Exclusive: मीडिया पर नकेल कसने की तैयारी में उत्तराखण्ड की BJP सरकार, सचिवालय में पत्रकारों की NO ENTRY?

16 जुलाई 2017   |  इंडियासंवाद   (45 बार पढ़ा जा चुका है)

Exclusive: मीडिया पर नकेल कसने की तैयारी में उत्तराखण्ड की BJP सरकार, सचिवालय में पत्रकारों की NO ENTRY?

देहरादून: उत्तराखण्ड सचिवालय में अब पत्रकारों की नो एंट्री की तैयारी की जा रही है. क़रीबी सूत्रों कि मानें तो अब पत्रकारों को सचिवालय में प्रवेश पर नए नीयमों के नाम पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है. यह पूरा मामला केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के एन एच 74 घोटाले पर लिखे पत्र के लीक होने के चलते शुरू हुआ है. जिसमें उन्होनें सरकार द्वारा सीबीआई जांच को लेकर लिखा था कि इसकी कोई आवश्यकता नहीं इससे अधिकारियों के मनोबल पर असर पड़ता है जिसके बाद सरकार की बहुत किरकिरी भी हुई.

दरअसल, नितिन गडकरी का पत्र लीक होने से राज्य और केन्द्र की सरकार बचाव की मुद्रा में आ गई थी और कई बार तो इस सवाल से खुद सीएम त्रिवेंद्र रावत भी बचते नज़र आ रहे थे. हालांकि जिस अधिकारी के दफ़्तर से यह पत्र लीक हुआ था उस के पास तमाम वह पत्रकार बैठते हैं जो कवरेज में भले ही ज़ीरो रहें हो लेकिन सरकार से निकटता और घनिष्ठता ज़रूर बनाए रखते हैं.

क़रीबी सूत्रों कि् मानें तो सचिवालय में हुई मीटिंग में प्रमुख सचिव आनंद वर्ध्दन ने सूचना विभाग को सरकार की मंशा साफ शब्दों में बता दी है कि जल्द ही विभाग द्वारा जारी किये गए सभी एंट्री पासों को निरस्त कर दिया जाए. सरकार इसके लिए एक नई व्यवस्था लाने जा रही है जिसके तहत अब सचिवालय के पास को सचिवालय शासन जारी करेगा. जिसमें पत्रकारों को गाड़ी का पास नहीं दिया जाएगा. इतना ही नहीं पास केवल दैनिक अख़बार और न्यूज़ चैनल के पूर्णकालिक पत्रकारों को ही दिये जाएंगे. ख़बर तो यह भी है कि सरकार मान्यता प्राप्त पत्रकारों की एंट्री को भी प्रतिबंधित करने की फिराक़ में है.


एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इसके पीछे सरकार की मंशा साफ है कि पत्रकार वही ख़बर छापों जो सूचना विभाग या मीडिया सेंटर से दी जाए. दरअसल, एक बार पास निरस्त होने को बाद नए पास बनने में लगभग 90 दिनों का वक़्त लगेगा जिसके बाद पत्रकारों को किसी भी ख़बर के लिए सूचना विभाग पर निर्भर रहना होगा और ख़बरें भी वहीं छपेंगी जो वह देगा. जिसके बाद नये पास बनने के वक़्त केवल उनके ही पास बनाए जाएंगे जिसकी एंट्री की स्वीकृति होगी. लेकिन सवाल यही कि जब नितिन गडकरी का लेटर अधिकारी ने खुद ही लीक करा हो तो ऐसे में पत्रकारों को रोककर वह क्या साबित करना चाहते हैं. इस फ़ैसले से सरकार की छवि पर क्या असर पड़ेगा इसका अंदाज़ा दिल्ली सरकार, राजस्थान सरकार या एविएशन मिनिस्ट्री के फ़ैसलों से लगाया जा सकता है. जहां बैन होने के बाद उनकी छवि एक कड़क शासक नहीं बल्कि तानाशाह की बन गई.

त्रिवेन्द्र सरकार अभी तक जितनी चाहे उपलब्धियां गिना रही है लेकिन सच यही कि नाक़ामियों की फ़ेहरिस्त लंबी है. मसला शराब को लेकर फ़ज़ीहत का हो या बुनियादी सुविधाओं पर ध्यान न देने की बजाय स्कूलों में शिक्षकों के ड्रेस कोड, वन्दे मातरम का. पहाड़ों में स्वास्थय सेवाओं की बदहाली का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि गर्भवती महिलाओं ने सड़क पर बच्चों को जन्म देते हुये कईयों ने दम तक तोड़ दिया. शहरों से लेकर पहाड़ तक सड़कों में घंटो जाम पहले भी और अब भी. लोकायुक्त और तबादला एक्ट पर भी सरकार की जमकर किरकिरी हुई. अगर सीएम त्रिवेंद्र को इन सबसे बचना है तो उनको उन सलाहकारों से बचना होगा जो उनके इर्द गिर्द होकर उनका ही काम खराब करने में लगे हैं. बहरहाल, अब देखना यह है कि आने वाले वक़्त में यह फ़ैसला सरकार की छवि को कितना चमकता है क्योंकि यह वही बीजेपी है जो केजरीवाल के इस फ़ैसले को दिल्ली मे यह कहकर घेरती रही कि यह केजरीवाल की तानाशाही है लेकिन अपने इस फ़ैसले में कौन सा अनुकूलित तर्क दिया जाएगा इंतज़ार तो करना होगा.

Exclusive: मीडिया पर नकेल कसने की तैयारी में उत्तराखण्ड की BJP सरकार, सचिवालय में पत्रकारों की NO ENTRY?

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/uttrakhand/uttarakhand-government-ready-to-crack-down-media-27817#.WWql7i8Vqbo.facebook

Exclusive: मीडिया पर नकेल कसने की तैयारी में उत्तराखण्ड की BJP सरकार, सचिवालय में पत्रकारों की NO ENTRY?

अगला लेख: जम्मू कश्मीर में सेना के गश्ती दल पर आतंकी हमला, 3 जवान घायल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जुलाई 2017
नई दिल्ली: दिल्ली-पटना सहित 12 ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी के बाद लालू यादव ने अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताया है. लालू यादव ने बीजेपी पर भी जमकर निशाना साधा. रांची से पटना लौटे लालू ने शुक्रवार शाम बेटे तेजस्वी यादव के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की. सीबीआई ने आज पटना के अल
08 जुलाई 2017
11 जुलाई 2017
नई दिल्ली- पूर्व भारत हॉकी गोलकीपर और कस्टम के सहायक आयुक्त, एमआर नेगी ने साल 2015 में बिना प्रमाण पत्र / लाइसेंस के बरामद खाली 200 बंदूकों को अपने खिलौनों के रूप में दिखाया था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, नेगी के खिलाफ ऐसा कोई मामला नहीं हैं बल्कि उन्हें किसी साज
11 जुलाई 2017
08 जुलाई 2017
लखनऊ : सरकार जिस पकार आधार कार्ड की अनिवार्यतः कठोरता से लागू कर रही है उतना ही जनता को आधार कार्ड नाँवने में कठिनाई बढ़ती जा रही है। आधार जर्द ननानी के लिए जगह जगह बैठे ऐजेंट भी पब्लिक से मनमाने पैसे भी वसूल कर रहे है। आधार कार्ड बनाने और उसका प्लास्टिक कोटेड कार्ड निकालन
08 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x