इन 5 हेल्थ प्रॉब्लम्स से हो सकती हैं आंखों की ये बीमारियां

27 जुलाई 2017   |  अवनीश कुमार मिश्र   (129 बार पढ़ा जा चुका है)

आंखें हमारे शरीर का वो हिस्सा हैं, जो सेंट्रल नर्वस सिस्टम से कनेक्टिड है। हमारी बॉडी को अगर कुछ होता है, तो उसका नेगेटिव असर आंखों पर भी पड़ सकता है। जब आप शीशे में खुद को देखते हैं, और आपको आंखों में कुछ अजीब दिखता है, तो इसे नज़रअंदाज़ न करें, क्योंकि कई बार हम समझ नहीं पाते कि क्या हुआ है और परेशानी को यूं ही छोड़ देते हैं। जबकि यह सीरियस भी हो सकता है। ग्लॉकोम (आंख की रोशनी कम होने की बीमारी), कैटरैक्ट (मोतियाबिंद) आदि आंखों की कुछ ऐसी परेशानियां हैं, जिन्हें हल्के में नहीं लेना चाहिए। आपको बता दें कि कुछ ऐसी वजहें होती हैं, जिनके चलते आंखों की बीमारियां लग सकती हैं। ये हैं वो 5 वजहें।

इस काम से आंखों को बुढ़ापे तक चश्‍मे की जरूरत नहीं पड़ेगी!

1- हाई कोलेस्ट्रॉल

हाई कोलेस्ट्रॉल का असर आपकी आंखों की रोशनी पर हो सकता है। इसमें आपको कभी ठीक से दिखाई देगा और कभी नहीं। यानी आंखों की आर्टरीज़ में ठीक से ब्लड सर्कुलेशन न होने के चलते, आपको आंखों की यह दिक्कत हो सकती है। इसमें ब्राइट लाइट में भी आप ठीक से नहीं देख पाते हैं। आंखों में दर्द भी होता है और पीले रंग का कोलेस्ट्रॉल आप आंखों के ऊपर या कॉर्नर्स में जमा हुआ भी देख सकते हैं।

2- थाइरॉइड

आपकी गर्दन में थाइरॉइड ग्लैंड्स होते हैं, जो तितली की शेप में बने होते हैं। इसमें से थायरॉइड हार्मोन निकलता है जो हमारे मेटाबॉलिज्म को बैलेंस करता है। थायरॉइड हार्मोन के कम या ज्यादा निकलने से अनेक प्रकार की शारीरिक परेशानियां होने लगती हैं। इसमें आंखों से जुड़ी दिक्कत भी हो सकती है, जैसे आंखों की मांसपेशियों में सूजन। इस वजह से जिन लोगों को थाइरॉइड होता है, उनकी आंखें बाहर निकली हुई होती हैं। थाइरॉइड के मरीज़ों को डबल विज़न यानी एक चीज़ दो भी दिख सकती हैं। कई लोगों को आंखों में ऐसी दिक्कत होती है कि उनकी आंखें पूरी तरह से बंद नहीं हो पातीं।

3- डायबिटीज़

जिन लोगों को डायबिटीज़ होने का रिस्क या फिर डायबिटीज़ हो, उन्हें अपनी आंखें रेगुलर टेस्ट करवानी चाहिए। डायबिटीज़ के कारण मोतियाबिंद होने के चांस भी काफी ज़्यादा बड़ जाते हैं। सिर्फ यही नहीं, कई लोगों की आंखों की रोशनी भी कम होने लगती है।

4- स्ट्रोक

अगर आपकी आंखों की रोशनी एकदम चली जाती है, तो ऐसा हो सकता है कि आपको दौरा आने वाला हो, या फिर यह भी कि आपको आ चुका हो और पता भी ना लगा हो। वैसे तो स्ट्रोक के चलते अक्सर एक आंख की रोशनी ही जाती है, लेकिन कई केसिस में दोनों आंखों की रोशनी भी चली जाती है। स्ट्रोक से आपकी आंखें ऐसी प्रभावित होती हैं कि एक चीज़ दो भी दिखने लग जाती हैं। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि स्ट्रोक से आपकी आंखों की नर्व्स डैमेज हो जाती हैं। हाई ब्लड प्रेशर के कारण एक आंख में भी स्ट्रोक आ सकता है और दिखना बंद हो सकता है।


5-रेटिनल माइग्रेन

यह वैसा नहीं है जैसा सिर में होता है। इसमें आपको ब्लैक स्पॉट्स दिखाई देते हैं। ऐसा कुछ मिनटों के लिए होता है। इसमें आपको आंखों में दर्द हो भी सकता है और नहीं भी। कई बार आपको ऐसा भी लग सकता है कि आंखों के सामने लाइट फ्लैश हो रही है और कुछ भी ठीक से दिखता नहीं है। इसमें आपको सिरदर्द इन लक्षणों के आने से पहले या बाद में भी हो सकता है।

