"चौपाली चर्चा में विकास और प्रकाश"

10 अक्तूबर 2017   |  महातम मिश्रा   (81 बार पढ़ा जा चुका है)

"चौपाली चर्चा में विकास और प्रकाश"


वसुधैव कटुम्बकम के आग्रही, नेक नियति के पथ पर चलने वाले झिनकू भैया न जाने कहाँ कहाँ भटकते रहते हैं और किसके कब कहाँ और कैसे मिलते रहते हैं ये तो वहीं जाने पर आजकल वे किसी विकास और प्रकाश नामक नए परिचित पर फ़िदा हो गए हैं। जब देखों विकास को मंच पर बैठा देते हैं और चौपाल बुला लेते हैं। माटी की दीवार से लेकर संगमरमर से बने ताजमहल तक की चर्चा शुरू हो जाती है और बात फिर वहीं आकर रुक जाती है कि यह क्या है वह क्या है, किसने बनवाया किसने गिरवाया और महंगाई पर नकेल कसने वाली सभा, भौजी के झुँझलाहट से डर कर चाय की चुस्की चुप्पी में विसर्जित हो जाती है। अजी सुनते हो अपने आकाश को देखों दसवीं में फेल हो गया और तुम दिन रात विकास और प्रकाश में उलझे हुए हो। कुछ तो शरम करो मेरे पंडित स्वामी, घर की चाय पत्ती चीनी और गैस सिलिंडर आखिरी दिन गिन रहे है। चिंता न करो भागवान कल सातवें वेतन पंच की बढ़ी हुई पेंसन मिलने वाली है, पौने दो साल से इसी का तो इंतजार था।अब दिन बदल जाएंगे, वगैरा वगैरा। सुबह नहा धोकर झिनकू भैया ललक में बैंक पहले ही पहुँच गए और दुकान पर समाचार पत्र हथिया कर बाँकडे पर काबिज हो गए। पन्ना उलट ही रहे थे कि उनके नए मित्र प्रकाश का फोटो दिख गया जो अब देवी देवताओं के शरण में पहुँचकर नई ऊँचाइयों को छूने के लिए दर दर माथा पटक रहा है। उधर दूसरे पन्ने पर विकास के उत्साहित मन की नई नई योजनाएं चमक रहीं हैं जो अब फलिभूत होने की झलक भी कहीं कहीं देने लगी हैं। इधर पन्ना पूरा हुआ नहीं कि बैंक का दरवाजा खुला और झिनकू भैया अपना पासबुक लेकर बैंक में समा गए, जब निकले तो दो हजारी नोट का रंग उनके चेहरे से साफ झलक रहा था। दूसरे दिन शानदार चौपाल जमी और चर्चा में सारे मुद्दे अपनी अपनी टाँग फसाने लगे, जी. एस.टी. से लेकर कालाधन और तमाम पाखंडी बाबाओं की पगड़ी उछल कर जमीन पर आ गई। देश-विदेश की धरती पर जय हिंद, जय विकास पर तालियों की गड़गड़ाहट से झिनकू भैया का ओसारा गूंज उठा और तय हुआ कि विकास अति जरूरी जो अपनी निश्छल गति से खूब आगे बढ़ रहा है और प्रकाश का होना भी बहुत जरूरी है रात उसकी है तो दिन विकास का, अब यह अलग बात है कि रात में प्रकाश हो तो वह भी दिन जैसी ही फलदाई लगती है। झिनकू भैया अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहे कि प्रकृति अपना संतुलन बना कर चलती है तो मनुष्य को भी संतुलन बनाकर चलना चाहिए और जनता को खुश रखना चाहिए। आज भौजी बहुत खुश हैं, तस्तरी में सलीके से सजे हुए चाय-नमकीन और बिस्किट तो कुछ ऐसे ही संदेश दे रहे हैं। जय हो झिनकु भैया के मित्र विकास और प्रकाश की।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



महातम मिश्रा
12 अक्तूबर 2017

हृदयावत धन्यवाद आदरणीया, आप का स्नेह बना रहे, शुभ दिवस

रेणु
10 अक्तूबर 2017

' जय हो झिनकु भैया के मित्र विकास और प्रकाश की।'' बहुत खूब आदरणीय मिश्रा जी ---- प्रखर लेखनी और रोचक अंदाज और अपने प्यारे झिनकू भैया | क्या कहने इस रोचक ठेठ गवई अभिव्यक्ति के | बहुत बधाई आपको और हार्दिक शुभकामना |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अक्तूबर 2017
"चौपाई अद्भुत रस"बाल्मीकि के आश्रम आई, अनुज लखन सिय साथ निभाईमाँ सीता पर आँख उठाई, कोशल की चरचा प्रभुताई ।।-१ऋषी महामुनि अचरज पाए, लखन लला को पास बुलाएकहो भरत हिय रामहि भाए, कौशल्या के नैन थिराए।।-२कहो तात कोशल पुर कैसा, राज पाट सरयू पय जैसाकैसी प्रजा मनहुँ सुख वैसा, कैकेयी वर माँगति तैसा।।-३गति पति
10 अक्तूबर 2017
26 सितम्बर 2017
गीतिका आधार छंद- मंगलवत्थू (मापनीमुक्त), विधान- २२ मात्रा, ११,११ पर यति, मध्य यति से पूर्व और पश्चात त्रिकल, ये त्रिकल क्रमशः गाल और लगा हों तो सर्वोत्तम, समांत - आस, पदांत – रहे "गीतिका" आया शुभ त्योहार, दशहरा खास रहेकटकुटिया की रात,
26 सितम्बर 2017
10 अक्तूबर 2017
"मुक्तक"नाच रही परियों की टोली, शरद पूनम की रात है।रंग विरंगे परिधानों में, सुंदर सी बारात है।मन करता है मैं भी नाचूँ, गाऊँ इनके साथ में-धवल चाँदनी खिली हुई है, सखी आपसी बात है।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
10 अक्तूबर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x