5000 रुपये में कबाड़ से बना दी बाइक, पढ़िए ऐसी ही कुछ जुगाड़ के किस्से

28 जुलाई 2017   |  अवनीश कुमार मिश्र   (246 बार पढ़ा जा चुका है)

5000 रुपये में कबाड़ से बना दी बाइक, पढ़िए ऐसी ही कुछ जुगाड़ के किस्से

भुर्र-भुर्र' करती कोई स्टाइलिश बाइक जब सड़कों से गुजरती है तो लोग नजरें गढ़ाकर उसे देखने लगते हैं। जब तक वो आँखों से ओझल ना हो जाए तब तक नजरें भी नहीं हटाते हैं। पहले तो सिर्फ कार स्टेटस सिम्बल हुआ करती थी, मगर आज तो बाइक्स भी इस कैटेगरी में आ गई है।

'हार्ले डेविंसन' से लेकर 'हायाबुसा' तक का नाम इन्हीं बाइक्स में शुमार है। लेकिन वो क्या है ना कि अब सब तो अपनी जेब एकदम से इतनी हल्की नहीं कर सकते। ऐसे लोगों के लिए ही कुछ जुगाड़ू लोग कोई न कोई प्रयोग करते रहते हैं। ऐसी ही एक कोशिश की हमारे एक साथी ने।

जी हां। इस शख्स ने केवल 5,000 रुपए में एक बाइक बना डाली है। मैंने बिल्कुल सही बात लिखी है। एक जीरो कम भी नहीं लगाया है। यही सच है। तो चलिए आपको बताते हैं इस बाइक की खासियत।

और हां। साथ में ऐसी ही कुछ जुगाड़ के बारे में भी बताएंगे।

कबाड़ से बनी है बाइक

कबाड़ से बनी है बाइक


यह बाइक नौगांव, छतरपुर के छात्रों अमित यादव और मयंक जैन ने बनाई है। यह बाइक दिखने में शानदार होने के साथ-साथ सड़कों पर भी बिल्कुल बिंदास दौड़ती है।

तीन पहिए वाली बाइक

तीन पहिए वाली बाइक


फिलहाल तो अन्य गाड़ियों के पुर्जों और कबाड़ से बनी इस बाइक में तीन पहिए हैं। मगर जल्द ही इसे दो पहिए वाली बाइक बना दिया जाएगा।

आइए अब जानते हैं, इस बाइक की गति।


इस स्पीड पर चलती है गाड़ी

इस स्पीड पर चलती है गाड़ी

यह बाइक बटन से स्टार्ट होती है। 30 किलोमीटर/घंटे की स्पीड से दौड़ती है। यह पेट्रोल और डीजल दोनों से चलती है। इस बाइक को बनाने में छात्रों को मात्र 5000 रुपय का खर्च आया।

बड़े हैं प्लान्स

बड़े हैं प्लान्स


छात्रों के अनुसार यह बाइक एक छोटी सी शुरुआत है। यदि उनको मदद मिलेगी तो वो और भी शानदार बाइक बना देंगे।


ईको-फ्रेंडली है यह बाइक

ईको-फ्रेंडली है यह बाइक


इंदौर के लवीन अहवाल ने बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए सवा लाख रुपए में यह ईको-फ्रेंडली बाइक बनाई है। इस बाइक से कार्बन-मोनो ऑक्साइड बहुत कम मात्रा में निकलती है। कार्बन-डाई-ऑक्साइड और हाइड्रोजन क्लोराइड बिल्कुल नहीं निकलती।


कैमरे भी लगे हैं बाइक में

कैमरे भी लगे हैं बाइक में


लवीन ने इस बाइक में सुरक्षा फीचर्स पर भी खास ध्यान दिया है। इस बाइक में मोबाइल से जीपीएस लोकेशन का पता चलता है। बाइक स्टार्ट भी हो जाती है। इसमें दो कैमरे और इंटरनेट की भी व्यवस्था है। इतना ही नहीं, गाड़ी के पंचर होने पर हवा भरने का सिस्टम भी लगाया गया है।

इसको ७५ लाख तक मिल रहे है|

साभार : नवभारत.कॉम

अगला लेख: खतरनाक भी हो सकती है ग्रीन टी?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2017
आंखें हमारे शरीर का वो हिस्सा हैं, जो सेंट्रल नर्वस सिस्टम से कनेक्टिड है। हमारी बॉडी को अगर कुछ होता है, तो उसका नेगेटिव असर आंखों पर भी पड़ सकता है। जब आप शीशे में खुद को देखते हैं, और आपको आंखों में कुछ अजीब दिखता है, तो इसे नज़रअंदाज़ न करें, क्योंकि कई बार हम समझ नहीं पाते कि क्या हुआ है और परे
27 जुलाई 2017
27 जुलाई 2017
नर्सरी से कक्षा पांच तक हमें यही पढ़ाया जाता है कि जिंदगी की तीन मूलभूत आवश्यकताएं हैं- रोटी, कपड़ा और मकान. अंग्रेजी वालों का तो नहीं पता, लेकिन हिंदी मीडियम में तो यही पढ़ाया जाता है. किंतु यही बात पढ़ने वाला लौंडा जब 10वीं-12वीं में पहुंचता है, तब तक उसकी जिंदगी में एक और मूलभूत आवश्यकता जुड़ चुक
27 जुलाई 2017
26 जुलाई 2017
8 नवंबर, 2016 की रात प्रधानमंत्री मोदी ने टीवी पर ऐलान किया था कि तत्काल प्रभाव से 500 और 1000 के नोट काग़ज़ के टुकड़े बन गए हैं. वैसा ही अब 2000 के नोट के साथ हो सकता है. सरकारी टॉप क्लास अधिकारियों ने इंडिया टुडे को बताया है कि वो 2000 रुपए के नोट को 200 रुपये के नोट से रीप्लेस करने का प्लान कर रहे ह
26 जुलाई 2017
26 जुलाई 2017
मोदी आज के समय के सबसे बड़े नेता के रूप में अपनी छवि बनाया है | मोदी आज पुरे देश में अपने भारत का नामकर रहे है मोदी प्रधानमंत्री बने के बाद कई योजना बनाए लेकिन कुछ योजना सफल हुई कुछ योजनाये बनाई|जिसमे की नोटबंदी योजना काला धन को खत्म करने के लियें किया गया था लेकिन काला धन तो दूर की बात भ्रष्टच
26 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x