मेरी बचपन की कहानी

11 मार्च 2015   |  Aarav Hichami   (1619 बार पढ़ा जा चुका है)

ये छोटी सी कहानी मेरी आप लोँगोँ के लिये  मेरा बचपन  है कहानी छोटी सी मेरी, सुनाता हु आपको को पुरी. 

बचपन से ही मुझे शौक कुछ अलग करने की, कुछ भी अलग करने की चाहता हो जाती गलती मुझसे हो जाती शौक अधुरी। शैतान था बचपन से ही पर था सबका लाडला, गलती करता हर बार, पड़ती थी दाँट. माँ की फटकार पापा का प्यार हा हा हँसी आती है अब भी, माँ कहती मत किया कर शैतानी, मारूँगी डँडा टोड़ुगीँ हड्डी. 


हा हा पापा तो थे मेरे प्रिय कहते अभी शैतानी नही करेगा तो करेगा कब, डाँटकर भी क्या मिलेगा तुम्हे, जिने दो जिँदगी अभी,  कल यही तो दिखायेगा नई जिँदगीँ  हमेँ. मैँ छुपकर खुश होता सुनकर बातेँ. शैतानी करता रहता हर पल जीँदगी जीता माँ पापा के संग।  


आगे की कहानी जल्दी ले आऊँगा मेरीँ अपनी।। 

अगला लेख: जिस दिन ये तीन लोग मिल जाएगे उस दिन मेरे भारत मेँ रेप होना बंद हो जाएंगे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x