सामाजिक व्यवस्था बनाना ही सबसे बड़ी पूजा है - मलखानसिंह

23 अगस्त 2017   |  मलखानसिंह भदौरिया   (296 बार पढ़ा जा चुका है)

सामाजिक व्यवस्था बनाना ही सबसे बड़ी पूजा है - मलखानसिंह

वेद पुरानो के अध्यन से सिर्फ एक बात निकलकर आती है की जितने भी इस प्रथ्वी पर देव,महापुरुष अवतरित हुए उन सभी का उद्देश्य सामाजिक व्यवस्था बनाना था ! भगवान श्रीराम जी ने एक राजा के होने के बाबजूध पिता के वचन की खातिर राजमहल का त्याग कर वनवासी हो गए क्योकि कुल का यह सदाचार था की प्राण चले जाए पर वचन ना जाये इसीलिए भगवान् ने एक कर्तब्य परायण पुत्र की भूमिका निभाते हुए कुल की मर्यादा और पिता के आदेश का पालन किया ! वहीँ दूसरी ओर एक भाई ने भाई के लिए राजमहल का त्याग कर दिया और उसने भी 14 वर्ष वन में रहने का निर्णय लिया भगवान् के भ्राता भरत के इस त्याग और बलिदान को पूरे समाज और प्रजा ने सराहा भरत का भाई श्रीराम जी के प्रति प्रेम इतना था की निश्चित ही श्रीरामचरित मानस की उस लीला ने हजारों वर्ष तक हमारे देश में भाई भाई के प्रेम को ज़िंदा रखा श्रीरामचरित मानस में तो यहां तक कह दिया है की सारा जग राम को जपता है और श्रीरामजी श्रीभरत जी को जपते थे इसका उद्देश्य यही था की एक परिवार के स्तम्भ भाई-भाई होते है भरत जी की भाई के ंप्रतिः प्रीती को इतना सराहा की श्रीराम जी भरत जी को ही जपने लगे यानी आने वाले समय में इस प्रेम को याद रखकर भाइयों में प्रेम बना रहे सायद यही उद्देश्य था भगवान् श्री राम जी का !!क्यों की जहाँ भाइयो में प्रेम नहीं रहा तो निश्चित ही परिवार टूटेगा परिवार टूटने पर सामाजिक प्रेम भाईचारा समाप्त हो जायेगा और उससे हिंसा उतपन्न होगी जिससे सामाजिक व्यवस्था बिगड़ने लगेगी ! वहीँ पिता एक परिवार का मुखिया होता है जिन परिवारों में मुखिया की बात को तबज्जो दिया जाता हो परिवार के मुखिया की बनायीं गयी व्यवस्थाअनुशार सभी सदस्य चलते हो निश्चित ही वह घर किसी मंदिर से कम नहीं होता ! रामचरित मानसा में रावण का पुत्र मेघनाथ ये समझ चूका था की जिससे वह युद्ध कर रहा है वह कोई आम मनुष्य नहीं बल्कि स्वम् नारायण का अवतार है यह बात उन्होंने अपने पिता रावण को भी बताई पर रावण ने यह कहकर उसे दुत्कार दिया की तुम मौत के भय के कारन ऐसा बोल रहे हो , यह सुनकर मेघनाथ ने पिता से कहा की आज में यह जानकार की मेरी मौत निश्चित है तब भी में पिता की खातिर रणभूमि में स्वम् नारायण से युद्ध करूँगा रावण दल में मेघनाथ ही एक ऐसा योद्धा था जिसका वध करते श्रीरामजी ने कहा की यह पिता का भक्त है इसलिए मेघनाथ का वध करना साधारण नहीं है यानी रामायण में दूसरी जगह स्वम भगवान के द्वारा बतया गया है की जो पिता का भक्त है उस पर भगवान् की सदैव कृपा रहती है ,वहीँ भगवान श्रीशिव जी के पुत्र श्री गणेश जी को माता की आज्ञा के पालन में श्रीशिवजी के कोप का भाजन होना पड़ा यहां माता की आज्ञा के पालन में प्राण न्योछार करने वाले माँ के भक्त श्रीगणेश जी को भगवन ने स्रवश्रेष्ठता का वरदान दिया यानी


सामाजिक व्यवस्था बनाना ही सबसे बड़ी पूजा है - मलखानसिंह

अगला लेख: क्या वर्ष 2019 में फिर भाजपा सत्ता में आएगी



सुन्दर ज्ञानवर्धक लेख परंतु कहीं-कहीं वर्तनी की त्रुटियों के कारण प्रवाह बाधित हो रहा है और अंत में वाक्य अधूरा ही रह गया है | क्षमा के साथ ..सादर

रवि कुमार
24 अगस्त 2017

बहुत अच्छी जानकारी , इश्वर हमें ऐसे ही सिखाते है पर आज हम सब बस पढ़ के भूल जाते हैं

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x