नेहरू की बहन ने किया था एक मुसलमान से इश्क, जो गांधी को गवारा न हुआ?

18 अगस्त 2017   |  पूनम शर्मा   (745 बार पढ़ा जा चुका है)

आज जवाहरलाल नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित का जन्मदिन है. और भारत के इतिहास में भाई-बहन की इतनी ताकतवर जोड़ी हुई नहीं है. फिर नेहरू की तरह विजया का जीवन भी कई तरह के विवादों में रहा.

भारत की पहली औरत, जो मंत्री बनी

‘गांधी परिवार’ की औरतों ने राजनीति में अपनी धमक हमेशा बनाई रखी है. इंदिरा गांधी और सोनिया गांधी ने तो पूरी राजनीति की है. फिर अभी जब कांग्रेस तकलीफ में आती है, तो लोग तुरंत कहने लगते हैं कि प्रियंका को बुलाओ. पर इन लोगों से पहले विजयलक्ष्मी पंडित 1937 में ही ब्रिटिश इंडिया के यूनाइटेड प्रोविन्सेज में कैबिनेट मंत्री बनी थीं.

नेहरू से 11 साल छोटी और अपनी बहन कृष्णा से 7 साल बड़ी थीं विजया. इलाहाबाद से अपनी पढ़ाई शुरू की. बाद में गांधी और नेहरू के साथ स्वतंत्रता संग्राम में लड़ीं. पहले डैडी मोतीलाल नेहरू और बाद में भाई जवाहरलाल नेहरू के साथ राजनीति में सक्रिय रहीं.

विजया, नेहरू और इंदिरा

राजनीति में इतने वैरायटी के पोस्ट संभाले, जो हैरान कर देते हैं:

1.


1937 से 1939 तक यूनाइटेड प्रोविन्सेज में ‘लोकल सेल्फ-गवर्नमेंट’ और ‘पब्लिक हेल्थ’ का डिपार्टमेंट संभाला. दोनों ही डिपार्टमेंट गुलाम भारत में आज के भारत की नींव रख रहे थे.

2.


1946 में संविधान सभा में चुनी गईं. औरतों की बराबरी से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय रखी और बातें मनवाईं.

3.


आज़ादी के बाद 1947 से 1949 तक रूस में राजदूत रहीं. ये दौर भारत के लिए बड़ा सनसनीखेज था. क्योंकि सुभाषचंद्र बोस के रूस में होने की अफवाह उड़ती रहती.

4.


अगले दो साल अमेरिका की राजदूत रहीं. मतलब कम्युनिस्ट देश से सीधा कैपिटलिस्ट देश में! वो भी तब, जब दोनों देशों में कोल्ड वॉर चल रहा था.

5.


फिर 1953 में यूएन जनरल असेंबली की प्रेसिडेंट रहीं. मतलब पहली औरत, जो वहां तक पहुंची भारत का सिक्का जमाने.

6.


1955 से 1961 तक इंग्लैंड, आयरलैंड और स्पेन में हाई कमिश्नर रहीं. 1962 से 1964 तक महाराष्ट्र की गवर्नर रहीं.

7.


1964 में नेहरू का निधन हुआ. और विजया नेहरू के क्षेत्र फूलपुर से लोकसभा में चुनी गईं.

यहां तक सब कुछ होने के बाद नेहरू की बहन होने के नाते ऐसा अंदाज़ा लगाया जा रहा था कि विजया प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हो सकती हैं. पर ऐसा कुछ नहीं हुआ. क्योंकि इंदिरा गांधी से इनकी नहीं बनती थी.

आइये पढ़ते हैं विजया के जीवन की तीन विवादस्पद बातें:

1.


डैडी मोतीलाल नेहरू इलाहाबाद में अखबार चलाते थे The Independent. 1919 में इस अखबार के एडिटर के लिए उन्होंने सैय्यद हुसैन नाम के धांसू लड़के को बुलाया. हुसैन के बारे में कम लोग जानते हैं. पर अपने समय में हुसैन जैसा बोलने वाला कोई था नहीं. लड़के ने अमेरिका में जाकर गांधी के ऊपर लिखकर और लेक्चर देकर इंडिया का डंका बजा दिया था.

