Azaad Bharat: 4 साल से बापू आशारामजी को बेल नही मिलने के पीछे राजनैतिक दलों का हाथ: माँ चेतनानंद

13 अगस्त 2017   |  रोमिश ओमर   (114 बार पढ़ा जा चुका है)

अगस्त 12, 2017

🚩

गोवा : सनातन संस्था द्वारा हुए एक कार्यक्रम के दौरान उत्तरप्रदेश, डासना, चंडीदेवी मंदिर सिद्धपीठ

की महंत यति माँ #चेतनानंद सरस्वती ने एक चैनल में इंटरव्यू देते हुए कई सवाल उठाते हुए कहा कि #सनातन संस्था बहुत ही #पवित्र कार्य कर रही है, इसके माध्यम से अलग-अलग क्षेत्रों में लोग सक्रीय हैं सनातन के लिए, उनको एक मंच पर आने का मौका मिल रहा है ।

🚩

ये साधु-संतों का कर्तव्य है, ये समाज का कर्तव्य है कि वो #साधु-संतों #पर होनेवाले इस #कुचक्र को समझे ।

🚩

आज पूजनीय आसारामजी बापू को फंसाया गया है, कल मुझे यति (माँ चेतनानंद ) और परसों किसी और को फंसाया जा सकता है ।

ये कुचक्र है उस आध्यात्मिक शक्ति के खिलाफ जो सनातन धर्म को जीवित रखे हुए हैं ।

🚩

कोई भी कार्य तभी संभव होगा जब संत समाज आगे आएगा, जब धर्माचार्य आगे आएंगे । तब सरकार को मजबूर होना पड़ेगा और सरकार जब इस बात को मानेगी कि कुचक्र जो चला रहे हैं,सहयोग नहीं कर रहें हैं सनातन धर्म को । उसको सहयोग करने के लिए ही #BJP हिंदूवादी विचार से सत्ता पर पहुँची तो # हिन्दू संतों का #रक्षण करना उनका #कर्तव्य बनता है । लेकिन वो इस कर्तव्य को #नहीं निभा रहे हैं ।

🚩

जिस तरीके से पूजनीय #आसारामजी बापू को #प्रताड़ित किया जा रहा है, उनको जेल में रखा गया है, अभी तक कोई #आरोप सिद्ध नहीं कर पा रहे हैं कोर्ट में ।

मेरा सभी धर्माचार्यो से निवेदन है कि वो उठ कर सामने आए क्योंकि आज अगर पूजनीय आसारामजी बापू हैं तो कल हम में से कोई और होगा..।

जो RSS है या बजरंग दल है या कोई और है, ये किसी एक संगठन का कार्य नहीं है। हिन्दू संगठनों का जो कार्य है वो बिना संतों के आशीर्वाद के संभव नहीं है.. सत्ता में अगर कोई भी हिंदूवादी पार्टी पहुँचती है तो उसमें सबसे पहले संत शंखनाद करते हैं इसलिए पहुंचती है ।

🚩

मेरा एक निवेदन है सारे #संगठनों से अगर आप #मौन साक्षी बन रहे हैं तो इसका मतलब आपकी मौन #सहमति है कि उनको (बापू आसारामजी) #प्रताड़ित किया जाएँ । इसका पाप आपको भी अपने सिर पर ढोना पड़ेगा और ये बहुत जल्द होगा ।

🚩

इसको हमें बहुत सरल रूप से समझ लेना चाहिए कि ये #अन्याय संतों पर, हिन्दू समाज पर, सनातन संस्कृति पर, ये तब तक होनेवाला है जब तक हम धर्माचार्य अपने मठों को छोड़ कर हर संत के साथ,जिस भी संत पर आपदा आई है उस संत के साथ खड़े नहीं होंगे ।

🚩

ये #अन्याय लगातार होनेवाला है क्योंकि कोई भी #पोलिटिकल वील आज संतों के साथ खड़ी नहीं हुई है । किसी निजी राजनैतिक पार्टी की इच्छा शक्ति ऐसी नहीं है कि वो संतों को #संरक्षण दें ।

🚩

जो #लोगों को और #समाज को #गंदा कार्य करने की #प्रेरणा देते हैं उनको #बेल #मिल जाती है आसानी से !!

