आजादी के आन्दोलन में आपके आर्यसमाज का अविस्मरणीय योगदान...

16 अगस्त 2017   |  रोमिश ओमर   (181 बार पढ़ा जा चुका है)

आजादी के आन्दोलन में आपके आर्यसमाज का अविस्मरणीय योगदान...

सबसे पहले तो हम देश को गुलामी से आजाद कराने वाले क्रान्तिकारि-

स्वतन्त्रता आन्दोलन में कई संगठनो ने महत्वपूर्ण योगदान दिया उन्हीं में से एक अमर नाम 'आर्यसमाज' का भी रहा हैं | आर्यसमाज के प्रवर्तक *स्वामी दयानन्द सरस्वती ने 1885 मे अमर ग्रंथ सत्यार्थ प्रकाश मे स्वदेशी राज्य का उदघोष करते हुए कहा...* "कोई कितना ही करे परन्तु जो स्वदेशीय राज्य होता है | वह सर्वोपरि उत्तम होता है |" (निश्चित ही उन्हें इसकी प्रेरणा वेदों से मिली होगी।) बाल गंगाधर तिलक जी जिन्होंने नारा दिया था - 'स्वराज मेरी जन्म सिद्ध अधिकार है मै इसे लेकर रहुंगा।', स्वयं लिखते है *स्वराज्य की प्रेरणा उन्हें स्वामी दयानंद से ही मिली।* आगे हम *संक्षेप में* केवल उन लोगो का वर्णन करेगें जिनके भीतर छिपी क्रान्तिकारी भावना स्वामी दयानन्द और आर्यसमाज द्वारा वामन से विराट स्वरूप हुई | गांधी से पूर्व की *कांग्रेस के उत्तर भारत के ज्यादातर नेता आर्य समाज से प्रेरित थे।* इनमें स्वामी श्रद्धानंद मुख्य थे। बाद मे गांधी जी की नितियो इनमे से बहुत से नेता हिंदू महासभा मे शामिल हो गए। स्वामी जी ने स्वयं व उनके शिष्यों *स्वामी श्रध्दानन्द जी,महात्मा हंसराज जी,* स्वामी सत्यदेव जी, स्वामी सोमदेव जी, परमानन्द जी आदि ने बढ़ चढ़ कर क्रान्ति में भाग लिया था | तथा साथ ही सैकड़ो युवको को अपने ओजस्वी भाषणों से उन्हें अंग्रेजो के खिलाफ उठ खड़े होने को प्रेरित किया था | क्रान्तिकारी *भगत सिँह के दादा सरदार अर्जुन सिँह* और चाचा अजीत सिहँ स्वयं स्वामी दयानन्द जी के शिष्य थे | चाचा की प्रेरणा से ही भतीजा भगत सिहँ क्रान्तिकारी बना | *क्रान्तिकारियों के गुरू 'श्यामा जी कृष्ण वर्मा' को तो स्वयं महर्षि दयानन्द जी ने प्रेरित करके अंग्रेजों की राजधानी लंदन में जाकर क्रांन्ति फैलाने को भेजा था |* जहाँ जाकर उन्होनें गोरो की नाक में दम कर दिया था | महात्मा गाँधी जी को भी महर्षि दयानन्द और आर्यसमाज प्रेरित गोखले जी, *महादेव गोविन्द रानाडे* तथा भाई परमानन्द जी ने आजादी के आन्दोलन के लिए ही प्रेरित किया था | *विनायक वीर सावरकर जी को श्यामा जी कृष्ण वर्मा ने प्रेरित किया था |* *रामप्रसाद बिस्मिल* तथा ठाकुर रोशन सिँह को स्वामी सोमदेव जी ने ही प्रेरणा दी थी | इन्हीं दोनों आर्यसमाजी मित्रों ने ही अशफाक उल्ला खाँ को भी क्रांतिकारियो का सहयोगी बनने को उत्सुक किया था | सुखदेव जी को स्वामी सत्यदेव जी ने एंव उधम सिँह को स्वामी श्रध्दानन्द जी ने तथा *लाला लाजपत राय* को महात्मा हंसराज जी और पं० गुरूदत्त विद्यार्थी ने देश की आन पर मर मिटने को तैयार किया था | सर वैलेण्डा इन शिरोल ने भारत का दौरा करने के पश्चात् अपनी पुस्तक अनरैस्ट इन इण्डिया में अपनी रिपोर्ट लिखी थी... "आर्यसमाज ही एक ऐसी ताकत है जो अंग्रेजी साम्राज्य को नष्ट करने के लिए संघर्षशील है |" *क्रान्तिकारी लाला लाज पत राय तो आर्यसमाज को अपनी माता कहते थे वहीं नेताजी सुभाषचन्द्र बोस के अनुसार...* "संगठित कार्य, दृढ़ता, उत्साह और समन्वयत्मकता की दृष्टि से आर्यसमाज की क्षमता कि बराबरी कोई समाज नहीं कर सकता |" हैदराबाद के भारत के शामिल कराने के सरदार वल्लभभाई पटेल के साथ स्वामी श्रद्धानंद द्वारा स्थापित *गुरुकुल कांगङी के बृहम्चारीयो ने निजाम के खिलाफ रक्तरंजित हैदराबाद आंदोलन चलाया था।* यह तो बस परिचय मात्र के लिए कुछ उदाहरण दिए। वरना इस विषय पर तो पुरा ग्रंथ लिखा जा सकता है। *कृणवन्तो विश्वमार्यम* भारत माता की जय हो

