कैराना -मोदी-योगी को घुसने का मौका

14 अक्तूबर 2017   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (118 बार पढ़ा जा चुका है)

 कैराना -मोदी-योगी को घुसने का मौका

पलायन मुद्दे के शोर ने कैराना को एकाएक चर्चा में ला दिया ,सब ओर पलायन मुद्दे के कारण कैराना की बात करना एक रुचिकर विषय बन गया था ,कहीं चले जाओ जहाँ आपने कैराना से जुड़े होने की बात कही नहीं वहीं आपसे बातचीत करने को और सही हालात जानने को लोग एकजुट होने लगते ,उन्हीं दिनों मुझे भी आयोग के समक्ष एक साक्षात्कार में जाने का अवसर मिला तो बोर्ड के सदस्यों ने यह जानते ही कि मैं कैराना में वकालत करती हूँ ,मुझसे पहला प्रश्न यही किया ''कि कैराना पलायन मुद्दे की वास्तविकता क्या है ?'' अब सच क्या है ये मैं यहाँ अपने विचारों से आपके समक्ष कुछ तो रख ही दूंगी और जानती हूँ कुछ न कुछ तो आप भी अपने आप निकाल ही लेंगे क्योंकि सच है कि आज की जनता सब जानती है ,बेवकूफ नहीं है ,किसी से पागल बनने वाली भी नहीं है .

राजनीती और गठरी उद्योग कैराना की नसों में पल रहा है .यहाँ एक तरफ नेता हैं तो दूसरी तरफ गठरी के माध्यम से तस्करी करने वाले .एक तरफ लोगों के पेट नेतागर्दी से भरता है तो दूसरी तरफ अवैध सामानों को गठरी में बांधकर बॉर्डर पार ले जाकर पैसा कमाने से ,जबकि एक स्थानीय निवासी के अनुसार ,गठरी उद्योग तो अब समाप्त हो गया है और उसकी जगह ले ली है अब स्मैक के कारोबार ने ,जिसकी चपेट में न केवल कैराना के बल्कि आस-पास के गांव व् कस्बों के युवा भी तेजी से आ रहे हैं किन्तु एक अन्य स्थानीय निवासी के अनुसार गठरी उद्योग पुलिस की चौकसी के कारण छुपकर हो रहा है उसका कहना है -'' अरे ये भी कहीं ख़त्म हुआ करें क्या ?सब चलता रहवे और चल भी रहा है .''

इस सब के बीच जो बात बिलकुल ही बर्दाश्त के बाहर है वह है शहर के उस स्वागत द्वार पर जो कांधला की ओर है कूड़े-कचरे का ढेर ,जो कि मात्र ढेर ही नहीं है बल्कि गंदगी का साम्राज्य अगर कह दिया जाये तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी और उस पर कूड़े में से कुछ बीनते बच्चे व् गंदगी खाते सुअर और साथ ही २०१३ के दंगों में भागकर आये लोगों का उसी गंदगी में जीवनयापन करना ,वाकई बर्दाश्त की हद के बाहर है .कांधला से कैराना में प्रवेश एक ऐसा खतरनाक कार्य है जो कि ब्लू व्हेल गेम से भी ज्यादा जानलेवा है ,क्योंकि ब्लू व्हेल गेम तो जो खेल ेगा वही मरेगा किन्तु कांधला से कैराना में प्रवेश ,न चाहते हुए भी स्वास्थ्य को झेलना पड़ेगा ,आँखों को देखना पड़ेगा और नाक को सूंघना भी पड़ेगा .

मोदी सरकार द्वारा स्वच्छता अभियान के लिए करोड़ों रूपये की योजनाएं चलायी जा रही हैं ,जिला खुले में शौचमुक्त [ओडीएफ ]घोषित किया जा रहा है फिर कहाँ है योजना की सफलता जब सारी गंदगी यहाँ खुले में दिखाई दे रही है .मात्र कागजों में खुले में शौचमुक्ति को सफलता नहीं कहा जा सकता है ,ये सफलता तब दिखाई देगी जब कहीं भी ऐसी गंदगी के कारण रुमाल से नाक न ढकनी पड़े और रही अन्य गंदगी की बात ,प्रदेश में पॉलिथीन प्रतिबंधित है ,कोई बताये कहाँ है प्रतिबन्ध -फल सब्जी पॉलिथीन में मिल रहे हैं ,मौसमी आदि फलों का जूस कहीं ले जाने के लिए पॉलिथीन में मिल रहा है और यही पॉलिथीन इस्तेमाल के पश्चात् कैराना के बाहर फेंकी जा रही है जिसे बच्चे बीनते हुए गंदगी के ढेर में घुमते हुए आप स्वयं मेरे द्वारा प्रत्यक्ष लिए गए फोटो में देख सकते हैं वैसे भी कहा गया है -''प्रत्यक्षं किं प्रमाणं ?'' और कहना यहाँ के स्थानीय निवासियों का पेट पालने को ये बच्चे गंदगी में घुस रहे हैं और गंदगी बर्दाश्त करने को स्मैक की लत पाल रहे हैं .