जबकि गंभीर #आरोपों में उनके ऊपर #FIR हुई हो लेकिन #बेल मिल गई ।

🚩

लेकिन आज पूजनीय #आसारामजी बापू को 4 साल से अभी तक #बेल #नहीं मिल रही है । उसमें कहीं न कहीं #दोहरी #न्यायव्यवस्था है और कहीं न कहीं #राजनैतिक दलों का मैं हाथ मानती हूँ ।

🚩

क्योंकि बहुत सारी चीजें #राजनैतिक दबाव में हैं, बहुत सारी चीजें सामाजिक दबाव में संभव हो पाती हैं ।

#राजनैतिक दबाव में #कोर्ट को #2:30 बजे खोला जा सकता है रात को तो क्या बापूजी को नहीं छोड़ा जा सकता ?

#बेल तो एक #अधिकार है ।

जब तक अपराध #सिद्ध #न हो जाये । #न्यायप्रणाली की ये व्यवस्था है कि बेल पर छोड़ा जा सकता है । अभी तक अपराध सिद्ध नहीं हुआ तो मैं ये मानती हूँ उनको बेल देनी चाहिए और #दोहरी #न्यायव्यवस्था को बंद करना चाहिए ।

🚩

एक बात मुझे समझ नहीं आई । वयवृद्ध सन्यासी जिनकी आयु 80 वर्ष है उनपर बलात्कार का आरोप ही कैसे लगाया गया ?

🚩

लेकिन वो बहुत #स्पष्ट है कि जो भी #हिंदूवादी #कार्य करेगा, जो भी #सनातन संस्कृति को #जीवित रखने का कार्य करेगा उसको ये #आरोप #झेलने पड़ेंगे ।

🚩

उनको प्रताड़ित कर कहीं इलाज नहीं दिया जा रहा है । मैं इसे प्रताड़ने का एक भाग मानती हूँ ।

शारीरिक व मानसिक प्रताड़ने का एक भाग है कि न्यायव्यवस्था तो ये कहती है कि कोई #बीमार है तो उसका #प्रोपर इलाज कराना कारागार के #अधिकारियों का ये #कर्तव्य है कि उनकी ट्रीटमेंट हो ।

पर ये प्रताड़ने का भाग बना लिया है । दवाइयां न मिले बीमारी से वो ग्रसित हो जाये,ऐसी उन्हें यातनाएं दी जा रही हैं ।

🚩

मैं सिर्फ ये बापूजी के भक्तों को संदेश नहीं देना चाहती, पूरे सनातन को संदेश देना चाहती हूँ... जो हिन्दू धर्म में विश्वास रखते हैं, जो इस धर्म को जीवित रखना चाहते हैं,मैं उनको ये संदेश देना चाहती हूँ कि किसी भी परिस्थिति में अपने मनोबल को न गिरने दें । क्योंकि आगे का समय बहुत विकट आनेवाला है, बहुत भयानक आनेवाला है अगर किसी भी क्षण मनोबल गिरा तो हमारे बच्चों की बहुत दुर्गति होगी ।

🚩

निश्चित ही मेरा ये विश्वास है कि बहुत जल्द बापूजी हमारे बीच में होंगे ।

🚩

देखिये ये सरकार को भी करना चाहिए जितने भी संत हैं,दादाजी हैं, #धनंजय भाई देसाई हैं, #बापूजी हैं, अभी #साध्वी प्रज्ञाजी को छोड़ा गया है 9 साल के बाद ।

आप किसी व्यक्ति को #मानसिक #प्रताड़ना देकर कह दें कि ये दोषी नहीं माने जाते.. तो मैं मानती हूँ कि सरकार को #BJP को ये मानना चाहिए कि संतों के आशीर्वाद के बिना दोबारा उनका सत्ता में आना संभव नहीं होगा....

