगों का दिल जीतना सीख सकते हैं |माँ परिवार में सबकी चाहती होती हैं और आस-पास के लोग भी उनका सम्मान करते हैं |आप...

पूरा लेख पढने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें : ---

http://www.gosahayata.tk/2017/05/mother-se-kya-sikh-sakte-hai.html

अगला लेख: अपने नाम की फ्री रिंगटोन डाउनलोड कैसे करें ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 मई 2017
कहीं आपमें भी तो दोष नहीं(Kaheen aapamen bhee to doSh naheen)इस वीडियो में बोधकथा के द्वारा यह बताने का प्रयास किया गया है कि दोष सबमें होते हैं और दूसरे में दोष ढूंढने से पहले स्‍वयं के दोष को दूर करना चाहिए। कहीं आपमें भी तो दोष नहीं(Kaheen aapamen bhee to doSh naheen)
07 मई 2017
23 मई 2017
आग सूरज में होती है , तड़पना जमी को पड़ता हैं | मौहब्बत निगाहें करती हैं ,तड़पना दिल को पड़ता हैं || सीने में लगी है , आग दुनियां में लगा दूँगा | जिस दिन उठेगी तेरी डोली, उस दिन पूरी दुनियाँ को जला दूँगा ||
23 मई 2017
08 मई 2017
भविष्‍य कैसे अच्‍छा होता हैइस वीडियो में बोधकथा के द्वारा यह बताने का प्रयास किया गया है कि भविष्‍य कैसे अच्‍छा होता है।Share, Support, Subscribe!!!Subscribe: https://goo.gl/Yy88SP भविष्‍य कैसे अच्‍छा होता है(BhaviSh‍y kaise ach‍chhaa hotaa hai) - YouTube
08 मई 2017
14 मई 2017
काश, मेरी भी माँ होती! मैं उसे अपनी माँ बुलाता।प्रेम जताता, प्यार लुटाता,चरण दबाता, हृदय लगाता,जब कहती मुझे बेटा अपना, जीवन शायद सफल हो जाता, काश, मेरी भी माँ होती! मैं उसे अपनी माँ बुलाता।मैं अनाथ बिन माँ के भटका, किसको अपनी मात् बताता,जब डर लगता इस दुनियाँ का, किस
14 मई 2017
14 मई 2017
है
है वो आज अकेली क्योंनों महीने रखा अपनी कोख में जिसने लगती है वो आज बोझ क्योंकाट कर अपना पेट, भरा पेट हमारा सो जाती आज, वो ख़ाली पेट क्योंआने नहीं देती थी हमारी आँखों में आँसुउसकी आँखों में रहते हैं आँसु, आज दिन रात क्यों जिसके बोल कभी लगते थे अमृत उसी के दो शब्द लगते
14 मई 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x