फिर वही हुआ. दो शानदार लोग एक जगह रहते हैं, तो आकर्षण स्वाभाविक है. कहते हैं कि 19 की विजया और 31 के हुसैन एक-दूसरे से बंध गए. समाजवाद और धार्मिक एकता का ड्रम बजाने वाला नेहरू परिवार इस रिश्ते को स्वीकार नहीं कर पाया. ठीक उसी तरह जैसे इंदिरा-फिरोज के रिश्ते को नेहरू ने नकार दिया था. और शायद इसीलिए इन्दिरा ने अपने दोनों बेटों को इस बात के लिए खुला छोड़ दिया. तो 1922 में हुसैन ने इलाहाबाद छोड़ दिया. ये बिल्कुल एकलव्य वाला किस्सा था. हुसैन गांधी के भक्त थे. और गांधी ने खिलाफत आन्दोलन का प्रवक्ता बनाकर हुसैन को इंग्लैंड भेज दिया. पर अफवाह उड़ती रहती कि दोनों ने शादी कर ली है.

सईद नकवी अपनी किताब ‘बीइंग द अदर्स’ में अपने अंकल वसी नकवी, जो रायबरेली से MLA थे और 50 के दशक में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे चंद्र भान गुप्ता के हवाले से बताते हैं कि उस समय के सबसे बड़े आदमी, भारत की एकता के प्रतीक महात्मा गांधी भी इस रिश्ते के खिलाफ थे. उनको लगता था कि इससे आन्दोलन पर असर पड़ेगा. शायद इंडिया में हर आदमी अपने घर में कम्युनल हो जाता है. और विजया की शादी कर दी गई महाराष्ट्र के एक ‘ब्राह्मण’ से. जो तीन बच्चों के बाद 1944 में दुनिया छोड़ गए.

पर हुसैन से नेहरू का रिश्ता ख़त्म हुआ नहीं था. नेहरू की रिश्ते रखने की आदत शायद बेहद शानदार थी. उन्होंने हुसैन को मिस्र का राजदूत बना के भेज दिया. कहते हैं कि विजया और हुसैन एक-दूसरे को भूल नहीं पाए थे. कभी-कभी मिल लेते थे. उस समय इंटरनेशनल मीडिया में इस बात की बड़ी चर्चा होती थी. मिस्र में ही हुसैन मर गए. उनके नजदीकी लोग कहते थे कि हुसैन एक टूटे हुए दिल के साथ मरे थे. अपनी उदास जिंदगी को शानदार अंदाज में जीते थे. वो उदासी उनके बड़े से कमरे में झलकती थी. किसी फिल्म के स्टार की तरह रहते थे. पर उदास. विजया उनकी कब्र पर फूल चढ़ाने जाती रहती थीं.

2.


विजया के साथ दूसरा विवाद जुड़ा सुभाष चन्द्र बोस को लेकर. हमेशा ऐसा कहा जाता रहा कि बोस मरे नहीं हैं. उनको रूस में रखा गया है. मॉस्को में रामकृष्ण मिशन के मुखिया स्वामी ज्योतिरूपानंद ने कहा था कि एक बार विजया को रूसी अधिकारी ले गए थे सुभाष के पास. एक छेद से दिखाया गया सुभाष को. जब विजया इंडिया आईं, तो एक जगह कहा था कि मेरे पास ऐसी खबर है कि हिंदुस्तान में तहलका मच जाएगा. शायद आज़ादी से भी बड़ी खबर. पर नेहरू ने उनको मना कर दिया कुछ भी कहने से.

नेताजी सुभाष चंद्र बोस. Photo: Reuters

3.


विजया के साथ तीसरा विवाद था इंदिरा से. ये एक तेज-तर्रार बुआ और मां के अपमान से जली हुई भतीजी के बीच की जंग थी. इंदिरा की मां कमला नेहरू एक साधारण परिवार से आती थीं. नेहरू परिवार बहुत हाई-फाई था. इसमें कमला का हमेशा मजाक बनता. भाई-बहन के आगे कमला निरीह रहतीं. इंदिरा ने इस चीज को बड़ी शिद्दत से महसूस किया था. फिर बुआ विजया हमेशा इंदिरा को बदसूरत कहतीं. ये चीज इंदिरा के दिमाग में धंस गई थी. इतनी कि अपने अंतिम दिनों में भी इंदिरा इस बात का जिक्र कर देतीं. प्रधानमंत्री बनने के बाद इंदिरा ने बुआ को एकदम साइड कर दिया. भाई के सामने ताकतवर रहने वाली विजया लाचार हो गईं. जब इंदिरा ने देश में इमरजेंसी लगाई, तो विजया खुल के इंदिरा के खिलाफ आ गईं. चैन तब आया उनको, जब इंदिरा 1977 का चुनाव हार गईं.

