वैसे धर्म है क्या ?

26 अगस्त 2017   |  रोमिश ओमर   (131 बार पढ़ा जा चुका है)

वैसे धर्म है क्या ?

आज इस संसार में जो भी कार्य धर्म समझकर हो रहे हैं उन सभी कार्य में धर्म का लेशमात्र भी नहीं है.. धर्म की परिभाषा से आज दुनिया कोसो दूर जा चुकी है ..

आइये जानते हैं कि ...

धर्म है क्या.. sanskrit के 'धृ' धातु में धारणे पूर्वक मनिन् प्रत्यय लगने से धर्म शब्द बनता है जिसका अर्थ है धारण करने योग्य अब हमें क्या धारण करना चाहिए इस विषय में महर्षि मनु का कहना है .. 'आचारच्शैव साधूनां' सज्जन पुरुषों का आचरण ही धर्म है मनुस्मृति में अन्यत्र कहा गया है - धृति क्षमा दमोस्तेयं, शौचं इन्द्रियनिग्रहः। धीर्विद्या सत्यं अक्रोधो, दसकं धर्म लक्षणम्॥

अर्थात् - धर्म के दस लक्षण हैं - धैर्य , क्षमा , संयम , चोरी न करना , स्वच्छता , इन्द्रियों को वश मे रखना , बुद्धि , विद्या , सत्य और क्रोध न करना ( अक्रोध ) वही महाभारत के वनपर्व में यक्ष को धर्म की परिभाषा बताते हुए युधिष्ठिर कहते हैं- दया ही श्रेष्ठ धर्म है भागवत पुराण में धर्म के ये तीस लक्षण बताये गये हैं - सत्य,दान,पवित्रता, कष्ट सहने की क्षमता, उचित और अनुचित विचार का निर्णय करना, मनोनिग्रह, अहिंसा,त्याग,ब्रह्मचर्य, स्वाध्याय,सरलता,संतोष,समभाव,मौन,आत्मचिंतन,धैर्य, अन्नदान,पूजा,यज्ञ, आदि .. गोस्वामी तुलसीदास जी धर्म के लिखते हैं- परहित सरिस धरम नहीं भाई पर पीड़ा सम नही अधमाई धर्म के विषय में पद्मपुराण में लिखा है-

श्रूयतां धर्मसर्वस्वं श्रुत्वा चाप्यवधार्यताम्। आत्मनः प्रतिकूलानि परेषां न समाचरेत्।। अर्थात् - धर्म का सर्वस्व क्या है, सुनो ! और सुनकर इसका अनुगमन करो। जो आचरण स्वयं के प्रतिकूल हो, वैसा आचरण दूसरों के साथ नहीं करना चाहिये। याद रखिए कि जो परंपराएं, प्रथाएं या कार्य किसी को कष्ट दें, वे धर्म कदापि नहीं है.. बल्कि ऐसे झूठे धर्म तो त्यागने के लिए ही बने हैं- परित्यजेदर्थकामौ यौ स्यातां धर्मवर्जितौ। धर्मं चाप्यसुखोदर्कं लोकनिकृष्टमेव च।। (मनुस्मृति) अर्थात- ऐसी संपत्ती तथा मन की अभिलाषा (कामना), जो धर्म के विपरित हो उसका त्याग करना चाहिए। इतना ही नहीं, उस धर्म का भी त्याग करना अनुचित नहीं होगा जो धर्म भविष्य में संकट उत्पन्न कर सकता है तथा जो किसी समाज के प्रतिकुल सिद्ध हो सकता है। आइये, धर्म और पंथ के अंतर को पहचाने और पंथ व मत मतांतर को छोड़कर धर्म की ओर चले ... #सनातन_संस्कृति_संघ

अगला लेख: इस्लाम का त्याग करने वाली इस लड़की ने मोहम्मद की बजाई बैंड



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अगस्त 2017
तुष्टिकरण की पराकाष्टा : हिन्दुओ के बनाये ध्रुव स्तम्भ को कुतुब्दीन ऐबक का कुतबमीनार बता दिया गयादिल्ली में हिन्दुओ ने ध्रुव स्तम्भ बनायापर वामपंथी इतिहासकारो, और सेकुलरों ने इसे लूले और गुलाम कुतुब्दीन ऐबक का कुतुबमीनार बता दियाइसकी दीवारों पर अरबी में कलमा वलमा गुदवा दि
13 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
*योगीराज, निति निपुण पराक्रमी वीर योद्धा , गोपालक, महान कूटनीतिज्ञ सत्यधर्मी सदाचारी एकपत्निव्रत (माता रुक्मिणी) ब्रह्मचारी वेदंज्ञ महात्मा धर्मात्मा दुष्टनाशक परोपकारी आर्य (श्रेष्ठ) पुरुष राष्ट्र धर्म स्त्री रक्षक सर्व परा* *पाप दोष रहित निष्कलंक शुद्ध पवित्र चरित्र..*_*योगेश्वर भगवान् श्रीकृष्ण ज
16 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
गौमाता गांव गरीब गोपाल को बचाने का अभियान है गोचरणमुक्ति आंदोलन- भगवान कृष्ण ने गोपाष्टमी के दिन से गोचरान में गौमाता को चराने निकले थे भगवान कृष्ण से प्रेरणा लेकर विदेशियों ने अपने देश मे चारागाह भूमि का प्रबंध किया ।*विदेशो में चारागाह भूमि की स्थिति**इंग्लैंड - 3.5 एकड़ प्रति पशु के लिए आरक्षित*
16 अगस्त 2017
13 अगस्त 2017
मुस्लिम 1400साल से दुनिया को यही बताते आ रहे हैं कि असली जिहाद क्या है ।मुसलमानों का कहना होता है कि असली जिहाद खुद कि बुराई से लड़ना है । मगर आतंकी वहीं कुरान कि ही आयतों को पढ़कर बताते हैं कि वो जो कुछ भी कर रहे हैं वो इस्लाम में जायज है ।क
13 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
16 अगस्त 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x