जीवन को, अपनी चेतना को, टुकड़ों में ना बांटें....

03 अगस्त 2017   |  संतोष झा   (343 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन को, अपनी चेतना को, टुकड़ों में ना बांटें....

किसी ने कहा, ऐसा कोई दौर, ऐसा कोई वक्त नहीं हुआ, जब व्यक्ति या समुदायों ने बीते हुए वक्त को बहुत अच्छा गर्व करने वाला ना कहा हो और भविष्य या आने वाला वक्त को लेकर बेहद आशंकित रहे हों।

यानि, कहने का तात्पर्य यह कि ज्यादातर लोगों को बीता वक्त बेहतर दिखता है और आने वाला वक्त बेहद अनिश्चित। बीता पल अच्छा, आने वाला पल डराने वाला, तो क्या यह स्पष्ट माना जाये कि अमूमन, आम इंसान अपने वर्तमान के पलों को, कभी भी अपनी पूर्ण क्षमता के अनुरूप नहीं जी पाता। इसलिए ही तो उसे ऐसा लगता है कि गुजरे पलों में ही उसने बेहतर किया और आने वाले पलों में उसकी जिंदगी और भी जटिल और कठिन होने वाली है।

या, इसे इस नजरिये से देखें कि बीता हुआ वक्त एक ठोस हकीकत बन जाता है। इतिहास एक तरह से मूर्त स्थायी यथार्थ दर्ज दस्तावेज जैसा बन जाता है, जिसे साफ तौर पर परखा जा सकता है। भविष्य के बारे में हमेशा ही अनिश्चितता बनी रहती है, वह अमूर्त होता है।

तो क्या ऐसा है कि हम सब वर्तमान में भी जिये जा रहे पल को लेकर कभी भी पूर्णतः आश्वस्त होते हैं हीं पूर्ण नियंत्रण में। या तो बीते पल में जीते होते हैं या फिर आने वाले पल को लेकर चिंता या भय में...!

संभवतः, जो वर्तमान का अपना मूल चरित्र है, वह भी हमें कभी उसे नियंत्रित कर पाने की सुविधा नहीं दे पाता। कुल मिलाकर चंद सेकेण्ड ही तो हाथ में होते हैं। वर्तमान इतना ही तो होता है... अभी आया, हम संभल भी नहीं पाये कि गया...! कोई भला इस भागते पल को कैसे पकड़े... और जिसे पकड़ ना पायें, उसे नियंत्रित कैसे करें...!

देखें और समझें... वक्त ही नहीं, हमारी चेतना भी बिलकुल ऐसी ही है। किसी भी जिये जा रहे पल में हमारी चेतना भी बहाव में होती है... ये आई और वो गई... इसे उस खास पल या वक्त के चंद लम्हों में पकड़ पाना बिलकुल असंभव दिखता है। इसलिए ही शायद हमारी चेतना भूतकाल में बेहतर दिखती है और भविष्य को लेकर आशंकित...!

मगर, हजारों सालों से, हमारे बेहद सफल महान पूर्वजों ने हमें कहा है कि इस भागते पल एवं बिखरी हुई चेतना को समेट कर बांध पाना बिलकुल मुमकिन है। और यही जीवन की सबसे प्रबल लाभकारी उपलब्धि भी। जो बीते पल, वर्तमान का क्षण और भविष्य के पलों को एक तार में, एक सीधी रेखा में, टुकड़ों में नहीं बल्कि एक पूर्णता में देख पाता है, वही बुद्ध है... जिसकी चेतना भूत, वर्तमान भविष्य के दायरों से उपर उठ कर समय अनुभूति को एकरूपता तारतम्यता में देख-समझ पाता है, वही ब्राह्मण है... वही ब्रंह्म है....!

यही बात तो वि ज्ञान भी कहता है... यथार्थ जब एक हो, तो इंसान का हर ज्ञान एक ही बात तो कहेगा... समझने वाले इसे अलग करके देखने की जिद लिए बैठे हैं। इसलिए, विज्ञान के नजरिये से वक्त, यानि टाईम को जानें-समझें। टाईम एंड स्पेस की अवधारणा को सायंस के नजरिये से देखने से हमारा आध्यात्म बुलंद होता है।

तो चलिए, हम सब जीवन को, अपनी चेतना को, उसकी निरंतरता को, उसके सतत् प्रवाह को, उसके एकत्व बोध को, उसकी एकतारता को, भूत-वर्तमान-भविष्य के टुकड़ों में ना बांटें, बल्कि उसे एक ही निरंतरता प्रवाह में मंजूर करें और उसे सिर्फ पूर्ण क्षमता से जियें बल्कि एक उत्सव-भाव से आह्लाद में जियें...

