“दोहा-मुक्तक”

13 अक्तूबर 2017   |  महातम मिश्रा   (71 बार पढ़ा जा चुका है)

“दोहा-मुक्तक”


घर की शोभा आप हैं, बाहर में बहुमान

भवन सदन सुंदर लगे, जिह्वा मीठे गान

धाम धाम में वास हो, सद आचरण निवास

भक्ती भक्त शिवामयी, शक्ति गुणी सुजान॥-१


घर मंदिर की मूर्ति में, संस्कार का वास

प्रति मनके में राम हैं, प्रति फेरा है खास

सबके साथ निबाहिए, अंगुल अंगुल जाप

निशा दिवाकर अरु प्रभा, सबके संग निवास॥-२


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: आइए जी आज से हम दिल लगाना सीख लें, “गीतिका”



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 अक्तूबर 2017
बह्र- २२२१ २२२१ २२२१ २१२ काफ़िया-अते, रदीफ़- आर में “क़ता”हम भी आ नहीं पाए तिरे खिलते बहार मेंतुम भी तो नहीं आए मिरे फलते गुबार में इक पल को ठहर जाते कभी तुम भी पुकार करतो शिकवा न करती डगर बढ़ी ढ़लते किनार में॥ महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
12 अक्तूबर 2017
12 अक्तूबर 2017
“कुंडलिया”अपनी गति सूरज चला, मानव अपनी राह ढ़लता दिन हर रोज है, शाम पथिक की चाह शाम पथिक की चाह, अनेकों दृश्य झलकते दिनकर आए हाथ, चाँदनी चाँद मलकते “गौतम” छवि दिनमान, वक्त पर जलती तपनीपकड़ तनिक अभिमान, शुद्ध कर नीयत अपनी महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
12 अक्तूबर 2017
12 अक्तूबर 2017
आधार छंद- लावणी (मापनीमुक्त) विधान- 30 मात्रा 1614 पर यति अंत में वाचिक गुरु। समांत - आता पदांत- है "गीतिका" चलो दशहरा पर्व मनाए, प्रति वर्ष यह आता है दे जाता है नई उमंगे, रावण को मरवाता है हम भी मेले में खो जाएँ, तकते हुए दशानन को आग लगा
12 अक्तूबर 2017
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x