तेरा रंग अभी तक बाकी है

24 मई 2017   |   कुँवर दीपक रावत   (118 बार पढ़ा जा चुका है)

 तेरा रंग अभी तक बाकी है


अश्क तो हैं तेरी यादों के, मेरे लिए काफ़ी हैं !
कुछ गुज़रे दिन इनके सहारे, गुजर जाएँगे जो बाकी हैं !!

तेरी तस्वीर थी जो आँखों में, इसमे अब पानी का रंग शामिल है !
ये धुंधली सी हो गयी है, बस अब थोडा सा रंग बाकी है !!

मुझ पे पहले भी होता था, कुछ कुछ तेरा असर !
देख तेरी आँखों की चमक, मेरी आँखों मे अभी तक बाकी है !!

रंग का क्या है चढ़ता है, हर चीज़ पे बेपरवाही से !
देख मेरे चेहरे को, तेरा रंग अभी तक बाकी है !!

सोचता हूँ तू पूछेगा, हाल जब आकर मेरा !
तब खुद ही देख लेना, तेरे बिना क्या बाकी है !!

गम नहीं इस इंतेज़ार में, बीत जाए चाहे सदिया !
एक सांस अभी अटकी है, एक सांस अभी बाकी है !!

आर्शो फर्श ना समझता था, ना समझूंगा ए मौला !
मेरे लिए जो भला है, तेरा शुक्र मेरे साकी है !!

Tera Rang Abhi Tak Baki Hai – Kunwar Deepak Rawat (कुँवर दीपक रावत)

https://deepakrawat.wordpress.com/mypoems/tera-rang-abhi-tak-baki-hai/

अगला लेख: माँ भारती



बहुत बढ़िया

धन्यवाद शर्मा जी

रेणु
24 मई 2017

क्या बात है बहुत सुन्दर रचना ! ! -- शुभकामना

धन्यवाद, रेणु जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मई 2017
मूक क़लम को साधकरभावनाए बाँधकरहोठों पे गुनगुनाते हुयेआधे अधूरे से गीतों कोरात के अँधेरे मेंदीपक के प्रकाश सेवह लिख रहा होगावह लिख रहा होगा- कुँवर दीपक रावत
24 मई 2017
24 मई 2017
कहते हैं कुछ लोग की, ये अंदाज़ शायराना है ! कहते हैं हम की, अब ठीक से पहचाना है !! दिल की तन्हाई का, अब तो ये ही अफ़साना है ! कहते हो फिर क्यूँ के, ये तो बस बहाना है !! फिर वही दिन, वही रोशनी, वही आसमा है ! जाने क्यूँ फिर भी यहाँ, कुछ तो विराना है !! वो मोहब्बत कहाँ
24 मई 2017
24 मई 2017
वो लम्हे कहाँ फ़ुरसत के, वो पल कहाँ राहत के !अब इंतेज़ार है और ख़्वाहिश है, वो निशान कहाँ हसरत के !!कभी सबको साथ लेकर चलने की आदत थी दोस्तो !अब ख़बर नहीं कहाँ है, वो फसाने लड़कपन के !!कभी चाहत पे दुनिया का हर
24 मई 2017
24 मई 2017
वो लम्हे कहाँ फ़ुरसत के, वो पल कहाँ राहत के !अब इंतेज़ार है और ख़्वाहिश है, वो निशान कहाँ हसरत के !!कभी सबको साथ लेकर चलने की आदत थी दोस्तो !अब ख़बर नहीं कहाँ है, वो फसाने लड़कपन के !!कभी चाहत पे दुनिया का हर
24 मई 2017
03 जून 2017
वो
वो मुस्कुरा रहे हैं पर, आँखें कुछ और ही बयान कर रही हैं दुनिया के लिए खुश है, पर दुखों का सागर दिल में छुपा रखा है पूँछा जब उनसे इसका सबब,तो बोले इसको छुपा ही रहने दीजिए हुमने कहा उनसे, माना की सब आपकी निगाहो, पढ़ नहीं सकतेपर जो समझते हैं दिल का हालउनके सामने इन निगाहों को भी मुस्कुराना सिखा
03 जून 2017
15 मई 2017
तु
कभी बनारस की सुबह बन जाती हो। तो भोपाल की शाम हो जाती हो। तुम रास्तें के दृश्य हो या, दोनों पर एक आसमां। तुम चेतन की किताब का किरदार तो नहीं हो, तुम जो हो हमेशा हो। चार कोनो में नहीं होती तुम, तुमने ही तुम्हें रचा हैं। अब प्रेम का क्या वर्णन करूँ, मेरा प्रेम तो तुम्ह
15 मई 2017
24 मई 2017
वो क़लम नहीं हो सकती है जो बिकती हो बाज़ारों में ! क़लम वही है जिसकी स्याही, ना फीकी पड़े नादिया की धारों में !! क़लम वो है जो बनती है, संघर्ष के तूफान से ! लिखती है तो बस सिर्फ़ मानवता क़ी ज़ुबान से !! क़लम चाकू नहीं खंज़र नहीं, क़लम तलवार है ! सत्यमेव ज्यते ही इस
24 मई 2017
24 मई 2017
मिट गयीं वो हस्तियाँ,और उनकी बस्तियाजो मिटाने के लिए, हमे आई हैंथम गयीं वो आँधियाँ,बुझ गयीं वो बातियाजो जलाने के लिए, हमे आई हैंकट गये वो कर,झुक गये वो सरजो झुकने के लिए, हमे आए हैं– कुँवर दीपक रावत
24 मई 2017
24 मई 2017
कुछ खत मेरे नाम, बेनाम चले आएहम आज तेरी महफ़िल से, गुमनाम चले आएकुछ वक़्त तेरे साथ, कुछ लम्हे तेरे नामतेरी दोस्ती की गफलत में, हर शाम चले आएनाचीज़ समझते हो, बड़े शौक से समझोफिर भी मेरे नाम, कुछ इल्ज़ाम चले आए
24 मई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x