**

# लेख की नयी -बुक, ‘यूं ही बेसबबसे...

https://www.smashwords.com/books/view/723852

अगला लेख: गुफतगूं ठुमरी सा बयां चाहती हैं...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अगस्त 2017
चेतनाएं आवारा हो चली हैं,शब्द तो कंगाल हुए जाते हैं...लम्हों को इश्के-आफताब नसीब नहीं,खुशबु-ए-बज्म में वो जायका भी नहीं,मंटो मर गया तो तांगेवाला उदास हुआ,शहरों में अब ऐसे कोई वजहात् नहीं...!तकल्लुफ तलाक पा चुकी अख़लाक से,बेपर्दा तहजीब को यारों की कमी भी नहीं...।आवारगी भी कभी सोशलिस्ट हुआ करती थी,मनच
10 अगस्त 2017
21 जुलाई 2017
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:Ignore
21 जुलाई 2017
06 अगस्त 2017
कुछ पता न चलेपर कारोबार चले,भरोसा न भी चले,जिंदगी चलती चले,चलन है, तो चले,रुकने से बेहतर, चले,न चले तो क्या चले,यूं ही बेइख्तियार चले,सांसें, पैर, अरमान चले,फिर, क्यूं न व्यापार चले,सामां है तो हर दुकां चले,हर जिद, अपनी चाल चले,अपनों से, गैर से, रार चले,इश्क है, न ह
06 अगस्त 2017
01 अगस्त 2017
हस्ती का शोर तो है मगर, एतबार क्या,झूठी खबर किसी की उड़ाई हुई सी है...वजूद अपना खुद ही एक तमाशा है,और अब नजरे-दुनिया भी तमाशाई है...जिंदगी के रंगमंच की रवायत ही देखिए,दीद अंधेरे में, उजाले अदायगी को नसीब है...जवाब भी ढूंढ़ते है सवालों के
01 अगस्त 2017
02 अगस्त 2017
मिर्जा तुम्हारी याद बहुत आती है...चले तो गये तुम पर जो तुमपे गुजरी,वह अब भी, मेरा भी दिल दुखाती है...वही हरेक बात पे कहना कि तू क्या है,तुम तो कह भी देते थे, हमसे नहीं होता,कि अंदाजे-गुफतगूं की जिद कहां से आती है।कहते हैं कि मरने के वक्त मल्हार गाते हो?समझते नहीं, आखीरियत को आह्लाद लुभाती है...चलते
02 अगस्त 2017
07 अगस्त 2017
मुझसे कहता है वो,क्या कहा, फिर से कहो,हम नहीं सुनते तेरी...चुप न रहो, कहते रहो,सुकूं है, अच्छा लगता है,पर जिद न करो सुनाने की...तुम्हारे साथ भी तन्हा हूं,तुम तो न समझोगे मगर,साथ रहो, चुप न रहो, कहते रहो...कठिन तो है यह राहगुजर,शजर का कोई साया भी नहीं,थोड़ी दूर मगर साथ चलो...भीड़ बहुत है, लोग कातिल हैं
07 अगस्त 2017
29 जुलाई 2017
यथार्थ पर यूं तो दावेदारी सबकी है,दावेदारी की यूं तो खुमारी सबको है,खुमारी की यह बीमारी गालिबन सबको है,मगर, यथार्थ खुद अबला-बेचारी है, पता सबको है।फिर, रहस्यवाद का अपना यथार्थ है,रहस्य क्या है कि सबका अपना स्वार्थ है,अहसास का रहस्यवाद से गहरा संवाद है,जो महसूस होता है, उसका जायका, स्वाद है,फिर दिमाग
29 जुलाई 2017
26 जुलाई 2017
दिसंबर 2012 गैंगरेप के बाद प्रोटेस्ट करते युवा. (फोटोःReuters)हम लगातार कहते-सुनते रहते हैं कि दिल्ली औरतों के लिए सुरक्षित नहीं है. कई बार ये महज़ एक सरलीकरण लगता है. लेकिन रेप और सेक्शुअल असॉल्ट की दूसरी घटनाओं से जुड़े आंकड़े इसी सरलीकरण को सही ठहराते लगते हैं. हिंदुस्तान टाइम्स ने आज एक रिपोर्ट
26 जुलाई 2017
17 अगस्त 2017
1. Finding a Local Tutor THE CRISIS & THE RESOLUTION W W W . T U T S T U . C O M2. Meet Rahul Rahul, a cheerful boy of 14, who lives in Janakpuri, New Delhi. Rahul’s father is employed and is the only earning member. Rahul's mom has been
17 अगस्त 2017
13 अगस्त 2017
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
13 अगस्त 2017
27 जुलाई 2017
दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को इस देश से बहुत प्यार मिला. लेकिन स्कूल में पढ़ाई के दौरान उन्हें मुसलमान होने की वजह से भेदभाव का सामना करना पड़ा था.अपनी ऑटोबायोग्राफी ‘माय लाइफ’ में उन्होंने लिखा है कि एक बार मुसलमान होने की वजह से उनकी सीट बदल दी गई थी. दरअसल रामेश्वरम एलीमेंट्री स्कू
27 जुलाई 2017
13 अगस्त 2017
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
13 अगस्त 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x