बदनाम

24 मई 2017   |   कुँवर दीपक रावत   (124 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ खत मेरे नाम, बेनाम चले आए

हम आज तेरी महफ़िल से, गुमनाम चले आए

कुछ वक़्त तेरे साथ, कुछ लम्हे तेरे नाम
तेरी दोस्ती की गफलत में, हर शाम चले आए

नाचीज़ समझते हो, बड़े शौक से समझो
फिर भी मेरे नाम, कुछ इल्ज़ाम चले आए

कुछ समझ गये हम, कुछ समझा गये हम
कुछ ना कह के भी, बदनाम चले आए


Kuch Khat Mere Naam – Kunwar Deepak Rawat (कुँवर दीपक रावत)

अगला लेख: माँ भारती



रेणु
24 मई 2017

बहुत बढ़िया पंक्तियाँ

हृदय से आभार रेणु जी

धन्यवाद

फिर भी मेरे नाम , कुछ इलज़ाम चले आये ।
बहुत खूब

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जून 2017
वो
वो मुस्कुरा रहे हैं पर, आँखें कुछ और ही बयान कर रही हैं दुनिया के लिए खुश है, पर दुखों का सागर दिल में छुपा रखा है पूँछा जब उनसे इसका सबब,तो बोले इसको छुपा ही रहने दीजिए हुमने कहा उनसे, माना की सब आपकी निगाहो, पढ़ नहीं सकतेपर जो समझते हैं दिल का हालउनके सामने इन निगाहों को भी मुस्कुराना सिखा
03 जून 2017
24 मई 2017
ऐ वीर जवान तू तो है तूफान तूने चाहा जहाँ पहुँच पाया वहाँ तू चला जहाँ तेरा कारवाँ तूफ़ानो में बढता गया रुका नहीं कभी तू गया जहाँ पहाड़ो पे भी चड़ता गया जब हवा चली ढक गये वो निशान जो बने थे वहाँ मिट गये वो निशान ऐ वीर जवान पैरो के निशान मिलते ही नहीं ढूंडू मैं क
24 मई 2017
29 मई 2017
जरा देखो कहीं कोई फसाद,हुआ हो तो वहाँ जाया जाये । नहीं हुआ हो तो जाकर कराया जाये । राजनीति में निठल्लापन ठीक नहीं । कहीं आग लगा के बुझाया जाये ।
29 मई 2017
25 मई 2017
हर चीज़ की कीमत तय कर दी, उन लम्हों की कीमत क्या होगी !जो साथ हँसे, जो साथ जिए, उन रिश्तों की कीमत क्या होगी !!क्यूँ भूल गये उस बचपन को, उन नन्ही आँखो के सपनो को !वो कैसे तुम अब पाओगे, जिसकी कोई कीमत ही नहीं !क्यूँ भूल गये उन कसमो को, उन छोटी छोटी सी रस्मो को !वो कैसे तु
25 मई 2017
24 मई 2017
वो लम्हे कहाँ फ़ुरसत के, वो पल कहाँ राहत के !अब इंतेज़ार है और ख़्वाहिश है, वो निशान कहाँ हसरत के !!कभी सबको साथ लेकर चलने की आदत थी दोस्तो !अब ख़बर नहीं कहाँ है, वो फसाने लड़कपन के !!कभी चाहत पे दुनिया का हर
24 मई 2017
21 मई 2017
नेह भरीपाती अब नहीं आती. गुप्तवास में माँ की लोरीगूंगी बहरी चैती होरी सुखिया दादी परातीअब नहीं गाती अंगनाई की फट गई छातीचूल्हे चौकों कीबँट गई माटीपूर्वजों कीथाती अब
21 मई 2017
24 मई 2017
वो क़लम नहीं हो सकती है जो बिकती हो बाज़ारों में ! क़लम वही है जिसकी स्याही, ना फीकी पड़े नादिया की धारों में !! क़लम वो है जो बनती है, संघर्ष के तूफान से ! लिखती है तो बस सिर्फ़ मानवता क़ी ज़ुबान से !! क़लम चाकू नहीं खंज़र नहीं, क़लम तलवार है ! सत्यमेव ज्यते ही इस
24 मई 2017
24 मई 2017
अश्क तो हैं तेरी यादों के, मेरे लिए काफ़ी हैं !कुछ गुज़रे दिन इनके सहारे, गुजर जाएँगे जो बाकी हैं !!तेरी तस्वीर थी जो आँखों में, इसमे अब पानी का रंग शामिल है !ये धुंधली सी हो गयी है, बस अब थोडा सा रंग बाकी है !!म
24 मई 2017
24 मई 2017
जिसकी मिट्टी में ममता है, आँचल प्यार का साया है ! प्रेम प्यार से सनी हुई, जिसकी अद्भुत छाया है !! यहीं आके हमको चैन मिले , यह कैसी तेरी माया है ! हम धन्य हुए माँ, प्यार तेरा हमने पाया है !! हर पल हर छन तूने, हमारा साथ निभाया है ! हम धन्य हुए तूने , हमको सीने से लगाया
24 मई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x