नेह भरी पाती

21 मई 2017   |  डॉ हरेश्वर रॉय   (65 बार पढ़ा जा चुका है)

नेह भरी पाती  - शब्द (shabd.in)

  • नेह भरी

पाती

अब नहीं आती.


गुप्तवास में

माँ की लोरी

गूंगी बहरी

चैती होरी

सुखिया दादी

पराती

अब नहीं गाती


अंगनाई की

फट गई छाती

चूल्हे चौकों की

बँट गई माटी


पूर्वजों की

थाती

अब नहीं भाती.

-- डॉ. हरेश्वर राय

अगला लेख: चलो गांव



रेणु
21 मई 2017

मन भिगोने वाली -- भावपूर्ण रचना -- हरेश्वर जी आपकी रचना बहुत अच्छी लगी --

चूल्हे चौकों की बंट गई माटी,,,बहुत ही संवेदनापूर्ण भाव।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मई 2017
जिसकी मिट्टी में ममता है, आँचल प्यार का साया है ! प्रेम प्यार से सनी हुई, जिसकी अद्भुत छाया है !! यहीं आके हमको चैन मिले , यह कैसी तेरी माया है ! हम धन्य हुए माँ, प्यार तेरा हमने पाया है !! हर पल हर छन तूने, हमारा साथ निभाया है ! हम धन्य हुए तूने , हमको सीने से लगाया
24 मई 2017
24 मई 2017
वो लम्हे कहाँ फ़ुरसत के, वो पल कहाँ राहत के !अब इंतेज़ार है और ख़्वाहिश है, वो निशान कहाँ हसरत के !!कभी सबको साथ लेकर चलने की आदत थी दोस्तो !अब ख़बर नहीं कहाँ है, वो फसाने लड़कपन के !!कभी चाहत पे दुनिया का हर
24 मई 2017
19 मई 2017
गली गली में, द्वार द्वार पर गर्मी काकी घूम रही है खीरा ककड़ी तरबूजे लेकर बेंच रही है झूम रही है.छाता ले लो गमछा ले लो जोर जोर से बोल रही है धूप चश्मों की भारी गठरी बांध रही है खोल रही है.पंखे कूलर नचा रही है घ
19 मई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x