गज़ल

30 अगस्त 2017   |  महातम मिश्रा   (121 बार पढ़ा जा चुका है)

"गज़ल" देखता हूँ मैं कभी जब तुझे इस रूप में सोचता हूँ क्यों नहीं तुम तके उस कूप में क्या जरूरी था जो कर गए रिश्ते कतल रखके अपने आप को देखते इस सूप में।। देख लो उड़ गिरे जो खोखले थे अधपके छक के पानी पी पके फल लगे बस धूप में।। छोड़ के पत्ते उड़े जो देख पीले हो गए साख से जो भी जुड़े हैं सभी उस रूप में।। तेज झोंका झेलकर झूमता है वो खड़ा क्या कहूँ कि हर गिला शांत है बस चूप में।। मन तुम्हारें कौन सा अंकुरण उगने लगा बैठ तो इस डाल पर नित झूमती सरूप में।। द्वंद घर्षण बाग में गौतम रगड़ती डालियाँ पर न कोई भी धड़ा दिखता विवस कुरूप में।। महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 सितम्बर 2017
गी
गीतिका, आधार : वर्णिक छंद तोटक, समांत : आर, पदांत : धरो, मापनी : 112 112 112 112 [4 सगण ]=16 मात्रा अंत लयात्मक तुकान्त....... "गीतिका" मृदुता नहिं तापर खार धरो ममता नहिं वा पर प्यार धरो मन मान तरो यह बात बड़ी मरजाद लिए घर द्वार धरो।। समता अपनी तनि देखि चलो क्षमता रख ताड़ पहार धरो।। रखना नहिं भा
05 सितम्बर 2017
10 सितम्बर 2017
वो अपने दर्द के सब रिश्ते पुराने हो गएमेरे दीवाने भी अब तो पूरे सयाने हो गएएक समय वो भी था वो मेरे नज़दीक थे अब तो रुखसार को देखे ज़माने हो गएमेरे जीवन में तो बस एक तपती धूप थीवो यहाँ आ गए और मौसम सुहाने हो गएवक्त की चाल कभी कोई नहीं जा
10 सितम्बर 2017
02 सितम्बर 2017
गा
गाथ छंद◆* विधान~[ रगण सगण गुरु गुरु] ( 212 112 2 2) 8 वर्ण, 4 चरण, दो-दो चरण समतुकांत]....... "गाथ छंद" प्राण हो हिय आओ जी तान हो पिय गाओ जी। राग हूँ सुन जाओ तो आस हो जत लाओ तो।। चाह हो तुम बैठो सा आह ले मत ऐंठो सा। नाचती रहती गौरी पाँव में घुघरू पौरी।। महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
02 सितम्बर 2017
06 सितम्बर 2017
p
"पिरामिड" (1) ये चोटी शिखर हिमालय गगन चुम्बी पर्वत मालाए रक्षा सीमा प्रहरी।। (2) ये शीर्ष पहाड़ रमणीय सुंदर छवि झरते झरना अतीव लुभावना।। महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
06 सितम्बर 2017
30 अगस्त 2017
यशोदा छंद* विधान~ [ जगण गुरु गुरु ] (121 2 2) 5 वर्ण,4 चरण, दो-दो चरण समतुकांत....... "यशोदा छंद" पढ़ी पढ़ाई भली भलाई। कहा न मानो करो त जानो।।-1 लगी लगाई हल्दी सुहाई। छटा निराली खुशी मिताली।।-2 नई नवेली वहू अकेली। सुई चुभाए दिल घबराए।।-३ उगी हवेली नई चमेली। अनार छाए सितार गाए।।-4 पकी पकाई मिल
30 अगस्त 2017
01 सितम्बर 2017
गी
गीतिका , छंद- रोला, मात्रा भार- 11, 13 (विषम चरण तुकांत 1 2, सम चरण का अंत 1 2, समांत- अना, अपदांत.."गीतिका" खुले गगन आकाश, परिंदों सा तुम उड़ना जब तक मिले प्रकाश, हौसला आगे बढ़ना भूल न जाना तात, रात भी होती पथ पर तक लेना औकात, तभी तुम ऊपर चढ़ना।। सहज सुगम अंजान, विकल
01 सितम्बर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
पि
01 सितम्बर 2017
16 अगस्त 2017
21 अगस्त 2017
23 अगस्त 2017
g
04 सितम्बर 2017
07 सितम्बर 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x