अगला लेख: Azaad Bharat: 4 साल से बापू आशारामजी को बेल नही मिलने के पीछे राजनैतिक दलों का हाथ: माँ चेतनानंद



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2017
।।राम राम सा।।।।खड़े होकर खाना क्यों नहीं खाना चाहिए।। भोजन से ही हमारे शरीर को कार्य करने की ऊर्जा मिलती है। हमारे देश में हर छोटे से छोटे या बड़े से बड़े कार्य से जुड़ी कुछ परंपराए बनाई गई हैं।वैसे ही भोजन करने से जुड़ी हुई भी कुछ मान्यताएं हैं। भोजन हमारे जीवन की
01 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
भारत ने दुनिया को ऐसे बदला... हमारे महान देश भारत ने दुनिया को बौद्ध धर्म,जैन धर्म,सिख धर्म,तेजोमहालय (ताजमहल) जैसे बहुत से उपहार दिए है!हमने ही दुनिया को संगीत के माध्यम से नृत्य करना और आनंदित होना सिखाया है,संसार को योग और आध्यात्म भी भारत की ही देन है।यह बात तो सभी को पता ही है!आज मै आप को ऐसी
16 अगस्त 2017
13 अगस्त 2017
मुस्लिम 1400साल से दुनिया को यही बताते आ रहे हैं कि असली जिहाद क्या है ।मुसलमानों का कहना होता है कि असली जिहाद खुद कि बुराई से लड़ना है । मगर आतंकी वहीं कुरान कि ही आयतों को पढ़कर बताते हैं कि वो जो कुछ भी कर रहे हैं वो इस्लाम में जायज है ।क
13 अगस्त 2017
13 अगस्त 2017
तुष्टिकरण की पराकाष्टा : हिन्दुओ के बनाये ध्रुव स्तम्भ को कुतुब्दीन ऐबक का कुतबमीनार बता दिया गयादिल्ली में हिन्दुओ ने ध्रुव स्तम्भ बनायापर वामपंथी इतिहासकारो, और सेकुलरों ने इसे लूले और गुलाम कुतुब्दीन ऐबक का कुतुबमीनार बता दियाइसकी दीवारों पर अरबी में कलमा वलमा गुदवा दि
13 अगस्त 2017
07 अगस्त 2017
हि
*हिन्दुओं के भगवान* मुसलमान और ईसाई कभी अपनी धार्मिक पुस्तकों के विरुद्ध कार्य नही करते , उन्होंने मोहम्मद व ईसा के अलावा किसी को अपना भगवान नही माना । और अपने कट्टर हिन्दू भाइयो को देखो - 1: रेवन में कुतिया का मंदिर बना दिया , कुतिया को भगवान बना दिया 2: राजस्थान म
07 अगस्त 2017
14 अगस्त 2017
चीन. जनसंख्या और टेक्नॉलजी के मामले में नंबर वन हुआ पड़ा है. पाकिस्तान से आजकल “मोहब्बत बरसा देना तू सावन आया है” टाइप मोहब्बत फैला रखी है. बाकी इनका सब कुछ ठीक है लेकिन जो हमारी सीमाओं में घुस जाते हैं न, वो नाकाबिले बर्दाश्त है. कई बार तो मन करता है कि रॉकेट लॉन्चर लेकर
14 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
*योगीराज, निति निपुण पराक्रमी वीर योद्धा , गोपालक, महान कूटनीतिज्ञ सत्यधर्मी सदाचारी एकपत्निव्रत (माता रुक्मिणी) ब्रह्मचारी वेदंज्ञ महात्मा धर्मात्मा दुष्टनाशक परोपकारी आर्य (श्रेष्ठ) पुरुष राष्ट्र धर्म स्त्री रक्षक सर्व परा* *पाप दोष रहित निष्कलंक शुद्ध पवित्र चरित्र..*_*योगेश्वर भगवान् श्रीकृष्ण ज
16 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
*वैदिक एकेश्वरवाद*-----------------------------------------वेद में एकेश्वरवाद का जितना स्पष्ट और सुन्दर वर्णन है ऐसा वर्णन संसार के सम्पूर्ण साहित्य में कहीं भी उपलब्ध नहीं होगा,देखिये-*न द्वितीयो न तृतीयश्चतुर्थो नाप्युच्यते ।**न पञ्चमो न षष्ठः सप्तमो नाप्युच्यते ।।**नाष्टमो न नवमो दशमो निप्युच्यते
16 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
जन गण मन गुलामी का गीत जो पहली बार सत्र 1911 में अंग्रेजो के राजा जॉर्ज पंचम के सम्मान में गाया गया, जिसे अंग्रेजो के चाटुकार रविन्द्र नाथ टैगोर ने लिखा । क्या आपको इस गीत के शब्दों का मतलब पता है ? नहीं ना , तो सच्चाई जानने के लिए इस वीडियो को अवश्य देखें और अगली बा
16 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
गौमाता गांव गरीब गोपाल को बचाने का अभियान है गोचरणमुक्ति आंदोलन- भगवान कृष्ण ने गोपाष्टमी के दिन से गोचरान में गौमाता को चराने निकले थे भगवान कृष्ण से प्रेरणा लेकर विदेशियों ने अपने देश मे चारागाह भूमि का प्रबंध किया ।*विदेशो में चारागाह भूमि की स्थिति**इंग्लैंड - 3.5 एकड़ प्रति पशु के लिए आरक्षित*
16 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x