नीतीश के बाद अब इन दो दिग्गज नेताओं को हर क़ीमत पर अपना बनाना चाहते हैं मोदी-शाह

30 जुलाई 2017   |  इंडियासंवाद   (44 बार पढ़ा जा चुका है)

नीतीश के बाद अब इन दो दिग्गज नेताओं को हर क़ीमत पर अपना बनाना चाहते हैं मोदी-शाह

नई दिल्ली- नीतीश कुमार ने महागठबंधन को तोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया। लेकिन मोदी-शाह एकबार फिर से ऐसी रणनीति बना रहे कि विपक्षी एकता को बड़ा झटका लगने वाला है। बिहार के सीएम नीतीश कुमार को अपने पाले में करने के बाद भाजपा की नजरें अब इन दो दिग्गज नेताओं को अपने पाले में करना चाहते हैं।

वर्ष 2019 में राजग विरोधी नींव को मजबूत करने की दिशा में नए सिरे से पहल कर सकते हैं। भाजपा अब एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और सपा के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव निशाने पर लेकर विपक्षी एकता में सेंध लगाना चाहती है। पार्टी के एक वरिष्ठ मंत्री के मुताबिक विपक्षी एकता की नींव मजबूत करने का जिम्मा नीतीश कुमार के कंधों पर है।

भाजपा हासिल करना चाहती है ये कामयाबी

माना जा रहा है कि ऐसे में नीतीश और जदयू को राजग के साथ लाना भाजपा के लिए बड़ी कामयाबी होगी। कांग्रेस के रुखे बर्ताव के कारण शरद पवार इस दिशा में काम नहीं कर पा रहे हैं। जबकि बसपा प्रमुख मायावती और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी के बारे में अनुमान लगाना बेहद मुश्किल है।

विपक्षी एकता पर प्रहार


सपा में जारी घमासान का भी फायदा भाजपा को मिलेगा। इसके अलावा नवीन पटनायक सहित कई अन्य विपक्षी नेताओं की राजनीति की धुरी कांग्रेस विरोधी रही है। उक्त मंत्री ने कहा कि यही सब वजह हैं जिनका फायदा भाजपा उठाकर विपक्षी एकता को खत्म करना चाहती है। मंत्रिमंडल विस्तार और नए राज्यपालों की नियुक्ति के जरिये प्रधानमंत्री मोदी इस दिशा में जल्द ही कठोर फैसला लेने वाले हैं।

चुनाव से ठीक पहले शंकर सिंह वाघेला ने इस्तीफा देकर गुजरात में कांग्रेस को बड़ा झटका दिया है। कांग्रेस की कोशिश गैर-राजग विपक्षी दलों के क्षत्रपों के सहारे वापसी करने की थी। भाजपा अब कांग्रेस की इसी रणनीति को विफल करने में जुट गई है।

दलित-पिछड़ी जातियों पर पकड़ बनाने की रणनीति

भाजपा की रणनीति दलित और पिछड़ी जातियों में मजबूत पकड़ बनाने की है। भाजपा यूपी में गैर यादव पिछड़ी जातियों को पहले ही अपने पाले में कर चुकी है। जबकि जदयू का साथ मिलने से अब यही स्थिति बिहार में बनने की उम्मीद कर रही है। भाजपा ने दलित वर्ग से राष्ट्रपति चुना और पिछड़ा वर्ग को संवैधानिक दर्जा देकर पार्टी बनिया-ब्राह्मणों की पार्टी वाली छवि को खत्म करने की लगातार कोशिश में है।

नीतीश के बाद अब इन दो दिग्गज नेताओं को हर क़ीमत पर अपना बनाना चाहते हैं मोदी-शाह

http://www.hindi.indiasamvad.co.in/politics/two-big-leader-in-bjp-list-after-nitish-kumar-28412#.WX22FF1oqWY.facebook

नीतीश के बाद अब इन दो दिग्गज नेताओं को हर क़ीमत पर अपना बनाना चाहते हैं मोदी-शाह

अगला लेख: यूपी में भड़के सपा नेता आज़म खान बोले-जौहर विश्वविद्यालय कोई शराबघर या रंडीखाना नहीं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2017
लखनऊ : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा है कि आर्थिक तौर पर कमजोर परिवारों को बेहद सस्ते और बेघर लोगों को मुफ्त घर देने की मोदी सरकार और योगी सरकार की योजना अभूतपूर्व और सराहनीय है। इस योजना का सीधा लाभ गरीबों और आर्थिक तौर पर कमजोर परिवारों क
16 जुलाई 2017
17 जुलाई 2017
लखनऊ : अल्पसंख्यक समाज की राजनीति करने वाले सपा नेता आजम खान ने सोमवार को अपनी लंबी चुप्पी तोड़ी तो फिर आग उगल बैठे। दरअसल लखनऊ में विधान भवन में राष्ट्रपति के चुनाव में मतदान करने आए आजम खान ने शिवपाल सिंह यादव को नसीहत देने के बाद उत्तर प्रदेश की सरकार पर हमला बोला।सीबीआ
17 जुलाई 2017
16 जुलाई 2017
नई दिल्लीःयूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बाद कोई मंत्री अगर पार्टी और संघ की नज़र में चढ़ा है तो वे योगी की तरह ही अविवाहित बीजेपी नेता सुरेश कुमार खन्ना हैं. लेकिन खन्ना पर 'स्पॉटलाइट' का कारण उनका अविवाहित होना नहीं है. दरअसल ,पार्टी हाई कमान के हाल ही के ' उस'
16 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x