🚩

साधु-संतों व समाज का कर्तव्य है कि वे हिन्दू संतों पर हो रहे कुचक्र को समझें।

🚩

#Rss जैसे बड़े-बड़े #संगठन अगर आज भी #मौन साक्षी बने रहे तो संत आसारामजी बापू के साथ हो रहे #अन्याय में आप भी #भागीदार होंगे और इस पाप को आपको भी अपने सिर पर ढोना पड़ेगा ।

🚩

#राजनैतिक दबाव में कोर्ट को अगर रात 2:30 बजे खोला जा सकता है तो क्यों #80 वर्षीय बापूजी को #जमानत तक #नहीं दी जा सकती ?

🚩

BJP को ये मान लेना चाहिए कि संतों के आशीर्वाद के बिना दोबारा उनका सत्ता पर आना संभव नहीं होगा ।

🚩

-यति माँ चेतनानंद सरस्वती महंत सिद्धपीठ, चंडीदेवी मंदिर, डासना(उ.प्र.)

🚩

Official Azaad Bharat Links:

👇

🏻

Azaad Bharat: 4 साल से बापू आशारामजी को बेल नही मिलने के पीछे राजनैतिक दलों का हाथ: माँ चेतनानंद

http://azaadbharatofficial.blogspot.in/2017/08/Political-parties-hand-over-Bapu-Ashramji-not-receiving-Bell-for-4-years-Mother-Chetanand.html?m=1

अगला लेख: Azaad Bharat: संस्कृत भाषा की महानता एवं उपयोगिता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अगस्त 2017
संस्कृत दिवस : 7 अगस्त#संस्कृत में #1700 धातुएं, #70 प्रत्यय और #80 उपसर्ग हैं, इनके योग से जो शब्द बनते हैं, उनकी #संख्या #27 लाख 20 हजार होती है। यदि दो शब्दों से बने सामासिक शब्दों को जोड़ते हैं तो उनकी संख्या लगभग 769 करोड़ हो जाती है। #संस्कृत #इंडो-यूरोपियन लैंग्वेज
07 अगस्त 2017
30 जुलाई 2017
हिन्दुओ ने मूर्खता की हद ही कर दी है कौन साईं, इसका असली नाम तक नहीं जानते पर मूर्खता में जैसे हिन्दुओ ने पीएचडी ही किया हुआ है ऐसे ही नहीं हिन्दुओ की ये स्तिथि है, की बहुसंख्यक होते हुए भी मार खाते रहते है चाँद मिया पहले तो बन गया साईं, फिर साईं बाबा हो गया पीर ही था, फि
30 जुलाई 2017
16 अगस्त 2017
जन गण मन गुलामी का गीत जो पहली बार सत्र 1911 में अंग्रेजो के राजा जॉर्ज पंचम के सम्मान में गाया गया, जिसे अंग्रेजो के चाटुकार रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा । क्या आपको इस गीत के शब्दों का मतलब पता है ? नहीं ना , तो सच्चाई जानने के लिए इस वीडियो को अवश्य देखें और अगली बा
16 अगस्त 2017
30 जुलाई 2017
आप भले ही साई पूजक हों या निंदक, यह आलेख अवश्य पढ़ें।शंकराचार्य जी साँईं बाबा को भगवान नहीं मानते हैं ...और इसलिए नहीं मानते, क्योंकि हमारे वेदों, पुराणों,उपनिषदों या अन्य किसी भी धर्म ग्रंथों में एक "फकीर" की पूजा का निषेध है....मने , उन्हें भगवान नहीं बनाया जा सकता है..
30 जुलाई 2017
30 जुलाई 2017
हिन्दुओं को बदनाम और मुसलमानों का बचाव करने की इंटरनेशनल साजिश तो नही है?अंनतनाग में #अमरनाथ यात्रियों पर जो हमला हुआ उसमें #सलीम शेख ने यात्रियों की जान बचा ली और #संदीप शर्मा आतंकवादी पकड़ा गया इस तरह की खबरें मीडिया में चल रही है जो सोची
30 जुलाई 2017
13 अगस्त 2017
मुस्लिम 1400साल से दुनिया को यही बताते आ रहे हैं कि असली जिहाद क्या है ।मुसलमानों का कहना होता है कि असली जिहाद खुद कि बुराई से लड़ना है । मगर आतंकी वहीं कुरान कि ही आयतों को पढ़कर बताते हैं कि वो जो कुछ भी कर रहे हैं वो इस्लाम में जायज है ।क
13 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
16 अगस्त 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x