कम नंबर आए तो टीचर ने लड़कियों के कपड़े उतरवाए

03 अगस्त 2017   |  अवनीश कुमार मिश्र   (289 बार पढ़ा जा चुका है)

2 girls stripped for getting poor marks in english

रुड़की
रुड़की के एक स्कूल में छठी क्लास में पढ़ने वाली दो लड़कियों को अंग्रेजी में कम अंक आने की विचित्र सजा दी गई। रुड़की से 8 किलोमीटर दूर लंढौरा में के प्राइवेट सेकंडरी स्कूल में कम नंबर पाने पर टीचर्स ने इन दोनों लड़कियों के कपड़े उतरवा दिए। लड़कियों के माता-पिता के विरोध के बाद पुलिस ने इस मामले में एक महिला टीचर के खिलाफ IPC की धारा 509 के तहत केस दर्ज किया है। इस धारा के तहत एक साल की जेल, जुर्माना या दोनों की सजा हो सकती है।

यह वाकया मंगलवार का है। इस मामले की जानकारी मिलने के बाद शिक्षा विभाग ने सभी जिलों के स्कूलों को टीचर्स के लिए ट्रेनिंग कोर्स शुरू करने को कहा है ताकि उन्हें छात्रों के साथ व्यवहार के गुर सिखाए जा सकें।

इस घटना की विस्तृत जानकारी देते हुए सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (देहात) मणिकांत मिश्रा ने बताया, 'दोनों बच्चियों के माता-पिता का आरोप है कि पहले टीचर ने छात्राओं को फटकार भी लगाई और उसके बाद पूरी क्लास के सामने उनकी शर्ट उतार दी।'

पीड़ितों के पिता ने हमारे सहयोगी 'टाइम्स ऑफ इंडिया' को बताया, 'हमने स्कूल प्रशासन के खिलाफ सख्त ऐक्शन की मांग की है क्योंकि उन्होंने क्लास में सीसीटीवी नहीं लगाए और टीचर को भी अभी तक बर्खास्त नहीं किया है।'

साभार: नवभारतटाइम्स

अगला लेख: खतरनाक भी हो सकती है ग्रीन टी?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जुलाई 2017
कर ले जुगाड़ कर ले...कर ले कोई जुगाड़। भाईसाहब, ये गाना तो बहुत बाद में आया है। लेकिन भारतीय इस विधा में सदियों से माहिर हैं। अगर यह भी कहा जाए कि जुगाड़ नाम की विधा भारत में ही पैदा की गई है तो भी गलत नहीं होगा। यहां इसके बूते लोग कुछ भी कर सकते हैं। अब देखिए ना, उत्तरप्रदेश के एक युवक ने ऐसी जुगाड
28 जुलाई 2017
28 जुलाई 2017
भुर्र-भुर्र' करती कोई स्टाइलिश बाइक जब सड़कों से गुजरती है तो लोग नजरें गढ़ाकर उसे देखने लगते हैं। जब तक वो आँखों से ओझल ना हो जाए तब तक नजरें भी नहीं हटाते हैं। पहले तो सिर्फ कार स्टेटस सिम्बल हुआ करती थी, मगर आज तो बाइक्स भी इस कैटेगरी में आ गई है। 'हार्ले डेविंसन' से लेक
28 जुलाई 2017
27 जुलाई 2017
नर्सरी से कक्षा पांच तक हमें यही पढ़ाया जाता है कि जिंदगी की तीन मूलभूत आवश्यकताएं हैं- रोटी, कपड़ा और मकान. अंग्रेजी वालों का तो नहीं पता, लेकिन हिंदी मीडियम में तो यही पढ़ाया जाता है. किंतु यही बात पढ़ने वाला लौंडा जब 10वीं-12वीं में पहुंचता है, तब तक उसकी जिंदगी में एक और मूलभूत आवश्यकता जुड़ चुक
27 जुलाई 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
26 जुलाई 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x