“दोहा मुक्तक”

29 सितम्बर 2017   |  महातम मिश्रा   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

“दोहा मुक्तक”


भूषण आभूषण खिले, खिल रहे अलंकार।

गहना इज्जत आबरू, विभूषित संस्कार।

यदा कदा दिखती प्रभा, मर्यादा सम्मान-

हरी घास उगती धरा, पुष्पित हरशृंगार॥-१


गहना हैं जी बेटियाँ, आभूषण परिवार।

कुलभूषण के हाथ में, राखी का त्यौहार।

बँधी हुई ये डोर है, कच्चे धागे प्रीत-

नवदुर्गा की आरती, पुण्य प्रताप अपार ॥-२


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “दुर्मिलसवैया”



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 अक्तूबर 2017
“कुंडलिया”अपनी गति सूरज चला, मानव अपनी राह ढ़लता दिन हर रोज है, शाम पथिक की चाह शाम पथिक की चाह, अनेकों दृश्य झलकते दिनकर आए हाथ, चाँदनी चाँद मलकते “गौतम” छवि दिनमान, वक्त पर जलती तपनीपकड़ तनिक अभिमान, शुद्ध कर नीयत अपनी महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
12 अक्तूबर 2017
15 सितम्बर 2017
(शीर्षक--- तम, तिमिर, अंधकार, अंधियारा, तमस आदि समानांतर शब्द)"मुक्तक"अंधेरों ने कब कहा, दे दो मुझको दाद।बैठो मेरे संग तुम, होकर के बरबाद।इसी लिए तो दिन बना और बनी मैं रात-लगी आँख पिय आप की, हुई निशा आबाद।।-१तिमिर तमस तम जब बढ़ा, हुआ धुप्प अँधकार।अँधियारों को तजे, उदय किरण
15 सितम्बर 2017
12 अक्तूबर 2017
आधार छंद- लावणी (मापनीमुक्त) विधान- 30 मात्रा 1614 पर यति अंत में वाचिक गुरु। समांत - आता पदांत- है "गीतिका" चलो दशहरा पर्व मनाए, प्रति वर्ष यह आता है दे जाता है नई उमंगे, रावण को मरवाता है हम भी मेले में खो जाएँ, तकते हुए दशानन को आग लगा
12 अक्तूबर 2017
20 सितम्बर 2017
मुक्त काव्य " लटकी तस्वीर" विश्वविद्यालय के परिसर की हँसती खिलखिलाती भीड़ की और मेरा वहाँ से निकलना हुआ मेरे साथ थी उत्कंठा अनुज की किताबों की जिल्द नेताओं से अमीर थी वहाँ लटकी हुई तस्वीर थी। चुनावी परिणाम खुशी की लहर मेरा अनुज भी तो है अति बहर फूलों की माला
20 सितम्बर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
12 अक्तूबर 2017
12 अक्तूबर 2017
10 अक्तूबर 2017
26 सितम्बर 2017
28 सितम्बर 2017
19 सितम्बर 2017
12 अक्तूबर 2017
13 अक्तूबर 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x