मुलायम से राय लेने के बाद शिवपाल एनडीए में शामिल होने को बेताब

30 जुलाई 2017   |  इंडियासंवाद   (74 बार पढ़ा जा चुका है)

मुलायम से राय लेने के बाद शिवपाल एनडीए में शामिल होने को बेताब

नई दिल्ली- नीतीश कुमार ने महागठबंधन को तोड़कर बीजेपी के साथ हाथ मिलाकर सरकार बना ली। जिसके बाद विपक्ष को बड़ा झटका लगा है। सूत्रों के अनुसार, समाजवादी पार्टी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष शिवपाल यादव भी एनडीए का दामन थाम सकते हैं। खबर है कि शिवपाल इस मुद्दे पर अपने करीबियों की राय ले रहे हैं।

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी में चली परिवादवाद की उठापटक के बाद भतीजे अखिलेश ने चाचा शिवपाल को दरकिनार कर दिया था। नौबत ये आ गई कि शिवपाल का विधानसभा चुनाव जीतने भी मुश्किल लग रहा था। हालांकि चुनाव के बाद शिवपाल ने संकेत दिया था कि वे अपनी नई पार्टी भी बना सकते हैं। जिसमें मुलायम सिंह को पार्टी का संरक्षक बनाए जाने की खबर थी। लेकिन मुलायम सिंह की ओर से कोई अधिकारिक बयान न जारी होने से मामला ठंडे बस्ते में चला गया।


दो विकल्पों पर कर रहे विचार

सूत्रों के मुताबिक जेडीयू के बीजेपी के साथ आने के बाद अब शिवपाल यादव के आने की भी संभावना तेज हो गई है। खबर है कि शिवपाल फिलहाल दो विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। पहला जेडीयू में शामिल होकर एनडीए का हिस्सा बना जाए और दूसरा अपनी कोई नई पार्टी बनाकर एनडीए में गठबंधन किया जाए। कहा जा रहा है कि शिवपाल ने आज इन दोनों विकल्पों पर दिल्ली में मुलायम सिंह यादव से मिलकर चर्चा भी की।

मुलायम से राय लेने के बाद शिवपाल एनडीए में शामिल होने को बेताब

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/morestories/shivpal-yadav-rethinking-his-strategy-after-jdu-allies-with--28414#.WX2-2TVYXLk.facebook

मुलायम से राय लेने के बाद शिवपाल एनडीए में शामिल होने को बेताब

अगला लेख: यूपी में भड़के सपा नेता आज़म खान बोले-जौहर विश्वविद्यालय कोई शराबघर या रंडीखाना नहीं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2017
नई दिल्लीःयूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बाद कोई मंत्री अगर पार्टी और संघ की नज़र में चढ़ा है तो वे योगी की तरह ही अविवाहित बीजेपी नेता सुरेश कुमार खन्ना हैं. लेकिन खन्ना पर 'स्पॉटलाइट' का कारण उनका अविवाहित होना नहीं है. दरअसल ,पार्टी हाई कमान के हाल ही के ' उस'
16 जुलाई 2017
16 जुलाई 2017
नई दिल्लीः यह घटना सिस्टम की पोल खोलती है। बार-बार प्रार्थनापत्र लेकर ठोकर खाने के बाद भी जब गरीब-मजलूमों की सुनवाई नहीं होती तो वे सोचते हैं कि अफसर पैसे भले ले लें मगर उनका काम कर दे। कुछ ऐसा ही हुआ बीते दिनों मध्य प्रदेश के भिंड जिले में। खबर यूं तो यह फरवरी की है, मगर
16 जुलाई 2017
16 जुलाई 2017
लखनऊ : 70 वर्षो तंक यूपी के बेटे बेटी बहू बनकर प्रदेश को विकसित न करने वाले कांग्रेसी नेताओं की भांति मूलतः राष्ट्रपति पद की कांग्रेस उम्मीदवार मीरा कुमार ने भी अपने चुनाव में तुरुप का वही इक्का निकाल कर प्रयोग किया जो पूर्व में नेहरू गांधी परिवार द्वारा किया जाता रहा सत
16 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x