सांभर: ोलीमीहेल्थ

अगला लेख: खतरनाक भी हो सकती है ग्रीन टी?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जुलाई 2017
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को महिला क्रिकेट टीम से मुलाकात की और खिलाड़ियों को बताया कि उन्होंने देश की बेटियों की तरह भारत को गौरवान्वित किया।टीम महिला विश्व कप में भाग लेने के बाद स्वदेश लौटी है जिसमें भारत को फाइनल में इंग्लैंड से हार मिली थी। मोदी ने फाइनल मैच से पहले टीम और खिलाड़ियों
28 जुलाई 2017
26 जुलाई 2017
8 नवंबर, 2016 की रात प्रधानमंत्री मोदी ने टीवी पर ऐलान किया था कि तत्काल प्रभाव से 500 और 1000 के नोट काग़ज़ के टुकड़े बन गए हैं. वैसा ही अब 2000 के नोट के साथ हो सकता है. सरकारी टॉप क्लास अधिकारियों ने इंडिया टुडे को बताया है कि वो 2000 रुपए के नोट को 200 रुपये के नोट से रीप्लेस करने का प्लान कर रहे ह
26 जुलाई 2017
26 जुलाई 2017
दर्द की दवाएं ( Pain killers )बीमारी के जितने भी लक्षण हैं उनमें से सबसे अधिक पाए जाने वाला लक्षण है दर्द. शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जिसने कभी दर्द अनुभव न किया हो. सर दर्द, दांत दर्द, कान व गले का दर्द, पेट दर्द, चोट का दर्द, बुखार आदि में होने वाला शरीर का दर्द इत्यादि ऐसे दर्द हैं जो कम समय
26 जुलाई 2017
27 जुलाई 2017
नर्सरी से कक्षा पांच तक हमें यही पढ़ाया जाता है कि जिंदगी की तीन मूलभूत आवश्यकताएं हैं- रोटी, कपड़ा और मकान. अंग्रेजी वालों का तो नहीं पता, लेकिन हिंदी मीडियम में तो यही पढ़ाया जाता है. किंतु यही बात पढ़ने वाला लौंडा जब 10वीं-12वीं में पहुंचता है, तब तक उसकी जिंदगी में एक और मूलभूत आवश्यकता जुड़ चुक
27 जुलाई 2017
01 अगस्त 2017
होठों का प्राकृतिक रंग बरकरार रखना भी एक बड़ी चुनौती है। बढ़ती उम्र के साथ कई कारणों से हमारे होठों का रंग काला होता जाता है। अधिकांश महिलाएं लिपस्टिक लगाकर अपने होठों के कालेपन को ढंक लेती हैं, लेकिन बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्हें लिपस्टिक लगाना बिल्कुल पसंद नहीं। ऐसे लोगों
01 अगस्त 2017
28 जुलाई 2017
BSNL ने अपने ब्रॉडबैंड कस्टमर्स से पासवर्ड बदलने को कहा है. सरकारी टेलकॉम विभाग के मुताबिक, उनके ब्रॉडबैंड सिस्टम पर मालवेयर अटैक हुआ था, इसलिए सभी यूजर्स डिफॉल्ट पासवर्ड जल्द से जल्द बदल लें.BSNL ने गुरुवार को बताया कि इस मालवेयर अटैक से 2,000 ब्रॉडबैंड मॉडम प्रभावित हुए हैं. इनमें से ज्यादातर वे क
28 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
इंडियन होने के नाते क्रिकेट हम सब के दिलों में रहता है। बचपन में गर्मी की छुट्टी का इंतजार भी हम इसीलिए करते थे ताकि दिनभर क्रिकेट खेल सकें। धूप हो या बारिश, क्रिकेट सब पर भारी पड़ता था। उन दिनों हमारी टीम में एक ऐसा शख्स जरूर होता था जो क
28 जुलाई 2017
27 जुलाई 2017
नई दिल्ली। लंदन में समाप्त हुए आईसीसी महिला विश्वकप में भारतीय टीम के शानदार प्रदर्शन से पूरा देश गदगद है। राजनीतिक हस्तियों से लेकर बॉलीवुड तक सब भारत की बेटियों की जमकर तारीफ कर रहे हैं। बॉलीवुड सुपर स्टार अक्षय कुमार तो भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए वर्ल्डकप फाइनल मैच देखने लंदन के लॉर्ड्स में
27 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
हर लड़का अपने लिए एक ऐसा साथी चाहता है जो उसका सुख-दुख बांटे, हर मुश्किल में उसका साथ दे. लेकिन इतनी आसानी से लड़कों को किसी भी लड़की का साथ नहीं मिलता, क्योंकि किसी लड़की से रिश्ता बनाना इतना आसान नहीं होता है.अगर आपके साथ भी कुछ ऐसा ही है तो चलिए हम आपकी थोड़ी मदद कर दे
28 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
हमारे समाज में आज भी कई ऐसे मुद्दे हैं, जिन पर खुलकर बात नहीं की जाती। इनमें 'सेक्स' और इससे जुड़ी बातें शामिल हैं। अब आप 'कंडोम्स' का ही उदाहरण लीजिए। हम कब कंडोम्स के तथ्यों या उपयोग को लेकर खुले तौर पर बातचीत करते हैं। अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कई तरह के तरीके अपनाए जा
28 जुलाई 2017
01 अगस्त 2017
नाखून न केवल बाहरी चोटों से नाखून को बचाते हैं बल्कि यह हाथों और पैरों की सुंदरता बढ़ाने में भी अपना योगदान देते हैं। नाखून एक प्रकार के पोषक तत्व से बने होते हैं जो हमारे बालों और त्वचा में पाये जाते हैं। इस पोषक तत्व का नाम कैरटिन है। शरीर में पोषक तत्वों की भारी कमी की
01 अगस्त 2017
27 जुलाई 2017
ग्रीन टी आजकल अधिक वजन की समस्या से जुझ रहे लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है। टी बैग़्स में मिलने के बाद तो ग्रीन टी और भी ज्यादा लोकप्रिय हो गई है। कई लोग तो वजन कम करने के लिए इसको जादू की छड़ी भी मानने लगे हैं। इसमें मौजूद तत्व जैसे “एल-थ
27 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x