अंग्रेजो ने शिवलिंग तुड़वाया, आज भी होती है उस खंडित शिवलिंग की पूजा | दिल से देशी (Dil Se Deshi)

27 अगस्त 2017   |  रोमिश ओमर   (232 बार पढ़ा जा चुका है)

अंग्रेजो ने शिवलिंग तुड़वाया, आज भी होती है उस खंडित शिवलिंग की पूजा | दिल से देशी (Dil Se Deshi)

हिन्दू धर्म शास्त्रों और पुराणों में मूर्ति पूजा की प्रधानता है. किन्तु खंडित मूर्ति की पूजा करना वर्जित माना जाता हैं. क्योंकि खंडित मूर्ति की पूजा करने से उसका विपरीत फल प्राप्त होता है. इसीलिए किसी भी खंडित मूर्ति की पूजा नही की जाती है. यदि घर में कोई मूर्ति खंडित हो जाती है तो उसे नदी में प्रवाहित कर दिया जाता है. यदि मूर्ति में थोड़ी सी भी खरोंच आ जाती है तो उस मूर्ति की पूजा नही की जाती है.

khandit shivling ki pooja

किन्तु आपको जानकर आश्चर्य होगा की एक ऐसा शिवलिंग है जो खंडित होने के बाद भी आज तक पूजनीय हैं. यह शिवलिंग झारखंड के गोइलकेरा के महादेवशाल धाम मंदिर में स्थित है. इस शिवलिंग के बारे में कहा जाता है कि इसकी पूजा पिछले 150 सालों से इस तरह से खण्डित शिवलिंग के रूप में होती है. इस शिवलिंग के खण्डित होने के पीछे की कथा अनोखी हैं.

–> इसे भी पढ़ें:चाणक्य नीति – इन 4 कामों को करने के बाद नहाना जरूरी होता है. जानिए क्यों?

स्वतंत्रता के पूर्व जब लगभग 19वीं शताब्दी के मध्य झारखंड के गोइलकेरा क्षेत्र में रेल लाइन बिछाने का कार्य चल रहा था. रेल लाइन के कार्य हेतु खुदाई चल रही थी तो खुदाई के दौरान वहां से एक शिवलिंग निकला था. शिवलिंग निकलने पर मजदूरों ने आस्था के वशीभूत होकर खुदाई करना बंद कर दिया था. किन्तु उस समय उस कार्य को देखने वाले ब्रिटिश इंजीनियर ‘रॉबर्ट हेनरी’ ने शिवलिंग को एक पत्थर मात्र बताते हुए शिवलिंग पर प्रहार कर दिया जिससे फलस्वरूप शिवलिंग दो टुकड़ों में विभाजित हो गया. किन्तु जब वह इंजीनियर शाम घर जा रहा था तो रास्ते में ही उसकी मौत हो गई.

khandit shivling ki pooja

इस घटना से हतप्रभ होकर मजदूरों और ग्रामीणों ने रेलवे लाइन को वहां से बदल कर दूसरी तरफ करने की मांग की. किन्तु अंग्रेज अधिकारीयों ने उनकी मांग को अस्वीकार कर दिया. किन्तु जब मजदूरों ने कार्य करना बंद कर दिया तो अंग्रेजो ने मजदूरों के समक्ष झुककर रेलवे लाइन की दिशा को बदल दिया. और फिर दूसरी तरफ रेलवे लाइन का काम किया गया.
khandit shivling ki pooja

मजदूरों और ग्रामीणों ने उस मूर्ति के दोनों टुकडो को शिवलिंग के रूप में स्थापित किया. पहला टुकड़ा उसी जगह पर देवशाल मंदिर का निर्माण करके वहां पर गर्भगृह में स्थापित किया गया है. जबकि शिवलिंग का दूसरा टुकड़ा वहां से दो किलोमीटर दूर रतनबुर पहाड़ी पर देवी ‘माँ पाउडी’ के साथ स्थापित है, जहां पर शिवलिंग की नियमित रूप से पूजा होती हैं.

आज इस मन्दिर को भव्य रूप दे दिया गया है और बड़े धूमधाम से भक्त दर्शन करने के लिए आते है..

–> इसे भी पढ़ें: विदुर नीति – जानिए कब स्त्री, अन्न, योद्धा और तपस्वी की प्रशंसा करनी चाहिए.. और क्यों?

अंग्रेजो ने शिवलिंग तुड़वाया, आज भी होती है उस खंडित शिवलिंग की पूजा | दिल से देशी (Dil Se Deshi)

http://dilsedeshi.com/khandit-shivling-ki-pooja/

अगला लेख: इस्लाम का त्याग करने वाली इस लड़की ने मोहम्मद की बजाई बैंड



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 अगस्त 2017
आज इस संसार में जो भी कार्य धर्म समझकर हो रहे हैं उन सभी कार्य में धर्म का लेशमात्र भी नहीं है..धर्म की परिभाषा से आज दुनिया कोसो दूर जा चुकी है .. आइये जानते हैं कि ... धर्म है क्या.. sanskrit के 'धृ' धातु में धारणे पूर्वक मनिन् प्रत्यय लगने से धर्म शब्द बनता है जिस
26 अगस्त 2017
13 अगस्त 2017
अगस्त 12, 2017गोवा : सनातन संस्था द्वारा हुए एक कार्यक्रम के दौरान उत्तरप्रदेश, डासना, चंडीदेवी मंदिर सिद्धपीठ की महंत यति माँ #चेतनानंद सरस्वती ने एक चैनल में इंटरव्यू देते हुए कई सवाल उठाते हुए कहा कि #सनातन संस्था बहुत ही #पवित्र कार्य कर रही है, इसके माध्यम से अलग-अलग
13 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
*ईश्वर और भगवान का भेद* *ऐश्वर्यस्य समग्रस्य धर्मस्य यशसः श्रियः ।* *ज्ञानवैराग्ययोश्चैव षण्णां भग इतीरणा ।। -(विष्णु पुराण 6/5/74)**अर्थ―*सम्पूर्ण ऐश्वर्य,धर्म,यश,श्री,ज्ञान और वैराग्य--इन छह का नाम भग है।इन छह गुणों से युक्त महान पुर
16 अगस्त 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x