.... ...जननी गयी हैं मुझसे रूठ .

09 अक्तूबर 2017   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (99 बार पढ़ा जा चुका है)

.... ...जननी गयी हैं मुझसे रूठ .

वो चेहरा जो

शक्ति था मेरी ,

वो आवाज़ जो

थी भरती ऊर्जा मुझमें ,

वो ऊँगली जो बढ़ी थी

थाम आगे मैं ,

वो कदम जो

साथ रहते थे हरदम,

वो आँखें जो दिखाती

रोशनी मुझको ,

वो चेहरा

ख़ुशी में मेरी हँसता था ,

वो चेहरा

दुखों में मेरे रोता था ,

वो आवाज़

बातें ही बतलाती ,

वो आवाज़

गलत करने पर धमकाती ,

वो ऊँगली बढाती

कर्तव्य-पथ पर ,

वो ऊँगली

भटकने से थी बचाती ,

वो कदम

निष्कंटक राह बनाते ,

वो कदम

साथ मेरे बढ़ते जाते ,

वो आँखें

सदा थी नेह बरसाती ,

वो आँखें

सदा हित ही मेरा चाहती ,

मेरे जीवन के हर पहलू

संवारें जिसने बढ़ चढ़कर ,

चुनौती झेलने का गुर

सिखाया उससे खुद लड़कर ,

संभलना जीवन में हरदम

उन्होंने मुझको सिखलाया ,

सभी के काम तुम आना

मदद कर खुद था दिखलाया ,

वो मेरे सुख थे जो सारे

सभी से नाता गया है छूट ,

वो मेरी बगिया की माली

जननी गयी हैं मुझसे रूठ ,

गुणों की खान माँ को मैं

भला कैसे दूं श्रद्धांजली ,

ह्रदय की वेदना में बंध

कलम आगे न अब चली .


शालिनी कौशिक

[कौशल ]

अगला लेख: पट्टा-लाइसेंस और मानस जायसवाल



रेणु
11 अक्तूबर 2017

आदरनीय शालिनी जी ---- माँ हम बेटियों में सदा जीवित रहती है अपने संस्कार और संवेदनाओं के रूप में | दर्द की रिश्ता जो होता है माँ बेटी का | हम उन्ही की परछाई हैं | पर फिर भी सशरीर माँ का न होना बहुत मर्मान्तक होता होगा \ भाग्यशाली हूँ मैं माँ साथ है | सस्नेह सांत्वना आपको

ऐसा भाग्य आपका सदैव बना रहे .हार्दिक शुभकामनाओं के साथ

रेणु
09 अक्तूबर 2017

आदरणीय शालिनी जी -- मुझे पता नहीं ये मात्र एक रचना है या सचमुच किसी ने ममता की देवी ' माँ ' को खोया है पर ये एक संवेदन शील मन के भावपूर्ण रुदन है जो पढने वाले के मन में सन्नाटे व्याप्त कर देते है | क्या कहूँ ? निशब्द हूँ !!!!!!!!! इस पीड़ा की कोई सांत्वना नहीं बहना !!!!!!!!!!!!

ये सत्य है रेनू जी ,आज मेरी माँ की पुण्यतिथि है .सांत्वना हेतु हार्दिक धन्यवाद्

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अक्तूबर 2017
बहुत सह लिया ,सुन लिया ,सारी परिस्थितियां अपने क्षेत्र के पक्ष में होते हुए मात्र राजनीतिक स्थिति खिलाफ होते हुए कम से कम मेरा मन सब कुछ गंवाने को गंवारा न हुआ क्योंकि न केवल इसमें मात्र मेरे क्षेत्र के आर्थिक हितों की हानि है बल्कि इसमें जनता के न्यायिक हित भी छिन रहे है
03 अक्तूबर 2017
24 अक्तूबर 2017
दिल्ली के गांधीनगर में पांच वर्षीय गुडिया के साथ हुए दुष्कर्म ने एक बार फिर वहां की जनता को झकझोरा और जनता जुट गयी फिर से प्रदर्शनों की होड़ में .पुलिस ने एफ.आई.आर.दर्ज नहीं की ,२०००/-रूपए दे चुप बैठने को कहा और लगी पुलिस पर हमला करने -परिणाम एक और लड़की दुर्घटना की
24 अक्तूबर 2017
21 अक्तूबर 2017
''प्रमोशन के लिए बीवी को करता था अफसरों को पेश .''समाचार पढ़ा ,पढ़ते ही दिल और दिमाग विषाद और क्रोध से भर गया .जहाँ पत्नी का किसी और पुरुष से जरा सा मुस्कुराकर बात करना ही पति के ह्रदय में ज्वाला सी भर देता है क्या वहां इस तरह की घटना पर यकीन किया जा सकता है ?किन्तु चाहे अनचाहे यकीन करना पड़ता है
21 अक्तूबर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x