Azaad Bharat: हिन्दुओं को बदनाम और मुसलमानों का बचाने की इंटरनेशनल साजिश तो नही है?

30 जुलाई 2017   |  रोमिश ओमर   (112 बार पढ़ा जा चुका है)

Azaad Bharat:  हिन्दुओं को बदनाम और मुसलमानों का बचाने की इंटरनेशनल साजिश तो नही है?

हिन्दुओं को बदनाम और मुसलमानों का बचाव करने की इंटरनेशनल साजिश तो नही है?

अंनतनाग में #अमरनाथ यात्रियों पर जो हमला हुआ उसमें #सलीम शेख ने यात्रियों की जान बचा ली और #संदीप शर्मा आतंकवादी पकड़ा गया इस तरह की खबरें मीडिया में चल रही है जो सोची समझी #इंटरनेशनल #साजिश की तरफ इशारा कर रही हैं ।

सच जानना सभी का अधिकार है...

जो #सलीम शेख को मीडिया हीरो बना रही है कि सलीम बस चलाता रहा इसलिये बाकि यात्रियों की जान बच गई लेकिन आप मीडिया में सलीम का इंटरव्यू देखिये क्या बोला है उसने ।

सलीम बताया कि हमें पता था कि अनंतनाग जगह पर आतंकवादी हमले होते हैं, जब सलीम को ये बात पता थी कि वहाँ पर आतंकी हमला होता है फिर भी गाड़ी क्यों रात में देरी से लेकर गया?

#सलीम_शेख को पता था कि वहाँ आतंकी हमला होता है और हर दो किलोमीटर पर आर्मी केम्प होता है फिर भी अंधेरे होने से पहले आर्मी की सहायता क्यों नहीं ली?

गाड़ी का रजिस्ट्रेशन क्यों नहीं करवाया था ? बिना बताये रात्रि को गाड़ी क्यों लेकर चल पड़ा?

उसने बताया कि मैं लेटकर गाड़ी चला रहा था इसलिये मुझे गोली नही लगी और एक तरफ बोल रहा है कि मैं रास्ता भी देख रहा था ।
तो रास्ता देखने जायेगा तो सर तो ऊँचा उठाना ही पड़ेगा न। और सर ऊँचा होगा तो सामने से चल रही गोली उसको न लगे ये कैसे संभव है ?

जब हमला हुआ तब सलीम ने तो गाड़ी रोक भी दी थी । आतंकवादी सबको मारना चाहते तो गाड़ी को पंचर ही कर देते गाड़ी को पंचर क्यों नही किया?

फिर गाड़ी चलने क्यों दी ?

इससे तो यही सिद्ध होता है कि हमारे 40 जवान जो वहाँ तैनात हैं इसलिये आतंकवादियों को मौका नहीं मिल रहा था आतंकी हमले करने का। पूरे देश में दहशत फैलाने का उनका मकसद था कि कैसे भी करके हम दहशत फैलाये जिससे अमरनाथ यात्रा रुक जाये और मुस्लिम सलीम शेख को हीरो बनाया जाये ।

क्या उनका मकसद सिद्ध करने के लिए ही सलीम लेट रात को गाड़ी लेकर गया था?

सलीम अगर लेट रात को गाड़ी लेकर ही नही जाता तो आतंकी हमला होता ही नही ।

दूसरी तरफ मीडिया बता रही है कि आतंकवादी का कोई धर्म नही होता है देखो संदीप शर्मा पकड़ा गया ।
लेकिन सच्चाई के बिना ही मीडिया ने बोल दिया ।

हम आपको बताते हैं कि कौन है संदीप शर्मा ?

#संदीप शर्मा उत्तर प्रदेश मुजफ्फरनगर का रहने वाला गरीब घर का लड़का है, जो काम की खोज में जम्मू- कश्मीरी गया था वहां किसी मुस्लिम लड़की ने उसे प्रेम जाल में फंसा लिया उसके बाद उसका #धर्मपरिवर्तन करवाया गया और नाम #आदिल रखा गया ।

सूत्रों के अनुसार उसको पैसे की लालच देकर और जबरदस्ती आतंकवादी बनाया गया फिर उससे कई जगह आतंकी हमले करवाये गए और बाद में पकड़वा कर नाम आदिल नहीं संदीप शर्मा बताया गया ।

जिससे अभी तक जो सिद्ध हो रहा था कि केवल आतंकवादी मुसलमान में ही बनते हैं उस बदनामी को रोकने के लिए सोची समझी साजिश से संदीप को प्रेम जाल में फंसाकर जबरदस्ती, पैसों की लालच देकर आतंकी बनाया गया और बाद में पकड़वा दिया गया । जिससे मीडिया बता सकें कि आतंकवादी का कोई धर्म नही होता है ।