1990 में विजया की मौत हुई. नयनतारा सहगल विजया की ही बेटी हैं. वही नयनतारा, जिन्होंने 2015 में अपना साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा दिया था. जो भी हो. हिंदुस्तान की सबसे बेहतरीन औरतों में विजय लक्ष्मी पंडित का नाम हमेशा आगे रहेगा. इनके साथ ही हम सैय्यद हुसैन को भी याद करेंगे. एक शानदार आदमी, जिसके बारे में लोगों को कम पता है. वो आदमी, जिसे देखकर ब्रिटेन में कहा गया कि जब हिंदुस्तान में ऐसे लोग हैं, तो देश पिछड़ा कैसे है?


ये आर्टिकल ऋषभ ने लिखा है.

साभार - http://www.thelallantop.com/bherant/birthday-of-vijayalakshmi-pandit-first-political-woman-of-nehru-gandhi-family/

अगला लेख: ’प्यार करना है, तो अपने धर्म में करो’ बोलने वालों को प्यार से जवाब दिया इस हिन्दू-मुस्लिम कपल ने



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215


अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: कोकिलाबेन धीरूभाई अस्पताल @ gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अगस्त 2017
अक्सर देखा गया है कि सास-बहू का रिश्ता कड़वाहट भरा ही होता है, फिर चाहे वो असल ज़िन्दगी हो या टीवी सीरियल्स. लेकिन असल ज़िन्दगी में एक सास अगर अपनी बहू को अपने बेटे से ज़्यादा समझे तो आश्चर्य ही होगा. हालांकि, ऐसा नहीं है कि असल ज़िन्दगी में हर सास अपनी बहू पर अत्याचार ही करती है. जी हां, आज जो खबर हम आप
17 अगस्त 2017
09 अगस्त 2017
“मुझे मत पढ़ाओ , मुझे मत बचाओ,, मेरी इज्जत अगर नहीं कर सकते ,तो मुझे इस दुनिया में ही मत लाओमत पूजो मुझे देवी बनाकर तुम,मत कन्या रूप में मुझे 'माँ' का वरदान कहोअपने अंदर के राक्षस का पहले तुम खुद ही संहार करो।“ एक बेटी का दर्द चंडीगढ़ की स
09 अगस्त 2017
18 अगस्त 2017
भूत एक ऐसा शब्द है, जिसका नाम आते ही आपके कान खड़े हो जाते होंगे. दुनिया में कई घटनाएं होती रही हैं, जो भूतों के अस्तित्व पर सोचने को मजबूर करती हैं. आज हम आपको कुछ ऐसी ही तस्वीरें दिखाने जा रहे हैं,जो रियल भूतों की हैं और कैमरे में कैप्चर हुई हैं. इन्हें देखने के बाद शायद आज रात आपको नींद नहीं आएगी.
18 अगस्त 2017
17 अगस्त 2017
प्यार न धर्म देखता है, न जात देखता है.बॉलीवुड में इस डायलॉग को बोल कर न जाने कितनी फ़िल्में हिट हुई हैं. बड़ा अच्छा लगता है, जब फ़िल्म में दो अलग धर्मों के प्यार करने वाले आखिकार मिल जाते हैं. लेकिन जब ऐसा ही कुछ असल ज़िन्दगी में सामने आये, तो कुछ ऐसा सुनने को मिलता है, 'उनका और हमारा हिसाब-किताब बिलकुल
17 अगस्त 2017
31 अगस्त 2017
2
इस साल स्वतंत्रता दिवस के दिन एक तस्वीर इंटरनेट पर ज़बरदस्त वायरल हुई थी. बाढ़ के पानी में दो बच्चे लगभग गले तक डूबे थे. इन दो बच्चों के साथ ही दो और व्यस्क लोग झंडे को सलामी दे रहे थे. जहां लाखों लोगों ने इसे देशभक्ति के तौर पर सराहा था, वहीं कुछ ऐसे भी थे जो आज़ादी के 70 साल बाद भी लोगों की बाढ़ प
31 अगस्त 2017
03 अगस्त 2017