और सबसे जरूरी जो सबके लिए ही है ''पापी पेट का सवाल '' वो भी यहाँ खतरे में पड़ गया है .कैराना में जो लोगों की आय का एक महत्वपूर्ण साधन था वह भी अब लगभग हिलता जा रहा है और वह है कैराना कोर्ट .उन तहसील का बनना ,यहाँ से फैमिली कोर्ट का जाना ,कई थाने कटना और शामली जिला बनना जिससे जिला जज के जिले में ही बैठने के कारण कैराना से कोर्ट का लगभग काम छिनने वाला है और छिनने वाला है निवाला बहुतों के मुंह से जो दशकों से यहाँ लगे थे और अपने परिवार का पालन-पोषण हर विपत्ति के बावजूद यहाँ रहकर कर रहे थे . ये हाल हैं कैराना के ,अब कोई बताये कि ऐसे में भला कोई सभ्य-सुशिक्षित यहाँ कैसे रह लेगा ,मर्डर-चोरी-रंगदारी ने तो पहले ही यहाँ के लोगों की कमर तोड़ दी है और अब ये जो हाल है ,पहले तो इसमें कोई भी खुद ही मर जायेगा और अगर दुर्भाग्य से कहूं या सौभाग्य से किसी तरह बच गया तो पलायन करेगा ही करेगा आखिर अपनी पीढ़ियों को वो माहौल कौन देना चाहेगा जो कैराना दे रहा है और लगता नहीं कि ये कैराना किसी को भी जीने देगा ,नगरपालिका चुनाव में वोटों को बटोरने के प्रयास हेतु ये आसपास के भी सभी गांव ख़तम करके ही छोड़ेगा क्योंकि दंगों से भागकर आये लोगों की वोट बटोरने का प्रयास शुरू हो चुका है.जो गंदगी सारे कार्यकाल में नहीं दिखी वह अब दिख रही है और उसे यहाँ से ट्रेक्टर-ट्रालियों में उठवाकर पास के गांव के खेतों-बागों के आगे डलवाया जा रहा है .फोटो आपके सामने हैं इसलिए कहना ही पड़ेगा कि कैराना के वास्तव में दुर्दिन आ गए हैं या फिर मोदी -योगी वाले अच्छे दिनों का मौका .


शालिनी कौशिक

[कौशल ]