आपके सामने हमने दोनों पहलू रखने का प्रयास किया है जिससे हमारे पाठक देश में हो रहे षड़यंत्र और मीडिया की काली करतूत को समझ सकें ।

सलीन शेख को हीरो बनाकर दिखाने वाली व संदीप शर्मा को आतंकी बताने के पीछे मीडिया का मुख्य उद्देश्य मुसलमानों की छवि साफ-सुथरी और हिंदुओं को आतंकवादी दिखाने का प्रयास है ।

इसके लिए #मीडिया को #विदेश से भारी #फंड मिलता है,भारत की अधिकतर मीडिया विदेशी फंड से चलती है इसलिए हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार पर मौन रहती है और मुस्लिम या ईसाई को कोई थप्पड़ भी मार दे तो पूरी दुनिया में हल्ला मचा देती है ।

आज का ही उदाहरण आपके सामने है । हिसार में देशभक्त अमरनाथ यात्रा पर हुए हमले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे, एक मुसलमान को भारत माता की जय बोलने को कहा और उसने भारत माता की जय नही बोली तो एक थप्पड़ मार दिया तो सारी मीडिया ने हल्ला मचा दिया लेकिन केरल और तमिलनाडु आदि राज्यों में हजारों #हिन्दू कार्यकर्ताओं की #हत्या हो गई उस पर चुप्पी साध ली है । बंगाल में भी हिन्दुओं पर हो रहे #अत्याचार पर भी #चुप्पी साध ली है ।

किसी पवित्र #निर्दोष हिन्दू #साधु-संत पर कोई #झूठा आरोप लग जाये तो #मीडिया 24 घंटे #डिबेट चलाती है पर क्या कभी आपने देखा कि किसी मौलवी और पादरी के खिलाफ डिबेट चलायी हो ?

अतः हिन्दुस्तानी मीडिया पर भरोसा करना बंद करें । यहाँ खबरें बनती नहीं बनायी जाती हैं।

Official Azaad Bharat Links:

👇

🏻

Azaad Bharat: हिन्दुओं को बदनाम और मुसलमानों का बचाव करने की इंटरनेशनल साजिश तो नही है?

Azaad Bharat:  हिन्दुओं को बदनाम और मुसलमानों का बचाने की इंटरनेशनल साजिश तो नही है?

अगला लेख: Azaad Bharat: 4 साल से बापू आशारामजी को बेल नही मिलने के पीछे राजनैतिक दलों का हाथ: माँ चेतनानंद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 जुलाई 2017
अमरनाथ पहुंचो भाई- इस मैसेज को इतना वायरल करो कि अगले साल(2020 में)श्री अमरनाथ भगवान 🚩 के दर्शन के लिए 10 लाख से अधिक हिन्दू पहुंचे जो इस साल केवल डेढ़ लाख रह गया है।पिछले कुछ वर्षों से मुसलमान 🕋 ये मैसेज फैला रहे है कि अमरनाथ यात्रा पर न जाये, इससे कश्मीरियों की आर्थिक स्थिति खराब होगी और एक दो सा
15 जुलाई 2017
07 अगस्त 2017
संस्कृत दिवस : 7 अगस्त#संस्कृत में #1700 धातुएं, #70 प्रत्यय और #80 उपसर्ग हैं, इनके योग से जो शब्द बनते हैं, उनकी #संख्या #27 लाख 20 हजार होती है। यदि दो शब्दों से बने सामासिक शब्दों को जोड़ते हैं तो उनकी संख्या लगभग 769 करोड़ हो जाती है। #संस्कृत #इंडो-यूरोपियन लैंग्वेज
07 अगस्त 2017
19 जुलाई 2017
दोस्तों स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए हमें कई बातो का ध्यान रखना पड़ता है अच्छी सेहत के लिए कौनसी चीज़ किस समय खाई जाये और कौनसी चीज़ कब ना खाई जाए इसे लेकर ख़ास सतर्क रहना पड़ता है कई वस्तुएं ऐसी होती है जिन्हें सुबह-सुबह खाली पेट खाने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है कुछ खाद्य पदार्थो में एसिड की मात्रा अ
19 जुलाई 2017
29 जुलाई 2017
से
सेक्युलरों तथा वामीस्लामियों को अवश्य पढ़ाएँ मैकाले (जी वही अंग्रेज़ी शिक्षा वाला मैकाले) 1834 से 1838 तक भारत में रहा। उसका जब भी ज़िक्र होता है, केवल शिक्षा को लेकर होता है। उसके minutes केवल शिक्षा पर quote किए जाते है।आप में कितनो को ज्ञात है कि IPC भी मैकाले द्वा
29 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x