“दोहा मुक्तक”

28 सितम्बर 2017   |  महातम मिश्रा   (105 बार पढ़ा जा चुका है)

 “दोहा मुक्तक”

“दोहा मुक्तक”


यह तो प्रति हुंकार है, नव दिन का संग्राम।

रावण को मूर्छा हुई, मेघनाथ सुर धाम।

मंदोदरी महान थी, किया अहं आगाह-

कुंभकर्ण फिर सो गए, घर विभीषण राम॥-१


यह दिन दश इतिहास में , विजय पर्व के नाम।

माँ सीता की वाटिका, लखन पवन श्रीराम।

सेतु बंध रामेश्वरम, शिव मय राम महान-

लंका नगरी राक्षसी, टिके न पापी नाम॥-२

दश दश माथ दशानना भुजा बीस बेकार।

अमृत नाभि निहारता, लेकर वर नादार।

छल कल मन भरता गया, भक्त प्रथम लंकेश-

था अति प्रिय कैलाश का, खंडित किया करार॥-३


धन्य कोशलाधीश प्रभु, पहुँचे सरयू तीर।

माता कौशल्या मिली, भ्राता भरत अधीर।

अगवानी में सज गई, अवली दीप कतार-

नवरात्रि सुख संपदा, दीपावली अमीर॥-४


तरह तरह व्यंजन भरे, शुद्ध स्वाद पकवान।

सजे कार्तिक व्याहता, घर तुलसी धनवान।

नित्य साँझ दीपक जले, पूनम को बारात-

शरद ऋतू अति पावनी, माँ महिमा पहचान॥-५


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “दुर्मिलसवैया”



महातम मिश्रा
10 अक्तूबर 2017

सादर धन्यवाद आदरणीया रेणु बाला जी, बहुत बहुत बधाई आप को और पुरे परिवार को.....

रेणु
29 सितम्बर 2017

-------- आदरणीय मिश्रा जी --------- आपने तो रामायण का एक हिस्सा अपनी रचना में सजीव कर दिया | बहुत खूब !!!!!!!!!!!!!! आपको विजयादशमी की अनेकानेक मंगल कामनाएं प्रेषित करती हूँ -------------

रेणु
29 सितम्बर 2017

-------- आदरणीय मिश्रा जी --------- आपने तो रामायण का एक हिस्सा अपनी रचना में सजीव कर दिया | बहुत खूब !!!!!!!!!!!!!! आपको विजयादशमी की अनेकानेक मंगल कामनाएं प्रेषित करती हूँ -------------

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 सितम्बर 2017
दुर्मिल सवैया (वर्णिक ) शिल्प - आठ सगण, सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा सलगा, ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२ ११२“दुर्मिलसवैया”हिलती डुलती चलती नवका, ठहरे विच में डरि जा जियरा।भरि के असवार खुले रसरी, पतवार रखे जल का भँवरा ।अरमान लिए सिमटी गठरी, जब शोर मचा हंवुका उभरा।ततका
19 सितम्बर 2017
10 अक्तूबर 2017
"चौपाली चर्चा में विकास और प्रकाश" वसुधैव कटुम्बकम के आग्रही, नेक नियति के पथ पर चलने वाले झिनकू भैया न जाने कहाँ कहाँ भटकते रहते हैं और किसके कब कहाँ और कैसे मिलते रहते हैं ये तो वहीं जाने पर आजकल वे किसी विकास और प्रकाश नामक नए परिचित पर फ़िदा हो गए हैं। जब देखों विकास
10 अक्तूबर 2017
26 सितम्बर 2017
गीतिका आधार छंद- मंगलवत्थू (मापनीमुक्त), विधान- २२ मात्रा, ११,११ पर यति, मध्य यति से पूर्व और पश्चात त्रिकल, ये त्रिकल क्रमशः गाल और लगा हों तो सर्वोत्तम, समांत - आस, पदांत – रहे "गीतिका" आया शुभ त्योहार, दशहरा खास रहेकटकुटिया की रात,
26 सितम्बर 2017
13 अक्तूबर 2017
“दोहा-मुक्तक”घर की शोभा आप हैं, बाहर में बहुमान भवन सदन सुंदर लगे, जिह्वा मीठे गानधाम धाम में वास हो, सद आचरण निवासभक्ती भक्त शिवामयी, शक्ति गुणी सुजान॥-१घर मंदिर की मूर्ति में, संस्कार का वास प्रति मनके में राम हैं, प्रति फेरा है खाससबके साथ निबाहिए, अंगुल अंगुल जापनिशा
13 अक्तूबर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x