 कैराना -मोदी-योगी को घुसने का मौका

अगला लेख: पट्टा-लाइसेंस और मानस जायसवाल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अक्तूबर 2017
संपत्ति का विभाजन हमेशा से ही लोगों के लिए सरदर्द रहा है और कलह,खून-खराबे का भी इसीलिए घर के बड़े-बुजुर्ग हमेशा से इसी कोशिश में रहे हैं कि यह दुखदायी कार्य हमारे सामने ही हो जाये .इस सबमेँ करार का बहुत महत्व रहा है .करार पहले लोग मौखिक भी कर लेते थे और कुछ समझदार लोग वकीलों से सलाह लेकर लिखि
08 अक्तूबर 2017
20 अक्तूबर 2017
मेरी पिछली पोस्ट ''पारिवारिक निपटान आलेख और मानस जायसवाल ''में मानस जायसवाल जी ने एक प्रश्न और पूछा था ,जो कुछ इस प्रकार था - धन्यवाद शालिनी जी, अभी भी एक सवाल बाकी है | अपने वाद के अनुसार पूछता हूँ| पाकिस्तान से विस्थापित होकर आए 3 भाई एक नए शहर में बस गए| उन्होंने खुली नीलामी में अलग
20 अक्तूबर 2017
21 अक्तूबर 2017
''प्रमोशन के लिए बीवी को करता था अफसरों को पेश .''समाचार पढ़ा ,पढ़ते ही दिल और दिमाग विषाद और क्रोध से भर गया .जहाँ पत्नी का किसी और पुरुष से जरा सा मुस्कुराकर बात करना ही पति के ह्रदय में ज्वाला सी भर देता है क्या वहां इस तरह की घटना पर यकीन किया जा सकता है ?किन्तु चाहे अनचाहे यकीन करना पड़ता है
21 अक्तूबर 2017
08 अक्तूबर 2017
''दरों दीवार पे हसरत से नज़र रखते हैं , खुश रहो अहले वतन हम तो सफर करते हैं .'' कह एलम का नौजवान गौतम पंवार भी अपने देश पर शहीद हो गया और नाम रोशन कर गया न केवल अपने छोटे से कसबे एलम का बल्कि पूरे प्रदेश का जहाँ से कोई भी अब ये नहीं कह सकता कि यहाँ की मिटटी में
08 अक्तूबर 2017
10 अक्तूबर 2017
1992 में एक फ़िल्म आई थी, नाम था यलगार। फ़िल्म के एक सीन में 53 वर्षीय पुलिस इंस्पेक्टर फ़िरोज़ खान, जो फ़िल्म के प्रोड्यूसर, डायरेक्टर, एडिटर और ज़ाहिर हैं कि लीड हीरो भी थे, अपने 34 वर्षीय पिता कमिश्नर मुकेश खन्ना को फ़ोन पर कहते हैं कि जब आपको पता हैं कि दुनियां का सबसे खतरनाक कॉन्ट्रैक्ट किलर, कार्लोस,
10 अक्तूबर 2017
16 अक्तूबर 2017
गोविंदा की भांजी ने शेयर की बेबी बम्प की तस्वीरें ,सोहा अली खान ने अपनी बेटी की पहली झलक दी दुनिया को आदि पक गए हैं वेबसाइट पर ये समाचार देखते -देखते ,पर क्या करें जो बिकता है मीडिया वही तो बेचेगा और बॉलीवुड का तो सितारों के शरीर से उतरा कपडा तक बिकता है इसीलिए एक गा
16 अक्तूबर 2017
08 अक्तूबर 2017
संपत्ति का विभाजन हमेशा से ही लोगों के लिए सरदर्द रहा है और कलह,खून-खराबे का भी इसीलिए घर के बड़े-बुजुर्ग हमेशा से इसी कोशिश में रहे हैं कि यह दुखदायी कार्य हमारे सामने ही हो जाये .इस सबमेँ करार का बहुत महत्व रहा है .करार पहले लोग मौखिक भी कर लेते थे और कुछ समझदार लोग वकीलों से सलाह लेकर लिखि
08 अक्तूबर 2017
18 अक्तूबर 2017
6 साल पहलेमैंने मुंशी प्रेमचंद जी की लघुकथाओं का संग्रह ख़रीदा था। कथा संग्रह २ भागों में था परपढने का कभी समय ही नही मिला। करीब 2.5 वर्ष पहलेजब मेरी माँ का देहांत हुआ तब मन बड़ा ही व्यथित था। जीवन से मन उचट सा गया था। तब मैंने वो कथासंग्रह पढना शुरू किया पर 10-12 कथाओं के बाद पढने की हिम्मत ही न रही।
18 अक्तूबर 2017
27 अक्तूबर 2017
. आज यदि देखा जाये तो महिलाओं के लिए घर से बाहर जाकर काम करना ज़रूरी हो गया है और इसका एक परिणाम तो ये हुआ है कि स्त्री सशक्तिकरण के कार्य बढ़ गए है और स्त्री का आगे बढ़ने में भी तेज़ी आई है किन्तु इसके दुष्परिणाम भी कम नहीं हुए हैं जहाँ एक तरफ महिलाओं को कार्यस्थल
27 अक्तूबर 2017
29 सितम्बर 2017
शब्दों का अपने-आप में कोई खास महत्व नही। चारों ओर शब्द ही शब्द हैं। मगर, फिर भी उनका किसी पर असर हो, इसके लिए शब्दों की अच्च्छाई और उपयोगिता तभी बन पाती है जब शब्दों को बेहद उम्दा और ढेर सारे प्यार, आस्था और अपनेपन से स्वीकार किया जाए।शब्द तभी कामयाब और असरदार होते हैं जब उनको सुनने वाले की कहने वाल
29 सितम्बर 2017
11 अक्तूबर 2017
फिल्मों का शौक शुरू से रहा हैं पर गोविंदा वाली पीढ़ी में जन्म लेने के कारण कभी भी मनमोहन देसाई के ज़माने की फिल्में देखना अच्छा नही लगा। गुरुदत्त, राज कपूर की फिल्में तो जैसे किसी और ही दुनियां की लगती थी। राजेन्द्र कुमार, दिलीप कुमार, राजेश खन्ना, जितेंद्र, विनोद खन्ना, शत्रुघन सिन्हा, धर्मेंद्र, विन
11 अक्तूबर 2017
04 अक्तूबर 2017
PM मोदी ने रखी शौचालय की नींव, बोले-शौचालय महिलाओं के लिए इज्जतघर वाराणसी : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी दौरे पर शहंशाहपुर में शौचालय की नींव रख स्वच्छता अभियान की शुरुआत की पीएम ने यहां एक जमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि हम में से कोई गंदगी में नहीं रहना
04 अक्तूबर 2017
24 अक्तूबर 2017
दिल्ली के गांधीनगर में पांच वर्षीय गुडिया के साथ हुए दुष्कर्म ने एक बार फिर वहां की जनता को झकझोरा और जनता जुट गयी फिर से प्रदर्शनों की होड़ में .पुलिस ने एफ.आई.आर.दर्ज नहीं की ,२०००/-रूपए दे चुप बैठने को कहा और लगी पुलिस पर हमला करने -परिणाम एक और लड़की दुर्घटना की
24 अक्तूबर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x