यसोदा छंद

30 अगस्त 2017   |  महातम मिश्रा   (111 बार पढ़ा जा चुका है)

यशोदा छंद* विधान~ [ जगण गुरु गुरु ] (121 2 2) 5 वर्ण,4 चरण, दो-दो चरण समतुकांत....... "यशोदा छंद" पढ़ी पढ़ाई भली भलाई। कहा न मानो करो त जानो।।-1 लगी लगाई हल्दी सुहाई। छटा निराली खुशी मिताली।।-2 नई नवेली वहू अकेली। सुई चुभाए दिल घबराए।।-३ उगी हवेली नई चमेली। अनार छाए सितार गाए।।-4 पकी पकाई मिली मलाई। जिह्वा भाए नेह बढ़ाए।।-5 महातम मिश्र 'गौतम' गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अगस्त 2017
"गज़ल" देखता हूँ मैं कभी जब तुझे इस रूप में सोचता हूँ क्यों नहीं तुम तके उस कूप में क्या जरूरी था जो कर गए रिश्ते कतल रखके अपने आप को देखते इस सूप में।। देख लो उड़ गिरे जो खोखले थे अधपके छक के पानी पी पके फल लगे बस धूप में।। छोड़ के पत्ते उड़े जो देख पीले हो गए साख से जो भी जुड़े हैं सभी उस रूप में।।
30 अगस्त 2017
06 सितम्बर 2017
p
"पिरामिड" (1) ये चोटी शिखर हिमालय गगन चुम्बी पर्वत मालाए रक्षा सीमा प्रहरी।। (2) ये शीर्ष पहाड़ रमणीय सुंदर छवि झरते झरना अतीव लुभावना।। महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
06 सितम्बर 2017
23 अगस्त 2017
“हाइकु”छूटा बंधन मुँह में मिठाइयाँ सत्य की जीत॥-१ घिनौना स्वार्थ हाय तोबा दुहाई वो शहनाई॥-२ बहाना बाजीराह मील पत्थरमोह मंजिल॥-३ वापस आई पटरी पर रेल सुखद यात्रा॥-४ डाली का बौरअपने अपने बाग प्यार मुहब्बत॥-५ सबका धर्म स्त्री पुरुष मानवदया करुणा॥-६ वो काली रात भयानक सपना सुबह हुई॥-७ महातम मिश्र ‘गौत
23 अगस्त 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
मु
01 सितम्बर 2017
07 सितम्बर 2017
गी
01 सितम्बर 2017
गा
02 सितम्बर 2017
21 अगस्त 2017
16 अगस्त 2017
k
05 सितम्बर 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x