बहुत अच्छा लगता है, जब कोई सिविक सेंस को समझने वाला बंदा दिखाई पड़ता है. ऐसा बंदा जिसे नागरिक अधिकारों का एहसास भी हो और उस पर होने वाले अतिक्रमण की ख़बर भी हो. जिसे पता हो कि पब्लिक में लोगों को कैसे बिहेव करना चाहिए. ऐसे ही एक व्यक्ति से कल पूरा ट्विटर रूबरू हुआ. और यही व्यक्ति बीजेपी अध्यक्ष अमित श
03 अगस्त 2017
03 अगस्त 2017
वैसे तो आईपीएस अधिकारियों को अपनी फिटनेस का ध्यान रखना होता है लेकिन कई मामलों में कुछ पुलिसवाले ऐसा नहीं कर पाते।पुलिस सेवा में कम ही ऐसे ऑफिसर हैं जो अपनी फिटनेस बनाए रखते हैं, लेकिन हम जिनकी बात करने जा रहे हैं वो फिटनेस ही नहीं बल्कि लुक्स के मामले में भी किसी हीरो से कम नहीं हैं।यह हैं मध्य प्र
03 अगस्त 2017
11 अगस्त 2017
सपा और बीएसपी नेताओं ने जनता का ढेर सारा पैसा बचा दिया है. यह पैसा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके चार मंत्रियों को सदन का सदस्य बनाने के लिए होने वाले विधानसभा चुनाव में खर्च होना था. हालांकि अब ऐसी नौबत नहीं आने वाली है. ऐसा इसलिए, क्योंकि सपा नेता अशोक वाजपे
11 अगस्त 2017
22 अगस्त 2017
1 सितंबर 2017 को अजय देवगन की फ़िल्म 'बादशाहो' रिलीज़ हो रही है. ये फ़िल्म इस मायने में भी खास है कि इस फ़िल्म के सहारे एक ऐसे विवाद को उठाने की कोशिश की गई है, जो पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के कार्यकाल के सबसे बड़े विवादों में से था. फ़िल्म के ट्रेलर में दिखाया
22 अगस्त 2017
21 अगस्त 2017
पिछले कई दिनों से तीन तलाक़ को लेकर विवाद चल रहा है. महिला संगठनों का कहना है कि दूल्हे के तीन बार तलाक़ कह देने से मुस्लिम शादी ख़त्म हो जाती है, जिससे महिलाओं की ज़िन्दगी बर्बर होती है और उनके अधिकारों का हनन होता है. तीन तलाक़ अकेली ऐसी प्रथा नहीं है, जहां महिलाओं का शोषण होता है, आज हम आपको जिस प्रथा
21 अगस्त 2017
24 अगस्त 2017
आज सिर्फ़ नोट पर और मूर्तियों के रूप में दिखने वाले बापू ने देश की आज़ादी में अहम भूमिका निभाई थी. ये बात अलग है कि लोग उनकी सीख को भूलते जा रहे हैं. बापू और उनके द्वारा दिखाए गए सत्य, अहिंसा के रास्ते पर आज दुनिया के कई लोग चल रहे हैं, पर उनके देश के लोग ही उनकी सीख को भूलते जा रहे हैं.बचपन से ही ह
24 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
गौमाता गांव गरीब गोपाल को बचाने का अभियान है गोचरणमुक्ति आंदोलन- भगवान कृष्ण ने गोपाष्टमी के दिन से गोचरान में गौमाता को चराने निकले थे भगवान कृष्ण से प्रेरणा लेकर विदेशियों ने अपने देश मे चारागाह भूमि का प्रबंध किया ।*विदेशो में चारागाह भूमि की स्थिति**इंग्लैंड - 3.5 एकड़ प्रति पशु के लिए आरक्षित*
16 अगस्त 2017
06 अगस्त 2017
कुछ पता न चलेपर कारोबार चले,भरोसा न भी चले,जिंदगी चलती चले,चलन है, तो चले,रुकने से बेहतर, चले,न चले तो क्या चले,यूं ही बेइख्तियार चले,सांसें, पैर, अरमान चले,फिर, क्यूं न व्यापार चले,सामां है तो हर दुकां चले,हर जिद, अपनी चाल चले,अपनों से, गैर से, रार चले,इश्क है, न ह
06 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x