सच ! तू तो बदल गया .

28 अक्तूबर 2017   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (229 बार पढ़ा जा चुका है)

सच ! तू तो बदल गया .

पड़ोस में आंटी की सुबह सुबह चीखने की आवाज़ सुनाई दी .... ''अजी उठो ,क्या हो गया आपको ,अरे कोई तो सुनो ,देखियो क्या हो गया इन्हें ...'' हालाँकि हमारा घर उनसे कुछ दूर है किन्तु सुबह के समय कोलाहल के कम होने के कारण उनकी आवाज़ साफ़ सुनाई दे रही थी ,मैंने ऊपर से आयी अपनी बहन से कहा कि ''आंटी ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रही हैं लगता है कि अंकल को कुछ हो गया है ,वैसे भी वे बीमार रहते हैं ''वह ये सुनकर एकदम भाग ली और उसके साथ मैं भी घर को थोडा सा बंदकर भागी ,वहाँ जाकर देखा तो उनके घर के बराबर में आने वाले एक घर से दो युवक उनकी सहायता के लिए आ गए थे किन्तु अंकल को जब डाक्टर को दिखाया तो वे हार्ट-अटैक के कारण ये दुनिया छोड़ चुके थे किन्तु आंटी के बच्चे दूर बाहर रहते हैं और उनके आने में समय लगता इसलिए उन्हें यही कहा गया कि अंकल बेहोश हैं .उनके पास उनके घर का कोई आ जाये तब तक के लिए मैं भी वहीँ रुक गयी .बात बात में मैंने उनसे पूछा कि आंटी ये सामने वाली आंटी क्या आजकल यहाँ नहीं हैं ?मेरा प्रश्न सुनकर उनकी आँख भर आयी और वे कहने लगी कि यहीं हैं और देखलो आयी नहीं .मैं भी आश्चर्य मैं पड़ गयी कि आखिर कोई इतना मतलबी कैसे हो सकता है ?आंटी जिस तरह से चिल्ला रही थी उससे कोई भी इंसान यहाँ आकर उनकी मदद कर सकता था और उस पर वह, जिसके हाथ टूटने पर कितने ही दिन अपनी बेटी को भेजकर उन्होंने खाना बनवाया था,वह ऐसा करे तो इंसानियत से भरोसा तो उठता ही है .

आज मतलब इतना हावी है कि हर जगह आदमी ये देखकर मदद को आगे बढ़ रहा है कि मेरा यहाँ से क्या मतलब हल हो सकता है यदि कोई मतलब हल होता है तो वह पत्थर भी ढो लेगा और यदि मतलब हल न होता हो तो सुपरिचितों से भी अनजानों जैसा व्यवहार करने में संकोच नहीं करेगा.ऐसा नहीं है कि ये कोई आज की बात है ये पिछले काफी वर्षों से चल रहा है .

एक लड़की जो हमसे पिछली कक्षाओं की किताबें ले लेती थी वह जब उसे किताब लेनी होती थी तो जब जब हमारे सामने से गुज़रती चाहे एक दिन में दस बार तो मुस्कुराकर ,सर झुकाकर नमस्ते करती थी और जब किताब ले लेती थी तब सामने से ऐसे निकल जाती थी जैसे हमें जानती ही न हो .

यही नहीं मतलब आदमी को कितना विनम्र बनाता है इसका बहुत सुन्दर उदाहरण ये है कि आपसे ३०-४० साल बड़ा आदमी भी आपको ''बेटी नमस्ते ''कहता है भले ही उसे आपके पिता से काम हो , मतलब आज १० -१० साल के बच्चों में नज़र आने लगा है जब उन्हें कुछ चाहिए हो तो मुस्कुराना शुरू और नहीं तो ऐसे देखते हैं जैसे हमने उनका सब कुछ लूट लिया हो . आज मतलब की इस दुनिया पर बस यही कहा जा सकता है - ''देख तेरे संसार की हालत

क्या हो गयी भगवान,

कितना बदल गया इंसान .''


शालिनी कौशिक

[कौशल ]

अगला लेख: तैमूर -आराध्या! प्लीज़ हमें रोटी दे दो .



Lakshmi
06 नवम्बर 2017

दूसरो को क्या दोष दे मन के अंदर झांके तो हम मै भी वही बुराई नजर आती है ।

हार्दिक धन्यवाद

बहुत सही विश्लेषण

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अक्तूबर 2017
मेरी पिछली पोस्ट ''पारिवारिक निपटान आलेख और मानस जायसवाल ''में मानस जायसवाल जी ने एक प्रश्न और पूछा था ,जो कुछ इस प्रकार था - धन्यवाद शालिनी जी, अभी भी एक सवाल बाकी है | अपने वाद के अनुसार पूछता हूँ| पाकिस्तान से विस्थापित होकर आए 3 भाई एक नए शहर में बस गए| उन्होंने खुली नीलामी में अलग
20 अक्तूबर 2017
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x