भारतीय

24 मई 2017   |   कुँवर दीपक रावत   (108 बार पढ़ा जा चुका है)

मिट गयीं वो हस्तियाँ,

और उनकी बस्तिया

जो मिटाने के लिए, हमे आई हैं


थम गयीं वो आँधियाँ,

बुझ गयीं वो बातिया

जो जलाने के लिए, हमे आई हैं


कट गये वो कर,

झुक गये वो सर

जो झुकने के लिए, हमे आए हैं


– कुँवर दीपक रावत

अगला लेख: माँ भारती



रेणु
24 मई 2017

बहुत सुंदर प्रेरक पंक्तियाँ

हृदय से आभार रेणु जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 मई 2017
तेरी तक़दीर का दोष नहींहै मेरी क़िस्मत का क़सूर तेरी तक़दीर में तो हम शामिल थेहमारी क़िस्मत में मगर तेरा साथ ना था तेरे नसीब ने तो मिलाया था हमें हमारे मुक़द्दर ने ही तुझ से बिछड़ने पर मजबूर कर किया ना तेरा ज़ोर चला अपने भाग्य पर ना मैं अपनी नियति बदल पाया अब तो इसी उम्मीद पर ज़िंदा हूँकी कभी तो जोड
21 मई 2017
25 मई 2017
एक छोटा सा प्रयास आप सभी दोस्तों के लिये, आशा करता हूँ आपको पसंद आएगाकुँवर दीपक रावत
25 मई 2017
15 मई 2017
तु
कभी बनारस की सुबह बन जाती हो। तो भोपाल की शाम हो जाती हो। तुम रास्तें के दृश्य हो या, दोनों पर एक आसमां। तुम चेतन की किताब का किरदार तो नहीं हो, तुम जो हो हमेशा हो। चार कोनो में नहीं होती तुम, तुमने ही तुम्हें रचा हैं। अब प्रेम का क्या वर्णन करूँ, मेरा प्रेम तो तुम्ह
15 मई 2017
25 मई 2017
हर चीज़ की कीमत तय कर दी, उन लम्हों की कीमत क्या होगी !जो साथ हँसे, जो साथ जिए, उन रिश्तों की कीमत क्या होगी !!क्यूँ भूल गये उस बचपन को, उन नन्ही आँखो के सपनो को !वो कैसे तुम अब पाओगे, जिसकी कोई कीमत ही नहीं !क्यूँ भूल गये उन कसमो को, उन छोटी छोटी सी रस्मो को !वो कैसे तु
25 मई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x