हिंदी दिवस: अतिथि तुम कब जाओगी?

12 सितम्बर 2017   |  हरीश भट्ट   (243 बार पढ़ा जा चुका है)

हिंदी  दिवस:  अतिथि तुम कब जाओगी? - शब्द (shabd.in)

‘अतिथि देवो भवः’ दुनिया भर में घूमते-घूमते एक दिन अंग्रेजी हिन्दी के घर में आई। शुरू-शुरू में अच्छा लगा, नया मेहमान आया है। खूब-खातिरदारी हुई। घर के हर कोने में अच्छा सम्मान मिला, हर किसी को लगा मेहमान अच्छा है। हिन्दी मेहमाननवाजी करते-करते कब अपने घर में बेगानी हो गई, हिन्दी को पता भी न चला। अंग्रेजी ने धीरे-धीरे घर के हर कोने में अपनी जड़े जमा दी। जहां हिन्दी का स्वर्णिम इतिहास भी धूल में मिल गया। वक्त की मार खाते-खाते हिन्दी भयानक रूप से बीमार हो गई। जबकि अंग्रेजी को किसी भी तरह की कोई दिक्कत न आने के कारण वह तन्दरूस्त हो गई। आलम यह है कि आज हर तरफ अंग्रेजी हावी है, जबकि हिन्दी बेचारी अपने घर में ही बेगानों सा जीवन जी रही है। मन को खुश करने वाली बात है कि खास चीजों को सेलीब्रेट करने के लिए जैसे मदर्स डे, चिल्ड्रन डे, टीचर्स डे है, ठीक उसी तरह अंग्रेजी ने भी हिन्दी के लिए एक दिन १४ सितम्बर को हिन्दी डे घोषित कर रखा है, ताकि उसके मेजबान को बुरा न लगे। हम खुश है कि हमको मेहमान के दबाव में एक दिन की आजादी मिली हिन्दी डे को सेलीब्रेट करने। इस एक दिन में हिन्दी के स्वर्णिम पलों को याद कर लेते है, थोडा अपने ज्ञान को प्रचार-प्रसार दे लेते है, क्योंकि फिर समय मिलें या न मिले, अगर हमने किसी और दिन हिन्दी की बात की, तो हमारा मेहमान हमसे नाराज होकर चला न जाए और अतिथि देवो भवः, और हम अपने देव को नाराज नहीं कर सकते, भले ही हमारा अपना हमसे नाराज़ न हो जाए क्योंकि घर की मुर्गी दाल बराबर, तभी तो हम आज अंग्रेजी के नाज-नखरे उठा रहे है, और न जाने कब तक उठाते रहेंगे। यह सवाल हमेशा जिंदा रहेगा अतिथि तुम कब जाओगी?

अगला लेख: बंद अक्ल खुली मंद-मंद



Shriom K Jindal
30 सितम्बर 2017

अति सुन्दर!

अलोक सिन्हा
14 सितम्बर 2017

हरीश जी बहुत सफल लेख है यह आपका |

इंजी. बैरवा
13 सितम्बर 2017

‘अतिथि देवो भवः’... हम अपने देव को नाराज नहीं कर सकते, भले ही हमारा अपना हमसे नाराज़ हो जाए क्योंकि घर की मुर्गी दाल बराबर...
बहुत खूब लिखा है ।

... आजकल हम देखते है कि हम लोग हिंदी की बजाए इंग्लिश को ज्यादा महत्त्व देने लगे है, क्योकि आज भी कार्यालयीन जगहों पर इंग्लिश भाषा का महत्त्व बरकरार है । ऐसे समय में ‘हिंदी दिवस’ मनाना लोगो में हिंदी भाषा के प्रति गर्व को जागृत करता है और लोगो को याद दिलाता है कि हिंदी ही हमारी राष्ट्रभाषा है । हमें याद रखना होगा कि ‘हिन्दी दिवस’ देश की धरोहर होती है, जिस तरह हम तिरंगे को सम्मान देते है उसी तरह हमें हमारी राष्ट्रभाषा को भी सम्मान देना चाहिए । जब तक हम खुद इस बात को स्वीकार नही करते है, तब तक हम दूसरो से इसकी अपेक्षा नहीं रख सकते है ।
हमें गर्व होना चाहिए की हम हिंदी भाषी है ।
हिंदी है वतन है. .. हिन्दोस्तान हमारा. ..

पूनम शर्मा
13 सितम्बर 2017

बहुत ही बढ़िया लिखा . हरीश जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x