इबादत

24 मई 2017   |   कुँवर दीपक रावत   (154 बार पढ़ा जा चुका है)

जलते हुए शोलों से दोस्ती कर ली !

खुद खाक होने की, साज़िश कर ली !!


इन सर्द बर्फ़ीली हवाओं में, वो बात कहाँ !

एक धूप की ख्वाहिश में, रोशनी कर ली !!


तेरे दामन में, या मेरे आशियाने में !

एक बूँद की चाहत में, बारिश कर ली !!


वो तो नहीं हुआ जो, दिल की आरज़ू थी !

हर शाम तेरी आहट पे, तसल्ली कर ली !!


हर बात से नाराज़, और खफा हुए !

हर बार समझने की, कोशिश कर ली !!


ना समझ पाएँगे लोग, इस बात का मतलब !

यह सोच के हर बार, राहत कर ली !!


कुछ माँगने की आदत, कभी थी नहीं हमारी !

तेरी खुशी समझकर, इबादत कर ली !!


- कुँवर दीपक रावत

अगला लेख: वीर जवान



वाह वाह क्या बात है

धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मई 2017
वो लम्हे कहाँ फ़ुरसत के, वो पल कहाँ राहत के !अब इंतेज़ार है और ख़्वाहिश है, वो निशान कहाँ हसरत के !!कभी सबको साथ लेकर चलने की आदत थी दोस्तो !अब ख़बर नहीं कहाँ है, वो फसाने लड़कपन के !!कभी चाहत पे दुनिया का हर
24 मई 2017
24 मई 2017
वो लम्हे कहाँ फ़ुरसत के, वो पल कहाँ राहत के !अब इंतेज़ार है और ख़्वाहिश है, वो निशान कहाँ हसरत के !!कभी सबको साथ लेकर चलने की आदत थी दोस्तो !अब ख़बर नहीं कहाँ है, वो फसाने लड़कपन के !!कभी चाहत पे दुनिया का हर
24 मई 2017
25 मई 2017
एक छोटा सा प्रयास आप सभी दोस्तों के लिये, आशा करता हूँ आपको पसंद आएगाकुँवर दीपक रावत
25 मई 2017
24 मई 2017
मूक क़लम को साधकरभावनाए बाँधकरहोठों पे गुनगुनाते हुयेआधे अधूरे से गीतों कोरात के अँधेरे मेंदीपक के प्रकाश सेवह लिख रहा होगावह लिख रहा होगा- कुँवर दीपक रावत
24 मई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x