धंधेबाज दिखाने लगे शैतानियत, हिन्दू धर्मगुरु को धमकी "साईं को भगवान् मानो वरना................ - Dainik Bharat

30 जुलाई 2017   |  रोमिश ओमर   (255 बार पढ़ा जा चुका है)

धंधेबाज दिखाने लगे शैतानियत, हिन्दू धर्मगुरु को धमकी "साईं को भगवान् मानो वरना................ - Dainik Bharat

आप भले ही साई पूजक हों या निंदक, यह आ लेख अवश्य पढ़ें।

शंकराचार्य जी साँईं बाबा को भगवान नहीं मानते हैं ...और इसलिए नहीं मानते, क्योंकि हमारे वेदों, पुराणों,उपनिषदों या अन्य किसी भी धर्म ग्रंथों में एक "फकीर" की पूजा का निषेध है....मने , उन्हें भगवान नहीं बनाया जा सकता है...ना ही माना जा सकता है ।

क्या इन बातों से आप सहमत हैं..??.... मुझे लगता है कि इस बात से आप पूरी तरह से सहमत होंगे।

पर एक नई बात सामने आई है कि ....शिर्डी संस्थान वालों ने शंकराचार्य जी पर एक FIR दर्ज कराई है कि वे साँईं को भगवान क्यों नहीं मानते हैं??..और शंकराचार्य जी यह कह रहे हैं कि चाहे मुझे जेल हो जाए पर मैं विधर्मी साँईं को भगवान नहीं बोलूँगा।

हद हो गई भाई ये तो...साँईं समर्थकों एवं उनके संस्थान की जरा हेकड़ी तो देखें...आज वे केस डाल रहे हैं और सनातन धर्म के शिखर पर बैठे व्यक्ति को असहाय होकर ऐसा कहना पड़ रहा है।

मेरा सवाल उन सनातन धर्मियों से है कि अब यहाँ तक नौबत आ गई है ..? यह मुद्दा राजनैतिक नहीं है...इसका मतलब ये होगा कि इस विषय पर कोई विचार भी नहीं करेगा????

अब देखिए...साँईं के प्रचारकों ने पहले तो शिर्डी में उनके मजार पर एक मंदिर बनाया...फिर उसकी देखरेख के लिए एक संस्थान बनाया..नाम दिया "शिर्डी साँईं संस्थान" । इसी संस्थान से वे अपने षडयंत्रों का संचालन करते रहे। मात्र पैंतीस चालीस सालों में उन्होंने पूरे भारतवर्ष के अनेको सनातनी हिन्दू मंदिरों में अपनी पैठ बना ली । साथ ही साथ अपने मंदिर भी बना लिए ।

हिन्दू देवी देवताओं को साँईं के नाम से जोड़ना शुरू कर दिया...जैसे ..साँईं राम , साँईं कृष्ण , साँईं शिव आदि आदि-आदि। ..............

.सनातनी हिन्दुओं ने उनका प्रतिकार नहीं किया...क्योंकि , वे षड्यंत्र कारी हमारे बीच के ही थे। विदेशी ताकतों के द्वारा सनातन को समाप्त करने के उनके उद्देश्य में यह संस्थान अपना अमूल्य योगदान दे रहा है।

जिस प्रकार से इसाई एवं इस्लाम के प्रचार के लिए विदेशी फंड यहाँ के कई संस्थानों को उपलब्ध कराया जाता है..ठीक उसी प्रकार इस संस्थान को भी बेनामी दान दाताओं के द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।

आप कहीं भी देख लें...हमारे अनेको मंदिर जहां वित्तीय परेशानियों से जुझते है वहीं इनके किसी भी मंदिर में फंड की कमी नहीं होती है..दिन दुनी रात चौगुनी विस्तार करते रहते हैं।

सनातन धर्म को नुकसान पहुँचाने का यह तीसरा और अंतिम प्रयास है..ऐसा मैं मानता हूँ । पहले हमलावर मुस्लिमों द्वारा , बाद में अँगरेजों के द्वारा , और अब साँईं षडयंत्रकारियों के द्वारा। अँगरेजों ने हमारी शिक्षा पद्धति को अपने मुताबिक बना कर अपनी योजना को सफल बनाया...जिसमें मैकाले का योगदान अविस्मरणीय है।

......वेद की गलत व्याख्या करके दुनिया को भरमाने का काम मैक्समुलर ने किया।

....इन दोनों की वजह से हम अपने मूल से अलग होकर एक ऐसी पीढ़ी बना चुके हैं जिसे ये नहीं पता कि हम जा किस दिशा में रहे हैं??....अब यही भटकी हुई पीढ़ी इन नए षडयंत्रकारियों की शिकार हो रही है।

सनातन धर्म के शिखर पर बैठे व्यक्ति को इस असहाय अवस्था तक पहुँचाने में आपका भी कम योगदान नहीं है। आज उन पर दबाव बनाया जा रहा है कि वे साँईं (चाँद मियाँ) को भगवान क्यों नहीं बोल रहे हैं???

