मेरी कविता -इजहार

14 अक्तूबर 2017   |  उपासना पाण्डेय   (177 बार पढ़ा जा चुका है)

सर्द सी रात और वो जनवरी की मुलाकात

तुम्हारा वो प्यार,मेरा वो तुमसे मोहब्बत का इजहार

वो तेरा सुहाना सा सफर और वो जनवरी की

हमारी पहली मुलाकात, तुम्हारा मेरी ज़िंदगी मे आना

और ज़िन्दगी का एक पल का सफर

उम्र भर का तुम्हारा साथ और तुम्हारा वो अपनेपन

का एक एहसास, और तुमसे मिलने का वो ख्वाब

वो तुम्हारा पहला इनकार,और फिर वो तुम्हारा बेइंतहा

प्यार,कितनी खास थी वो रात जब तुमसे मोहब्बत

का इजहार किया था,और तुम्हारा वो इंकार

मुझे खलता बहुत था,मोहब्बत पर यकीन नही था तुम्हे

आज शायद समझा तुमने चाहत को हमारी

तभी तो आज भी हम है साथ,बस तेरा साथ मिलता रहे,और चाहिये मुझे ज़िन्दगी का भर प्यार।।


"उपासना पाण्डेय(आकांक्षा)

आज़ाद नगर हरदोई(उत्तर प्रदेश)

अगला लेख: कहानी-मेरी क्या पहचान है



अजीत सिंहः
02 नवम्बर 2017

सुन्दर पंक्तियाँ....👏👏👏

उपासना पाण्डेय
20 दिसम्बर 2017

थैंक्स

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
दि
26 अक्तूबर 2017
10 अक्तूबर 2017
14 अक्तूबर 2017
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x