वो मुस्कुरा रहे हैं पर,

03 जून 2017   |  Karan Singh Sagar ( डा. करन सिंह सागर)   (84 बार पढ़ा जा चुका है)

वो मुस्कुरा रहे हैं पर,

आँखें कुछ और ही बयान कर रही हैं

दुनिया के लिए खुश है,

पर दुखों का सागर दिल में छुपा रखा है

पूँछा जब उनसे इसका सबब,

तो बोले इसको छुपा ही रहने दीजिए

हुमने कहा उनसे,

माना की सब आपकी निगाहो, पढ़ नहीं सकते

पर जो समझते हैं दिल का हाल

उनके सामने इन निगाहों को भी मुस्कुराना सिखा दीजिए

३१ मई २०१७

जिनेवा

अगला लेख: कच्चे खिलाड़ी थे हम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जून 2017
कभी यूँ ही चल मेरे साथ मेंना हो रास्ते का डर ना मंज़िल की ख़बर ना हो रिश्तों का बंधन ना समाज का डर कभी यूँ भी चल मेरे साथ मेंना हो कोई उम्मीद ना हो कोई फ़िक्रना हो कोई शिकवा ना हो कोई गिलाकभी यूँ भी चल मेरे साथ में थाम कर हाथआँखों में आँखें डाल कर बस यूँही बेमक़सद कभी, चल मेरे साथ में ४ जून २०१७ऐम्
10 जून 2017
21 मई 2017
नेह भरीपाती अब नहीं आती. गुप्तवास में माँ की लोरीगूंगी बहरी चैती होरी सुखिया दादी परातीअब नहीं गाती अंगनाई की फट गई छातीचूल्हे चौकों कीबँट गई माटीपूर्वजों कीथाती अब
21 मई 2017
24 मई 2017
जलते हुए शोलों से दोस्ती कर ली ! खुद खाक होने की, साज़िश कर ली !! इन सर्द बर्फ़ीली हवाओं में, वो बात कहाँ ! एक धूप की ख्वाहिश में, रोशनी कर ली !! तेरे दामन में, या मेरे आशियाने में ! एक बूँद की चाहत में, बारिश कर ली !! वो तो नहीं हुआ जो, दिल की आरज़ू थी ! हर शाम
24 मई 2017
31 मई 2017
मु
मुफ़लिसी में सब ने दामन छोड़ दिया दोस्त नज़रें चुरा कर निकल जाते हैं अपने भी अजनबी लगते हैं रिश्तों में दूरियाँ आ गयी है फिर दिल को समझता हूँ किसी से क्यों गिला करता है तेरी ख़ुद की परछाईं तेरा साथ छोड़ देती है रात के अंधेरे में तो इस जहान से क्यों उम्मीद रखता हैतेरा साथ देने की
31 मई 2017
11 जून 2017
प्
बहार बन के तुम आए पतझड़ मेंचाँद बन के तुम आए अमावस मेंझील बन के तुम आए रेगिस्तान में क़रार बन के आए तुम बेक़रारी में हसीन ख़्वाब बन कर आए तुम सूनी आँखों में मधुर संगीत बन कर तुम आए सुनसान फ़िज़ाओं में ख़ुशी बन कर आए तुम ग़म की सियाह रात में मरहम बन कर समा गए तुम ज़ख़्मी दिल में रहमत बन कर आए तुम रूठ
11 जून 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x