भाइयों , आप शंकराचार्य जी से व्यक्तिगत तौर पर सहमत-असहमत हो सकते हैं , परन्तु आप कहाँ खड़े हैं स्वयं तय कर लें। साँईं के अतिक्रमण को जरा समझें.....हम कीर्तन करते हैं , हरे राम ,हरे राम ,राम-राम,हरे-हरे ...हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे।

.......अब इसमें आपको कोई लय नजर नहीं आती है।...परन्तु जब साँईं गीत बजता है...साँईं राम साँईं श्याम साँईं भगवान शिर्डी के साँईं हैं सबसे महान ।

..........इसमें आपको लय नजर आती है...इसे अपने फोन का रिंगटोन बनाते हैं।....और आखिरी शब्दों पर गौर करें..""शिर्डी के साँईं हैं सबसे महान""...मने..इनके उपर राम या श्याम कोई नहीं ।

इतनी जल्दी ये कैसे महान बन गए भई...???...क्या गांधी, नेहरू,पटेल, बोस,टैगोर , सावरकर , भगतसिंह, आजाद..किसी के मुँह से , किसी के लेखों में साँईं का नाम आया है..??..बताए कोई..?

प्रेमचंद, जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, दिनकर आदि ने कभी भी साँईं का जिक्र किया..?? जरा सोचें..और अपनी मूर्खता पर हँसें ।

अब देखें..हमारे इष्टों का हाल क्या बना दिया है इन्होंने??साँईं की प्रतिमा के पैरों के नीचे बजरंग बली की प्रतिमा रखी जा रही है...वे सेवक की भाँति खड़े हैं...सभी इष्ट जैसे..राम, कृष्ण, शिव, दुर्गा आदि...साँईं के आगे गौण हो गए हैं।

क्याअपने इष्टों पर से हमारा विश्वास उठ चुका है???

क्या हमारी मनोकामना पूरी करने में वे अक्षम हो गए हैं??आप एक काम क्यों नहीं करते.?..आप अपना अलग संप्रदाय बना लें...फिर कोई कुछ नहीं कहेगा आपको ।

मैने २४ अप्रैल को एक पोस्ट लिखी थी साँईं के उपर, जिसमें मैंने बड़े ही सम्मानित तरीके से अपनी बातें कही है।

पर आज जब शंकराचार्य जी को इतना असहाय पाता हूँ तो मेरे मन में साँईं पूजकों एवं इनके संस्थान के प्रति घृणा पैदा हो रही है। वैसे मैं व्यक्तिगत तौर पर घृणा करने के लिए स्वतंत्र हूँ।...

वैसे मैंने पिछले साल ही यह प्रण लिया था कि जिस घर में साँईं की पूजा होती हो..उस घर का जल भी ग्रहण नहीं करूँगा।

जो मित्र मेरे विचारों से सहमत नहीं हैं उनसे मैं क्षमा याचना नहीं करूँगा।

अब FIR वाले मसले पर आते हैं.। चारो पीठों के शंकराचार्य , अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (तेरह अखाड़े) , नागा संन्यासी , एवं सभी संत महात्मा की ओर से महन्त नरेन्द्र गिरि जी ने एक विज्ञप्ति जारी कर..साँईं संस्थान को यह कहा गया है कि वे अपने FIR को 19 जुलाई 16 ( गुरू पूर्णिमा) तक वापस ले लें...अन्यथा इसके लिए आंदोलन चलाया जाएगा।

ये तो हद हो गई..गुहार लगानी पड़ रही है..उस सनातन को जो आदि काल से है.और किससे लगा रहा है?...उस संस्थान से जो मात्र पचास वर्ष भी नहीं हुए...।

सोए रहो सनातनियों आवाज मत उठाना..

अपनी आने वाली पीढ़ियों को राम-कृष्ण-शिव की याद को हमेशा के लिए विस्मृत करवा कर ही छोड़ना....

