ईश्वर की दृष्टि

02 अगस्त 2017   |  आशा “क्षमा”   (105 बार पढ़ा जा चुका है)


माँ

बच्चे को जन्म देकर

जान पाई

ईश्वर को!

क्योकि-

वह देख पाईं

बच्चे में अपना विश्व

और विश्व को

ईश्वर की दृष्टि से!

अगला लेख: पहचानो स्वयं को



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अगस्त 2017
पहचानोस्वयं कोमन चाहताहै समय को थाम लू मैं पर वह निकलताही चला जाता है। मन करता हैसमय-चक्रको थाम लूँ हर प्रयासविफल हो जाता है दिनरात, रातदिन गुजरते गये।सप्ताहमहीनों मे बदलते गये।कबदशक गये,बच्चेसे युवा हुए। कबभविष्य,भूतमें बदल गया,समय चक्रतो पूरा घूम गया।बस इस पर नकिसी का र
17 अगस्त 2017
05 अगस्त 2017
जी
जीवन नीरस है -२ तुम बिन है सूना आसमां तुम बिन है सूनी जमी तेरी ज़रूरत है जीवन नीरस है आंखें गीली तो नहीं दिल रो रहा रात दिन मन में हिलोरें खूब हैं जो मैं जी रहा तेरे बिन सीढ़ियों से गिर पड़ते हैं चलते-चलते रुक जाते हैं अब राह की रु
05 अगस्त 2017
02 अगस्त 2017
हमको ख्वाबों में ख्यालों में तुम बसा लेना,अपने होठो पे हमको गीतों-सा सजा लेना,हम क़यामत तलक न साथ तेरा छोड़ेंगे,हम हैं हाज़िर, हमें जब चाहे आजमा लेना,कोई महफ़िल हो या तन्हाई का आलम कोई,बड़ी मशरूफ़ रहो या रहो खोयी-खोयी ,हर घड़ी साथ निभाने का तुमसे वादा है,जी में जब आये, हमें बेझिझक बुला लेना,साथ कोई दे न दे
02 अगस्त 2017
02 अगस्त 2017
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
02 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x