पारिवारिक निपटान आलेख और मानस जायसवाल

13 अक्तूबर 2017   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (170 बार पढ़ा जा चुका है)

पारिवारिक निपटान आलेख और मानस जायसवाल

मेरे पूर्व आलेख ' 'मेमोरेंडम ऑफ़ फॅमिली सेटलमेंट-पारिवारिक निपटान के ज्ञापन का महत्व '' को लेकर पाठकों की उत्साहवर्धक टिप्पणी प्राप्त हुई लेकिन इसके साथ ही एक पाठक ''श्री मानस जायसवाल'' जी के तो कई प्रश्न थे जिनके निवारण हेतु मैं एक नयी पोस्ट आप सभी से साझा कर रही हूँ .पहले श्री मानस जायसवाल जी की टिप्पणी-

बहुत ही उपयोगी लेख| लेकिन क्या ऐसे "जुबानी खानदानी बंटवारे का यादाश्तनामा" लिखित में बनने के बाद इसको लागू कराने की कोई समयसीमा होती है ?? क्या इसे रजिस्टर्ड कराना ज़रूरी है? क्या इसमें सभी सम्पतियों का हवाला होना ज़रूरी है? इस नाम के अग्रीमेंट को हम "Family Settlement" कहेंगे या "Family Partition Deed"

तो आप सभी की जानकारी के लिए बता दूँ कि बहुत सी बार घर में अपनेआप हिस्से बांटकर रहना आरम्भ कर देते हैं तब बाद में ये याद रहे कि हमने क्या बाँटा है इसे एक कागज पर लिख लेते हैं ये कागज सादा भी हो तो कोई फर्क नहीं पड़ता पर इस पर घर से बाहर के कम से कम दो लोगों के हस्ताक्षर होने चाहियें और इस पर सभी हिस्सेदारों के हस्ताक्षर भी होने चाहिए साथ ही जो संपत्ति जैसे-जैसे बांटी गयी है उसका विवरण उसके कब्जेदार के नाम से होना चाहिए .

ये एक याददाश्त पत्र है और मेरे पिछले आलेख के अनुसार उच्चतम न्यायालय व् इलाहाबाद उच्चन्यायालय ने भी इसे रजिस्टर्ड कराने से मुक्ति प्रदान की है ,हाँ अगर हम पहले कागज लिखित में तैयार करते हैं और तब घर बांटते हैं तब उसका रजिस्ट्रेशन आवश्यक है . और याददाश्त पत्र के लागू कराने की कोई समय सीमा नहीं होती क्योंकि इसके लिखने से पहले ही उन परिस्थतियों जन्म ले चुकी होती हैं और इसे पारिवारिक बंटवारा कहेंगे अर्थात ''FAMILY SETTLEMENT ''

शालिनी कौशिक [कानूनी ज्ञान ]

अगला लेख: पट्टा-लाइसेंस और मानस जायसवाल



रेणु
14 अक्तूबर 2017

आदरणीय शालिनी जी -------- बहुत ही ज्ञानवर्धक जानकारी दी आपने हार्दिक आभार आपका इस विषय के दोनों ही लेख पढ़ लिए| आभार आपका ------ सादर - सस्नेह ---------

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अक्तूबर 2017
एक की लाठी सत्य अहिंसा एक मूर्ति सादगी की, दोनों ने ही अलख जगाई देश की खातिर मरने की . .......................................................................... जेल में जाते बापू बढ़कर सहते मार अहिंसा में , आखिर में आवाज़ बुलंद की कुछ करने या मरने की . ..................................
01 अक्तूबर 2017
10 अक्तूबर 2017
दिल्ली -एनसीआर में ३१ अक्टूबर तक सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक लगाई ही थी कि लेखक चेतन भगत उसकी भर्तसना भी करने लग गए यह कहते हुए कि ,''यह हमारी परंपरा का हिस्सा है बिना पटाखों के बच्चों की कैसी दिवाली ? उनकी इस ट्वीट की देखा देखी ठाकरे भी बोले तो क्या व्
10 अक्तूबर 2017
04 अक्तूबर 2017
PM मोदी ने रखी शौचालय की नींव, बोले-शौचालय महिलाओं के लिए इज्जतघर वाराणसी : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी दौरे पर शहंशाहपुर में शौचालय की नींव रख स्वच्छता अभियान की शुरुआत की पीएम ने यहां एक जमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि हम में से कोई गंदगी में नहीं रहना
04 अक्तूबर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x