सनातन धर्म की जय हो.....अधर्म का नाश हो..।

धंधेबाज दिखाने लगे शैतानियत, हिन्दू धर्मगुरु को धमकी "साईं को भगवान् मानो वरना................ - Dainik Bharat

http://www.dainikbharat.org/2017/07/blog-post_692.html?m=1

धंधेबाज दिखाने लगे शैतानियत, हिन्दू धर्मगुरु को धमकी "साईं को भगवान् मानो वरना................ - Dainik Bharat

अगला लेख: Azaad Bharat: 4 साल से बापू आशारामजी को बेल नही मिलने के पीछे राजनैतिक दलों का हाथ: माँ चेतनानंद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जुलाई 2017
हिन्दुओ ने मूर्खता की हद ही कर दी है कौन साईं, इसका असली नाम तक नहीं जानते पर मूर्खता में जैसे हिन्दुओ ने पीएचडी ही किया हुआ है ऐसे ही नहीं हिन्दुओ की ये स्तिथि है, की बहुसंख्यक होते हुए भी मार खाते रहते है चाँद मिया पहले तो बन गया साईं, फिर साईं बाबा हो गया पीर ही था, फि
30 जुलाई 2017
15 जुलाई 2017
अमरनाथ पहुंचो भाई- इस मैसेज को इतना वायरल करो कि अगले साल(2020 में)श्री अमरनाथ भगवान 🚩 के दर्शन के लिए 10 लाख से अधिक हिन्दू पहुंचे जो इस साल केवल डेढ़ लाख रह गया है।पिछले कुछ वर्षों से मुसलमान 🕋 ये मैसेज फैला रहे है कि अमरनाथ यात्रा पर न जाये, इससे कश्मीरियों की आर्थिक स्थिति खराब होगी और एक दो सा
15 जुलाई 2017
30 जुलाई 2017
हिन्दुओं को बदनाम और मुसलमानों का बचाव करने की इंटरनेशनल साजिश तो नही है?अंनतनाग में #अमरनाथ यात्रियों पर जो हमला हुआ उसमें #सलीम शेख ने यात्रियों की जान बचा ली और #संदीप शर्मा आतंकवादी पकड़ा गया इस तरह की खबरें मीडिया में चल रही है जो सोची
30 जुलाई 2017
01 अगस्त 2017
।।राम राम सा।।।।खड़े होकर खाना क्यों नहीं खाना चाहिए।। भोजन से ही हमारे शरीर को कार्य करने की ऊर्जा मिलती है। हमारे देश में हर छोटे से छोटे या बड़े से बड़े कार्य से जुड़ी कुछ परंपराए बनाई गई हैं।वैसे ही भोजन करने से जुड़ी हुई भी कुछ मान्यताएं हैं। भोजन हमारे जीवन की
01 अगस्त 2017
13 अगस्त 2017
तुष्टिकरण की पराकाष्टा : हिन्दुओ के बनाये ध्रुव स्तम्भ को कुतुब्दीन ऐबक का कुतबमीनार बता दिया गयादिल्ली में हिन्दुओ ने ध्रुव स्तम्भ बनायापर वामपंथी इतिहासकारो, और सेकुलरों ने इसे लूले और गुलाम कुतुब्दीन ऐबक का कुतुबमीनार बता दियाइसकी दीवारों पर अरबी में कलमा वलमा गुदवा दि
13 अगस्त 2017
01 अगस्त 2017
H
आयुर्वेद के मुताबिक हकलाने की problem मेंब्राह्मी तेल (Brahmi oil) के इस्तेमाल को बहुत हीं फायदेमंद बताया गया है। 1.ब्राह्मी तेल (Brahmi oil) को हलका गर्मकर के week में कम से कम दो बार 15 से 20 मिनट तक सर का मसाज करने से हकलाने की problem ख़त्म होती है। 2. अगर आपके बच्चो को हकलाने की problem है तो उन
01 अगस्त 2017
07 अगस्त 2017
हि
*हिन्दुओं के भगवान* मुसलमान और ईसाई कभी अपनी धार्मिक पुस्तकों के विरुद्ध कार्य नही करते , उन्होंने मोहम्मद व ईसा के अलावा किसी को अपना भगवान नही माना । और अपने कट्टर हिन्दू भाइयो को देखो - 1: रेवन में कुतिया का मंदिर बना दिया , कुतिया को भगवान बना दिया 2: राजस्थान म
07 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x