गुलाम-ए-हिन्द (करगिल काव्य श्रद्धांजलि)

26 जुलाई 2017   |  मोहित शर्मा ज़हन   (409 बार पढ़ा जा चुका है)

गुलाम-ए-हिन्द (करगिल काव्य श्रद्धांजलि)

रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी,
सजी दुलहन सी बने सयानी।

फसलों की बहार फिर कभी ....

गाँव के त्यौहार बाद में ...
मौसम और कुछ याद फिर कभी ....
ख्वाबो की उड़ान बाद में।
मांगती जो न दाना पानी,
जैसे राज़ी से इसकी चल जानी?
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।

वाकिफ है सब अपने ज़ुलेख़ा मिजाज़ से,

मकरूज़ रही दुनिया हमारे खलूस पर,
बस चंद सरफिरो को यह बात है समझानी,
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।

वक़्त की धूल ज़हन से झाड़,

शिवलिंग से क्यों लगे पहाड़?
बरसो शहादत का चढ़ा खुमार,
पीढ़ियों पर वतन का बंधा उधार,
काट ज़ालिम के शीश उतार।
बलि चढ़ा कर दे मनमानी,
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।

यहीं अज़ान यहीं कर कीर्तन,

यहीं दीवाली और मोहर्रम,
मोमिन है सब बात ये जानी,
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी।

काफिर कौन बदले मायने,

किसी निज़ाम को दिख गए आईने।
दगाबाज़ जो थे ....चुनिन्दा कर दिये,
आड़ लिए ऊपर दहशत वाले ...कुछ दिनों मे परिंदा कर दिये।
ज़मीन की इज्ज़त लूटने आये बेगैरत ....
जुम्मे के पाक दिन ही शर्मिंदा हो गये।

बह चले हुकुम के दावे सारे ....जंग खायी बोफोर्स ....

छंट गया सुर्ख धुआं कब का....दब गया ज़ालिम शोर ....
रह गया वादी और दिलो में सिर्फ....Point 4875 से गूँजा "Yeh Dil Maange More!!"
ज़मी मुझे सुला ले माँ से आँचल में ....और जिया तो मालूम है ...
अपनी गिनती की साँसों में यादों की फांसे चुभ जानी ...
रूह गुलाम-ए-हिन्द दिवानी....

=============

*वर्ष 2014 में प्रकाशित मेरी काव्य कॉमिक "लांग लिव इंक़िलाब" से यह नज़्म।

अगला लेख: सीमा समाप्त (हॉरर कहानी) #ज़हन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2017
अरसे बीत गए तुझे दिल की बात बताए अरसे बीत गए तेरे दिल की बात सुने चल चलें फिर आज वहीं हुई थी शुरू जहाँ से अपनी दास्ताँबैठे थे जिस जगह थामे हाथों में हाथदेख रहे थे सपने, आखों में एक दूजे कीउसी जगह जहाँ चुपचाप बैठे थे, सहमे से फिर किया था तुमने और मैंने साथ में ईज़हार अपने प्यार का और एक हो गए थे दो द
16 जुलाई 2017
18 जुलाई 2017
आर्टिस्ट ज्योति सिंह के साथ एक और पेंटिंग पर विचार साझा किये, यह एक चित्र को देखकर प्रेरणा ली.Painting details - Oil on canvas, size-24"24" inch, inspired by a pic… Concept description - प्रकृति से ऊपर कुछ नहीं! प्रकृति (मदर नेचर) स्वयं में एक सच है, प्रकृति पूरक है, पालक है और संहा
18 जुलाई 2017
12 जुलाई 2017
पैमाने के दायरों में रहना,छलक जाओ तो फिर ना कहना...जो जहां लकीरों की कद्र में पड़ा होउस से पंखों के ऊपर ना उलझना...किन्ही मर्ज़ियों में बिना बहस झुक जाना,तुम्हारी तक़दीर में है सिमटना...पैमाने के दायरों में रहना,छलक जाओ तो फिर ना कहना...क्या करोगे इंक़िलाब लाकर?आख़िर तो ग
12 जुलाई 2017
15 जुलाई 2017
ट्रेन में एक आदमी सबके छोटे नाम का मजाक उड़ा रहा था तभी वो मुझसे बोला - “हैलो मेरा नाम चंद्रशेखरन मुत्तुगन रामस्वामी पल्लीराजन भीमाशंकरन अय्यर! ….. और आपका नाम?”“नरेन्द्र” मैंने जवाब दिया तो वो हँसते हुए बोला “हमारे यहाँ इतना छोटा नाम किसी का नहीं होता”! मैंने जवाब दि
15 जुलाई 2017
02 अगस्त 2017
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
02 अगस्त 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x